Top

कोरोना से कोहराम : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा- वैक्सीन की कीमतों में क्यों है अंतर

कोरोना से कोहराम : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा- वैक्सीन की कीमतों में क्यों है अंतर

  • चौबीस घंटे में तीन लाख 86 हजार संक्रमित, मौतों का भी बढ़ा ग्राफ
  • सौ फीसदी टीकों की खरीद क्यों नहीं करती केंद्र सरकार
  • क्या मरीजों के अस्पताल में दाखिले के लिए राष्टï्रीय नीति बनाएगी सरकार
  • 18 साल के ऊपर वालों का वैक्सीनेशन अधर में, कई राज्यों ने खड़े किए हाथ
4पीएम न्यूज नेटवर्क. नई दिल्ली। भारत में कोरोना की नयी लहर ने तबाही मचा दी है। संक्रमितों का आंकड़ा रोज नए रिकॉर्ड बना रहा है। बीते चौबीस घंटे में तीन लाख 86 हजार से अधिक संक्रमित हुए हंै जबकि एक दिन में मौतों का आंकड़ा साढ़े तीन हजार के करीब पहुंच गया है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा है कि वैक्सीन के दामों में अंतर क्यों है। वहीं कई राज्यों ने वैक्सीन की कमी का हवाला देते हुए 18 साल से ऊपर के उम्र वालों का अभी वैक्सीनेशन कराने से इंकार कर दिया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 3,86,452 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 3498 मरीजों की कोरोना संक्रमण से मौत हुई है। अब तक इस महामारी की चपेट में आने वालों की संख्या बढ़कर 1,87,54,925 हो गई। वहीं मरने वालों की संख्या ब़़ढकर 2,08,313 हो गई। इस दौरान 2,87,081 लोगों ठीक भी हुए हैं। वहीं देश में फैले कोरोना संकट को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है। सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ ने की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय विशेष पीठ ने कहा कि केवल राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों की ही जांच होगी। सुप्रीम कोर्ट ने सवाल किया कि केंद्र सरकार 100 फीसदी टीकों की खरीद क्यों नहीं करती। इसे राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के मॉडल पर राज्यों को वितरित क्यों करती ताकि वैक्सीन की दामों में अंतर न रहे। राज्यों और केंद्र को मिलने वाली वैक्सीन के दाम में अंतर क्यों है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आखिरकार यह देश के नागरिकों के लिए है। न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि अनपढ़ या जिनके पास इंटरनेट एक्सेस नहीं है, वे कैसे वैक्सीन लगवाएंगे। केंद्र को फटकारते हुए कोर्ट ने कहा कि क्या केंद्र सरकार मरीजों के लिए अस्पतालों में दाखिले पर कोई राष्ट्रीय नीति बना रहा है? क्या मूल्य निर्धारण को विनियमित किया जा रहा है। केंद्र दिल्ली के प्रति जवाबदेह है, उसे यहां ऑक्सीजन की आपूर्ति करनी होगी। वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया कि 1 मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र वालों को अभी वैक्सीन नहीं लगेगी क्योंकि वैक्सीन का जो ऑर्डर किया है वह नहीं पहुंची है। हालांकि, राज्य में 45 साल से अधिक उम्र वाले लोगों के लिए वैक्सीनेशन प्रोग्राम जारी रहेगा। राजस्थान सरकार ने भी वैक्सीन की कमी का हवाला देते हुए 15 मई से वैक्सीनेशन ओपन करने का फैसला किया है। महाराष्ट्र का कहना है कि उन्होंने वैक्सीन का ऑर्डर दिया है, लेकिन सप्लाई नहीं हुई है। ऐसे में मुंबई में तीन दिन के लिए वैक्सीनेशन पूरी तरह से रोक दिया गया है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखी है। सीएम ने लिखा है कि बड़ी संख्या में रजिस्ट्रेशन होने और उस अनुपात में वैक्सीन उपलब्ध न होने से से टीकाकरण में समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अभी तक वैक्सीन हमें नहीं मिली है। जैसे ही वैक्सीन आएगी। हम सभी को बताएंगे। पहले दिन करीब सवा करोड़ रजिस्ट्रेशन हुए। दूसरे दिन भी करीब एक करोड़ रजिस्ट्रेशन हुए हैं।

सोशल मीडिया पर अपील करने वाले के खिलाफ कार्रवाई नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सोशल मीडिया पर इस संकट के समय लोगों द्वारा अपील करने पर कोई भी राज्य उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं कर सकती या कोई कार्रवाई नहीं कर सकती। सुप्रीम कोर्टने कहा कि उन डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों को इलाज देने के लिए क्या किया जा रहा है जो कोविड-19 के संपर्क में है?



सीएम ने गठित की टीम 9, लोगों को मदद पहुंचाने की जिम्मेदारी
लखनऊ। कोरोना की नयी लहर से निपटने के लिए सीएम योगी ने अब नई रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। सीएम ने कोरोना नियंत्रण के लिए बनाई टीम इलेवन में बदलाव किया है। उन्होंने अब अपनी टीम इलेवन की जगह टीम-नाइन बना दी है। सीएम योगी ने नई टीम को स्पष्ट निर्देश दिया है कि आम लोगों को कोई दिक्कत नहीं आनी चाहिए। अफसर संवेदनशीलता और तत्परता के साथ लोगों तक मदद पहुंचाएं। सीएम ने आम लोगों तक हर तरह की सीधे सहायता पहुंचाने के लिए टीम नाइन को जिम्मेदारी दी है। टीम में चिकित्सा शिक्षा मंत्री व स्वास्थ्य मंत्री के नेतृत्व में भी अफ़सरों की कमेटी बनाई गई है। आम लोगों को तत्काल भर्ती कराने, उनको जरूरी दवाएं दिलाने, अस्पतालों को ऑक्सीजन दिलाने, होम आइसोलेशन में रह रह लोगों तक आवश्यकता अनुसार ऑक्सीजन की उपलब्धता कराने के लिए योगी ने अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए हैं । इसके अलावा सीएम ने आज अवध शिल्प ग्राम में बने 500 बेड के कोविड अस्पताल की आईसीयू के ट्रायल का निरीक्षण किया।

मशहूर न्यूज एंकर रोहित सरदाना का निधन

मशहूर न्यूज एंकर रोहित सरदाना की कोरोना से मौत हो गई है। रोहित सरदाना इन दिनों आज तक न्यूज चैनल में एंकर के तौर पर काम कर रहे थे। लंबे समय से टीवी मीडिया का चेहरा रहे रोहित सरदाना इन दिनों आज तक न्यूज चैनल प्रसारित होने वाले शो दंगल की एंकरिंग करते थे। 2018 में ही रोहित सरदाना को गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार से नवाजा गया था। वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने भी रोहित सरदाना की मौत की जानकारी दी है। उन्होंने ट्विटर पर श्रद्धांजलि देते हुए कहा, दोस्तों बेहद दुखद खबर है। मशहूर टीवी न्यूज एंकर रोहित सरदाना का निधन हो गया है। उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना। उनके निधन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत विभिन्न दलों के नेता और बुद्धजीवियों ने शोक व्यक्त किया है।

Next Story
Share it