Top

युवा पीढ़ी को बताएंगे आजादी के संघर्ष की कहानी : सीएम योगी

युवा पीढ़ी को बताएंगे आजादी के संघर्ष की कहानी : सीएम योगी

  • काकोरी में स्मारक स्थल पर शहीदों को नमन
  • सीएम योगी ने काकोरी शहीद स्मारक स्थल का निरीक्षण भी किया
  • अमर शहीदों को अर्पित की पुष्पांजलि, परिवार वालों को भी याद किया
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के विख्यात शहीद स्थल काकोरी में अमृत महोत्सव का शुभारंभ किया। काकोरी के शहीद स्मारक पर अमृत महोत्सव कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक तथा आशुतोष टंडन भी थे। मुख्यमंत्री ने काकोरी में शहीदों को नमन किया। काकोरी शहीद स्मारक में अमृत महोत्सव में सीएम योगी ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने शहीदों को नमन करने के साथ देश की आजादी में उनके बेहद अहम योगदान पर प्रकाश डाला। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों से अपील की है कि वह अपने कार्य क्षेत्र में ईमानदारी से कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए 25 वर्ष की उस कार्ययोजना को मूर्त रूप दें, जिससे कि वर्ष 2047 में एक भारत, श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना साकार हो सके। देश की स्वतंत्रता आंदोलन के नायक राम प्रसाद बिस्मिल, राजेंद्र नाथ लाहिड़ी, चंद्रशेखर आजाद, रोशन सिंह, अशफाक उल्लाह खां को अपने श्रद्धासुमन अॢपत करते हुए सीएम योगी ने कहा कि इन महान क्रांतिकारियों के जीवन का लक्ष्य ही देश की स्वाधीनता थी। उस समय जब भारत की जनता के पैसे का इस्तेमाल भारतीयों के दमन के लिए किया जा रहा था, तब आजादी के इन मतवालों ने काकोरी कांड को अंजाम देकर अंग्रेजी हुकूमत को चुनौती दी थी। सीएम योगी ने कहा आजादी का अमृत महोत्सव 75 सप्ताह चलाया जाएगा। उन्होंने कहा 4 फरवरी 1922 को चौरी चौरा की घटना घटी थी। हम लोग आज उस घटना ने नायकों को नमन कर रहे हैं। उन्होंने कहा अमृत महोत्सव लखनऊ के अलावा मेरठ, झांसी और बलिया में भी ऐसे ही कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं। सीएम योगी ने कहा ऐसे कार्यक्रम देश की वर्तमान पीढ़ी को स्वतंत्रता आंदोलन से रूबरू करते हुए वर्तमान चुनौतियों से लड़ने के लिए भी प्रेरित करेंगे। युवा पीढ़ी को यह एहसास भी दिलाएंगे कि आजादी हमें यूं ही नहीं मिली। इसके लिए अनगिनत संघर्ष हुए।
श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को करेंगे साकार
सीएम योगी ने कहा कि 2022 देश की आजादी के अमृत महोत्सव का है। इस वर्ष हमें 25 वर्षों की उस कार्य योजना को भी साथ लेकर चलना होगा कि जब 2047 में भारत अपनी स्वतंत्रता के 100 वर्ष मना रहा होगा तो उसकी उपलब्धियां भी उस ऐतिहासिक क्षण के अनुरूप हो। यदि हर नागरिक अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से निर्वहन करेगा तो हम भारत को एक महान देश के रूप में दुनिया के सामने स्थापित कर सकेंगे और एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को साकार कर सकेंगे। मुख्यमंत्री ने काकोरी शहीद स्मारक स्थल का निरीक्षण किया और काकोरी कांड के अमर शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की।


अयोध्या: महिला से दुष्कर्म, हिरासत में बाबा
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। अयोध्या में एक महिला से दुष्कर्म का सनसनीखेज मामला सामने आया है। महिला का आरोप है जिला अस्पताल में एम्बुलेंस चालक और कुछ स्वास्थ्य कर्मियों ने उसके साथ उपचार के बहाने दुष्कर्म किया। घटना देर रात की है। मामले में महिला के ससुराली जनों की ओर से अयोध्या के एक बाबा पर दुष्कर्म की आशंका व्यक्त करते हुए कोतवाली नगर में मुकदमा दर्ज कराया है। पीड़ित महिला गोसाईगंज थाना क्षेत्र की है। वह गत सात मार्च से रामनगरी के एक मंदिर में रुकी हुई थी। बुधवार को तबीयत खराब होने पर उसको बाबा ने पहले श्रीराम चिकित्सालय में भर्ती कराया, लेकिन हालत खराब देख उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। महिला का आरोप है कि जिला अस्पताल पहुंचने के बाद उसे उपचार के लिए ड्रेसिंग रूम में ले जाया गया, जहां एंबुलेंस चालक और अस्पताल के चार कर्मियों ने दुष्कर्म किया। सीएमएस डॉ. सीबीएन त्रिपाठी का कहना है कि महिला की ओर से आरोप लगाया गया है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। कोतवाल नीतीश श्रीवास्तव का कहना है कि महिला के ससुर ने बाबा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। छानबीन में प्रथम दृष्टया जिला अस्पताल कर्मियों पर लगाया गया आरोप संदिग्ध मालूम पढ़ रहा है। बाबा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। उसे हिरासत में रखा गया है। महिला बार-बार बयान भी बदल रही है।

ग्रामीण क्षेत्रों में जनाधार बढ़ाने के लिए 15 मार्च को लखनऊ में जुटेंगे भाजपाई

  • पंचायत चुनाव के लिए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कसी कमर
  • सोमवार को होने वाली बीजेपी कार्यसमिति की बैठक में तय होगी चुनावी रणनीति
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। बीजेपी की उत्तर प्रदेश कार्यसमिति की 15 मार्च को प्रस्तावित बैठक में चुनावी रणनीति तय होगी। पंचायत चुनाव की घोषणा इसी माह है, जबकि अगले वर्ष विधानसभा चुनाव होने हैं। इस कारण कार्यसमिति की बैठक को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। एक दिनी बैठक में संगठनात्मक समीक्षा होगी और पंचायत चुनाव की कार्ययोजना भी बनेगी। लखनऊ में इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में होने वाली बैठक में जिला व क्षेत्रीय स्तर पर संगठन की समीक्षा के साथ आगामी कार्यक्रमों को अंतिम रूप दिया जाएगा। बीजेपी कार्यसमिति बैठक की तैयारियां शुरू हो गई है। बैठक के दौरान पूरे लखनऊ शहर को भाजपामय बनाने का निर्णय लिया गया है। झंडे, बैनर व होर्डिंग्स लगाने के साथ ही प्रमुख स्थानों पर सजावट की जाएगी। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की अध्यक्षता में होने वाली प्रदेश कार्यसमिति की बैठक का उद्ïघाटन पूर्व राष्टï्रीय अध्यक्ष व रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे। समापन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे। बैठक में प्रदेश भर से करीब 600 नेताओं के शामिल होने की संभावना है। कार्यसमिति सरकार की चार वर्ष की उपलब्धियों को लेकर जनता के बीच जाने का कार्यक्रम को भी अंतिम रूप देगी।
कार्यकर्ताओं को लड़ने के लिए किया जाएगा प्रोत्साहित
सत्ता में रहते हुए भारतीय जनता पार्टी के लिए मौजूदा पंचायत चुनाव अहम होगा। ग्रामीण क्षेत्रों में जनाधार बढ़ाने के लिए अधिक से अधिक सीटों पर भाजपा कार्यकर्ताओं को उतारा जाएगा। हालांकि पार्टी की ओर से केवल जिला पंचायत सदस्यों के चुनाव के लिए ही समर्थित प्रत्याशियों की सूची जारी की जाएगी। सूत्रों का कहना है कि क्षेत्र पंचायत सदस्य और पंचायतों में प्रधान पदों पर पार्टी कार्यकर्ताओं को लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

प्रेमचंद के सुसाइड नोट में गंभीर आरोप, कोई कार्रवाई नहीं

  • नूतन ठाकुर ने आत्महत्या मामले में जांच की मांग की
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने विधान सभा सचिवालय के बर्खास्त अनुसेवक प्रेमचंद पाल द्वारा अक्टूबर 2019 में आत्महत्या किए जाने के मामले में जांच की मांग की है। पुलिस कमिश्नर लखनऊ, डीजीपी तथा अन्य अधिकारियों को भेजी अपनी शिकायत में नूतन ने कहा उन्हें प्रेमचंद पाल के 14 अक्टूबर 2019 के दो सुसाइड नोट मिले हैं। सुसाइड नोट में कहा गया है कि उनकी मौत के जिम्मेदार प्रमुख सचिव विधान सभा तथा रेखा दीक्षित हैं। दोनों लोगों ने उनकी जिंदगी बर्बाद कर दी। टाइप्ड सुसाइड नोट के अनुसार पाल का कार्य संतोषप्रद होने के बाद भी उन्हें षडयंत्र के तहत बर्खास्त कर दिया गया, जिसके कारण उनका परिवार भुखमरी के कगार पर पहुंच गया था। नोट के अनुसार उनकी बर्खास्तगी में प्रमुख भूमिका प्रदीप दुबे, प्रमुख सचिव, सीपी तिवारी समीक्षा अधिकारी, सुरेश द्विवेदी, ज्ञानदत्त दीक्षित, दीपक कुमार मिश्रा आदि की थी, जिन्होंने झूठा आरोप लगा कर उन्हें बर्खास्त कर दिया। नोट के अनुसार फर्जी तरीके से उनके नाम पर विधान सभा की सोसाइटी से 22,24,023 लाख रुपए का लोन ले लिया गया, जबकि उस लोन में प्रेमचंद पाल को मात्र 3,50,000 लाख ही मिला, बाकी पैसा ज्ञानदत्त दीक्षित, अनुभाग अधिकारी द्वारा ले लिया गया। नूतन के अनुसार ये दोनों सुसाइड नोट मिलने के बाद भी इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गयी। न तो कोई एफआईआर दर्ज हुई और न ही कोई जांच की गयी। उन्होंने कहा सुसाइड नोट भी गायब कर दिए गए हैं। इसलिए नूतन ने इन आरोपों को सत्यापित कर मामले में विधिक कार्रवाई की मांग की है।

Next Story
Share it