Top

ट्रेन की दो बोगियां पटरी से उतरीं, यात्रियों में हड़कंप

ट्रेन की दो बोगियां पटरी से उतरीं, यात्रियों में हड़कंप

  • लखनऊ के चारबाग रेलवे जंक्ïशन पर टला बड़ा हादसा
  • शहीद एक्सप्रेस के दो डिब्बे हुए दुर्घटनाग्रस्त, सभी यात्री सुरक्षित
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। चारबाग रेलवे स्टेशन पर बड़ा हादसा होने से बचा। शहीद एक्सप्रेस ट्रेन के दो डिब्बे आज सुबह पटरी से उतर गए। स्टेशन के नजदीक खम्बनपीर ब्रिज के पास गाड़ी संख्या 14674 के डिब्बे पटरी से उतरने पर यात्रियों में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में मौके पर पहुंची आरपीएफ और जीआरपी ने सुरक्षा इंतजाम शुरू किया। इस घटना में किसी भी यात्री को कोई नुकसान नहीं पहुंचा। कुछ यात्रियों को मामूली चोटे आई हैं। उनको स्टेशन पर ही मेडिकल सुविधाएं दे दी गई। जानकारी के मुताबिक आज सुबह लगभग 7:45 पर ट्रेन 14674 शहीद एक्सप्रेस अमृतसर से जयनगर जा रही थी। इस दौरान दो कोच डी-1 और बी-5 पटरी से उतरकर यार्ड में आ गए। डी -1 एसी कोच है जबकि बी-5 स्लीपर है। दोनों में मिलाकर लगभग 80 यात्री सवार थे। सूचना पर रेलवे अफसर घटनास्थल पर पहुंचकर यात्रियों की देखभाल करने से लेकर पटरी से ट्रेन के दो डिब्बे उतरने के कारण का पता लगाने में जुटे रहे। यह घटना चारबाग रेलवे स्टेशन से 50 मीटर पहले की है। यात्रियों को ट्रेन में बैठाकर रवाना किया गया। रेलवे ने बताया कि ट्रेन के सभी यात्री सुरक्षित रहे। इस दौरान डेढ़ घंटे तक लाइन बाधित रही। नाका कोतवाली के थाना प्रभारी मनोज मिश्रा ने बताया कि हादसे में किसी यात्री को ज्यादा चोट नहीं आई है। सभी सुरक्षित अपने गंतव्य को रवाना हो गए हैं।


दिल्ली में किसानों को एंट्री मिले या नहीं, यह पुलिस तय करेगी
  • 26 को ट्रैक्टर रैली पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा
  • जनवरी को होगी मामले पर सुनवाई
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ जारी हल्लाबोल के बीच किसानों ने ऐलान किया है कि वे 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में टैक्टर रैली निकालेंगे। इसे रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, जिस पर आज सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह दिल्ली पुलिस का काम है कि वह तय करे कि दिल्ली में कौन आएगा और कौन नहीं। कोर्ट ने कहा कि शहर में कितने लोग, कैसे आएंगे ये पुलिस तय करेगी। अब इस मामले पर बुधवार यानी 20 जनवरी को सुनवाई होगी।
सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ने कहा कि यह मामला कानून-व्यवस्था से जुड़ा है और इसके बारे में फैसला पुलिस लेगी। इस मामले से निपटने के लिए आपके पास सारे अधिकार हैं। दिल्ली में किसे प्रवेश देना चाहिए, इस बारे में फैसला करने का पहला अधिकार पुलिस को है। हम आपको यह नहीं बताने जा रहे कि आपको क्या करना चाहिए, इस विषय पर 20 जनवरी को विचार करेंगे। दरअसल, उच्चतम न्यायालय सोमवार ने केंद्र सरकार की याचिका पर सुनवाई की, जो दिल्ली पुलिस के मार्फत दायर की गई है। याचिका के जरिए 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस समारोह में व्यवधान डाल सकने वाले किसानों की प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली या इसी तरह के अन्य प्रदर्शन को रोकने के लिए न्यायालय से आदेश जारी करने का अनुरोध किया गया है। कृषि कानूनों का प्रदर्शन कर रहे किसान यूनियनों ने कहा कि वे गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में अपनी प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड निकालेंगे और साथ ही उन्होंने कृषि कानूनों को निरस्त किये जाने तक अपना आंदोलन जारी रखने की प्रतिबद्धता जाहिर की। वहीं दूसरी ओर कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने 19 जनवरी को होने वाले वार्ता के अगले दौर में कानूनों को निरस्त किये जाने की बजाय विकल्पों पर चर्चा करने का आग्रह किया।

Next Story
Share it