Top

कानपुर-फैजाबाद के लिए पैसेंजर ट्रेन शुरू

कानपुर-फैजाबाद के लिए पैसेंजर ट्रेन शुरू

  • कानपुर का किराया 45 रुपए, बाराबंकी का 30 रुपए
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। लखनऊ से कानपुर और फैजाबाद के बीच कोरोना काल से बंद पड़ी पैसेंजर ट्रेनें आज से फिर दोबारा पटरी पर दौड़ने लगी। खास बात यह है कि यात्रियों से पैसेंजर ट्रेन नहीं बल्कि मेल एक्सप्रेस ट्रेन का किराया लिया जाएगा। इन ट्रेनों में एमएसटीधारक यात्री सफर नहीं कर सकेंगे। उत्तर रेलवे के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक जगतोष शुक्ला ने बताया कि इस ट्रेन में यात्री बिना आरक्षण सफर कर सकेंगे। क्योंकि अभी तक जो ट्रेनें शुरू की गई है उसमें आरक्षण वाले ही यात्री सफर कर सकते हैं। लखनऊ से अजगैन का किराया 30 रुपए, उन्नाव 35, मगरवारा 40 जबकि कानपुर सेंट्रल का 45 रुपए किराया होगा। वहीं बाराबंकी, रसौली, सफदरगंज तक का किराया 30 रुपए जबकि फैजाबाद का 60 रुपए निर्धारित किया गया है। अगले महीने ट्रेनों की संख्या बढ़ेगी।
सुबह सात बजे कानपुर के लिए ट्रेन
ट्रेन नंबर 04203-फैजाबाद से तड़के 5:35 बजे चलकर लखनऊ 9:40 बजे पहुंचेगी। वापसी में ट्रेन नंबर 04204-लखनऊ से शाम 5:00 बजे चलकर फैजाबाद रात 9:25 बजे पहुंचेगी। ट्रेन नंबर 04213 लखनऊ से सुबह 7:05 बजे चलकर कानपुर 9:00 बजे पहुंचेगी। वापसी में ट्रेन नंबर 04214 कानपुर से शाम 6:50 बजे चलकर लखनऊ रात 9:40 बजे आएगी।


लापरवाही बरती तो तत्कालीन इंस्पेेक्टर पर एफआईआर
  • सीबीसीआईडी ने इंस्पेक्टर पर दर्ज करवाया केस
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। राजधानी के पारा थाना में तत्कालीन इंस्पेक्टर रणजीत सिंह भदौरिया के खिलाफ सीबीसीआईडी ने एफआईआर दर्ज कराई है। तत्कालीन इंस्पेक्टर रणजीत सिंह पर मई 2019 में भपटामऊ में हुई हत्या के मामले में दर्ज एफआईआर में लापरवाही बरतने के साथ ही हत्या के आरोपी को लाभ पहुंचाने का आरोप है। रणजीत वर्तमान में प्रतापगढ़ के लालगंज कोतवाली में तैनात है। जानकारी के मुताबिक पारा थाना क्षेत्र में तीन लोगों ने मिलकर बीते एक मई 2019 को एक युवक की हत्या कर दी थी। इस मामले में पारा थाने मुकदमा दर्ज किया गया था। मामले की विवेचना तत्कालीन इंस्पेक्टर रणजीत सिंह भदौरिया को दी गई थी। मामले में रणजीत सिंह द्वारा हत्या में इस्तेमाल की गई ईंट, मृतक के चप्पल सहित अन्य साक्ष्य संकलित नहीं किए थे। वहीं आरोपियों को भी हफ्तेभर थाने में बैठाए रखा। पीड़ित परिवार ने इसकी शिकायत मानवाधिकार से की, जिसके बाद जांच सीबीसीआईडी को चली गई। जांच में रणजीत सिंह पर लगाए गए सभी आरोप सही पाए गए। सीबीसीआईडी ने इंस्पेक्टर के खिलाफ पारा कोतवाली में एफआईआर कराई है।

पुडुचेरी में कांग्रेस की सरकार गिरी

4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। केन्द्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में कांग्रेस की अगुआई वाली सरकार गिर गई। मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी आज बहुमत साबित नहीं कर सके और अपने विधायकों के साथ सदन से वॉकआउट कर दिया। मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने उपराज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। विधानसभा के विशेष सत्र में उन्होंने कहा कि पूर्व राज्यपाल किरण बेदी और केन्द्र सरकार ने विपक्ष के साथ मिलकर सरकार गिराने की कोशिश की। अगर हमारे विधायक हमारे साथ होते तो सरकार पांच साल चलती। नारायणसामी ने कहा कि हमने द्रमुक और निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई थी। इसके बाद हमने कई चुनाव देखे। सभी उपचुनावों में हमने जीत दर्ज की। एक बात साफ हो चुकी है कि पुडुचेरी के लोगों का हम पर भरोसा है।

Next Story
Share it