Top

लाखों श्रद्घालुओं ने संगम में लगाई आस्था की डुबकी

लाखों श्रद्घालुओं ने संगम में लगाई आस्था की डुबकी

  • मकर संक्रांति पर माघ मेला का पहला स्नान
  • प्रयागराज में उमड़ा भक्तों का जनसैलाब
  • मेले में कोरोना की गाइडलाइन का पालन
  • लखनऊ में सूर्य देव की उपासना के साथ श्रद्धालुओं ने किया दान
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। मकर संक्रांति से शुरू होकर महाशिवरात्रि तक चलने वाला आस्था का मेला संगम पर शुरू हो चुका है। इस बार 57 दिनों तक मेला चलेगा। मेले के लिए अभी भी प्रशासनिक स्तर पर तैयारियां जोरों पर हैं। मकर संक्रांति पर आज पहले स्नान पर्व पर 80 लाख से अधिक श्रद्धालुओं की पवित्र त्रिवेणी में डुबकी लगाने का अनुमान है। माघ मेले के दौरान छह प्रमुख स्नान होंगे। इसकी शुरुआत आज मकर संक्रांति से है। प्रशासन का अनुमान है कि इस बार साढ़े तीन करोड़ श्रद्धालु प्रयागराज आएंगे। मेला क्षेत्र में कोरोना की गाइडलाइन का भी ध्यान रखा गया है। सभी तीर्थ पुरोहितों से आने वाले कल्पवासियों का ब्योरा लेकर इसे वेबसाइट पर अपलोड किया जा रहा है। आस्था की डुबकी व श्रद्घा के स्नान में माघ मेले में यूपी सहित देशभर से श्रद्घालु पहुंच रहे हैं। वहीं संक्रांति पर गोमती के घाटों पर आस्था की डुबकी लगाकर श्रद्धालुओं ने सूर्य देव की पूजा कर दान पुण्य किया। सुबह से ही कुड़ियाघाट व झूलेलाल घाट पर स्नान करने के लिए लोगों का जमावड़ा लगा रहा। लोगों ने स्नान कर काले तिल व खिचड़ी का दान किया।


लखनऊ में ठंड का टॉर्चर बढ़ा, पारा गिरा
  • अभी शीतलहर से नहीं मिलेगी कोई राहत
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। पहाड़ों से आ रही उत्तर पश्चिमी बर्फीली हवाओं से गलन और ठिठुरन भरी ठंड का कहर जारी है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के कुछ स्थानों पर शीतलहर चलने की चेतावनी जारी की है। इस दरम्यान कहीं-कहीं धूप नहीं निकलेगी यानी कोल्ड डे रहेगा। वहीं कुछ इलाकों में सुबह व रात में घना कोहरा छाया रहने के भी आसार हैं। गुरुवार को राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के पश्चिमी हिस्सों में अधिकांश स्थानों पर कोहरे का साया रहा। हालांकि धूप निकलने से लोगों ने थोड़ी राहत जरूर महसूस की। लखनऊ में पहाड़ों से आ रही ठंडी हवाओं ने ठंड और बढ़ा दी है। तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है। बुधवार को तापमान सामान्य से चार डिग्री कम हो गया। जबकि न्यूनतम तापमान पांच डिग्री हो गया जो सामान्य से तीन डिग्री नीचे पहुंच गया है। ठंड लगातार बढ़ती जा रही है। मंगलवार को जहां दिन का तापमान 18.6 डिग्री सेल्सियस था वहीं बुधवार को इसमें 1 डिग्री से अधिक की गिरावट हुई है। यह 17.4 हो गया। वहीं न्यूनतम तापमान में भी गिरावट हुई है। इसकी वजह से ठंड और ठिठुरन बढ़ गई है। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि पहाड़ों पर हुई बर्फबारी का असर मैदानी इलाकों में दिखने लगा है।

मेडिकल कॉलेजों में मैनपावर सप्लाई में अनियमितता

4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने उत्तर प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में मैनपावर सप्लाई में कथित अनियमितता के संबंध में जांच की मांग की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ डीओपीटी, भारत सरकार तथा केंद्रीय सतर्कता आयोग को भेजी शिकायत में नूतन ने कहा कि उन्हें मिली जानकारी के मुताबिक मेसर्स हर्ष इंटरप्राइजेज के मुन्ना तिवारी को प्रदेश के कई मेडिकल कॉलेज में मैनपावर सप्लाई में अनियमित ढंग से काम दिया जा रहा है। जहां यूपी सरकार ने 2020 में मैनपावर का काम जेम पोर्टल से होने का आदेश दे दिया है। वहीं मुन्ना तिवारी बदायूं मेडिकल कॉलेज में बिना सरकारी अग्रीमेंट के मैनपावर का काम कर रहे हैं, जिसके एवज में उन्हें करोड़ों रुपए का भुगतान किया जा चुका है। इसी प्रकार तमाम मेडिकल कॉलेज द्वारा उनके फर्म के मद्ïदेनजर शर्तों में बदलाव किया गया है।
शिकायत के अनुसार पिछले दिनों कन्नौज मेडिकल कॉलेज में जेम के माध्यम से निविदा निकाली गयी, जिसमें 21 निविदा प्राप्त हुईं, जिसमें 18 निविदा को गलत ढंग से बाहर कर दिया गया। जिन तीन फर्म को अर्ह माना गया, वे सभी मुन्ना तिवारी से जुड़ी कंपनियां बताई गयी हैं जिन्होंने 16 दिसंबर 2020 को एक घंटे के अंदर निविदा डाला। शिकायत के अनुसार मुन्ना तिवारी मुख्य सचिव आर के तिवारी के निकट रिश्तेदार बताए गए हैं तथा उन्ही के दवाब में अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा रजनीश दुबे द्वारा इस फर्म को गलत टेंडर दिलाये जाने की बात कही गयी है। इसी कारण पूर्व में विधायक धर्मेंद्र शाक्य द्वारा दी गयी शिकायत की जांच भी अब तक नहीं की गयी है। नूतन ने इन सभी तथ्यों की जांच कराकर कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत 30 दिन का नोटिस जरूरी नहीं

4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने व्यवस्था दी है कि स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत प्रकाशित किया जाने वाला नोटिस अब अनिवार्य नहीं होगा। नोटिस का प्रकाशन वैकल्पिक होगा और यह जोड़ो के इच्छा पर निर्भर होगा। न्यायमूर्ति विवेक चौधरी की एकल पीठ ने एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर यह महत्वपूर्ण फैसला दिया। इस याचिका में पति ने आरोप लगाया था कि उसकी पत्नी को ससुर उसके साथ नहीं रहने देना चाहते। इसलिए उसे बाहर नहीं निकलने दे रहे हैं जबकि दोनों बालिग हैं और मर्जी से विवाह किया है। पत्नी के पिता की आपत्ति पति के दूसरे धर्म से होने के कारण है। न्यायालय के आदेश पर पत्नी को कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत किया गया। न्यायालय के पूछने पर उसने अपने पति के साथ जाने की इच्छा जताई।

Next Story
Share it