Top

सामूहिकता की जिस शक्ति ने गुलामी की बेड़ियों को तोड़ा वही देश को बनाएगी बड़ा

सामूहिकता की जिस शक्ति ने गुलामी की बेड़ियों को तोड़ा वही देश को बनाएगी बड़ा

  • चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव में बोले पीएम मोदी
  • किसानों को आत्मनिर्भर बनाएगी सरकार, मंडियों को बनाया जाएगा फायदे का बाजार
  • विशेष डाक टिकट जारी, साल भर चलेगा आयोजन
4पीएम न्यूज नेटवर्क. गोरखपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज चौरी-चौरा शताब्दी महोत्सव का शुभारंभ किया। साथ ही एक विशेष डाक टिकट भी जारी किया। उन्होंने कहा कि चौरी-चौरा में जो हुआ वह एक थाने में आग लगा देने की घटना भर नहीं थी, वह संदेश बहुत बड़ा और व्यापक था। आगजनी क्यों हुई ये महत्वपूर्ण है। आग थाने में नहीं लगी थी, जन-जन के हृदय में लगी थी। सामूहिकता की जिस शक्ति ने गुलामी की बेड़ियों को तोड़ा था वही शक्ति भारत को दुनिया में बड़ा बनाएगी। उन्होंने कहा कि देश की तरक्की में हमारा किसान भी रहा है। किसान आत्मनिर्भर बनें, इसके लिए पिछले 6 सालों में अनेक प्रोग्राम किए गए हैं। कोरोना के समय हमारा देश मजबूती से आगे बढ़ा और किसानों ने रिकार्ड अनाज का उत्पादन करके दिखाया। मंडी किसानों के फायदा का बाजार बने, इसके लिए एक हजार और मंडियों को जोड़ा जाएगा। ये सारे फैसले किसान को आत्मनिर्भर बनाएंगे। कृषि को और मजबूत बनाएंगे। सरकार एक ऐसा बजट लेकर आई है जिससे रोजगार पैदा होंगे। हमने कोई भी नया कर नहीं लगाया है।
हमारे टीकाकरण से सीख रहे दूसरे देश
पीएम ने कहा कि आज कोरोना से लड़ने में पूरी दुनिया में देश की तारीफ हो रही है। अनेक देश हमारे कोरोना टीकाकरण से सीख रहे हैं। कोरोना काल में भारत ने दुनिया के 150 देशों को जरूरी दवा भेजी और अपने नागरिकों को विदेश से लाया और विदेशी नागरिकों को विदेश भेजा। कोरोना काल में जो चुनौतियां आईं ये बजट उनको भी चुनौती दे रहा है।
बजट को लेकर विपक्ष पर साधा निशाना
बजट को लेकर पीएम मोदी ने विपक्ष का नाम लिए बिना निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पहले की सरकारों में बजट का इतना ही मतलब हो गया था, किसके नाम पर क्या घोषणा कर दी गई। बजट को वोट बैंक का लेखा-जोखा बना दिया गया था। पहले की सरकार ने बजट को वह घोषणा पत्र बना दिया था जो पूरी नहीं होती थी। अब देश ने सोच और अप्रोच बदल दी है।


चौरी-चौरा की घटना ने स्वतंत्रता आंदोलन को दी थी नई दिशा: सीएम
गोरखपुर। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह शहीदों के प्रति श्रद्धा व सम्मान व्यक्त करने का माध्यम है। 4 फरवरी 1922 को स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करने वाले तीन सेनानी शहीद हुए थे। 228 को अभियुक्त बनाया गया था। 170 लोगों में से सेनानियों को अलग-अलग सजाएं हुईं। इस घटना ने स्वतंत्रता आंदोलन को नई दिशा दी थी। उन्होंने कहा कि चार फरवरी 1922 को स्वाधीनता संघर्ष में यहां पुलिस और स्थानीय जनता के बीच संघर्ष में पुलिस की गोली से स्वाधीनता के लिए संघर्ष करने वाले तीन सेनानी शहीद हुए थे। उसके बाद 228 पर ब्रिटिश हुकुमत ने मुकदमा चलाया था जिनमें 225 को सजा दी गई थी। उन्होंने कहा कि 1857 से स्वतंत्रता प्राप्ति तक एवं उसके बाद देश की रक्षा में शहीद होने वाले जवानों के सम्मान में यह कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। हर स्मारक पर पुलिस बैंड, दीपोत्सव व राष्ट्रभक्तिगीतों के गायन का आयोजन होगा। विद्यालयों में तरह-तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन होगा। चौरी-चौरा पर विशिष्ट शोध को बढ़ावा देने का कार्यक्रम भी शुरू हुआ है। इससे पहले मुख्यमंत्री चौरी-चौरा शहीद स्थल पर पहुंचे और शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। यह समारोह साल भर चलेगा।

आंदोलन जारी, किसानों से मिलने पहुंचे विपक्षी सांसदों को पुलिस ने लौटाया

  • सुरक्षा कड़ी, विपक्षी सांसदों ने सरकार पर साधा निशाना किसानों से वार्ता करने को कहा
4पीएम न्यूज नेटवर्क. नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। सिंघु बॉर्डर पर 71वां और गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों के आंदोलन को आज 69वां दिन है। वहीं, विपक्षी नेताओं का दल किसानों से मिलने गाजीपुर बॉर्डर पहुंचा लेकिन पुलिस ने पहले ही रोक दिया। विपक्षी नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल गाजीपुर बॉर्डर पहुंचा। विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल को पुलिस ने लौटा दिया। इस प्रतिनिधिमंडल में एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले, डीएमके सांसद कनिमोझी, एसएडी सांसद हरसिमरत कौर बादल और टीएमसी सांसद सौगत रॉय समेत कई नेता शामिल हैं। हरसिमरत कौर ने कहा कि हमें भी यहां रोका जा रहा है। हमें किसानों से मिलने नहीं दे रहे है। एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने कहा कि हम किसानों का समर्थन करते हैं, हम सरकार से किसानों के साथ बातचीत करने का अनुरोध करते हैं। वहीं सिंघु बॉर्डर पर किसानों के विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए सुरक्षाबल की तैनाती जारी है।

हादसे में मृत किसान के परिजनों से मिलने रामपुर पहुंचीं प्रियंका

लखनऊ। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका वाड्रा आज रामपुर पहुुंचीं। कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव एवं पूर्व विधायक संजय कपूर ने बताया कि वह बिलासपुर के डिबडिबा गांव मेंं किसान नवरीत सिंह के भोज कार्यक्रम में शामिल होंगी। किसान नेता राकेश टिकैत के बेटे गौरव ने उनका स्वागत किया। रामपुर के किसान नवरीत की गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान एक हादसे में मौत हो गई थी। मुरादाबाद के कांग्रेस पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए। इसके पहले रामपुर दौरे पर निकलीं प्रियंका के काफिले में चल रहीं कई गाड़ियां आपस में टकरा गईं थीं।

Next Story
Share it