उत्तराखंड कांग्रेस का मिशन 2022 शुरू

उत्तराखंड कांग्रेस का मिशन 2022 शुरू

  • कार्यकारी अध्यक्षों को सौंपे काम, पार्टी युद्धस्तर पर तैयार

देहरादून। उत्तराखंड कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन के साथ ही नया जोश नजर आने लगा है। पहले दिन नए अध्यक्ष गणेश गोदियाल की टीम ने कमेटी के अध्यक्षों के साथ मीटिंग की। वहीं अलग-अलग कोऑर्डिनेटरों के साथ भी बैठक हुई। मीटिंग में तय हुआ कि सभी कमेटियां अगले एक हफ्ते में अपनी रिपोर्ट सौंपेंगी और उसी रिपोर्ट के आधार पर कोर कमेटी की मीटिंग में 2022 की चुनावी रणनीति फाइनल की जाएगी। दूसरी तरफ उत्तराखंड कांग्रेस के नए ढांचे के तहत बनाए गए चार कार्यकारी अध्यक्षों को उनके काम भी सौंपे गए। उत्तराखंड कांग्रेस की कोर कमेटी की मीटिंग 3 और 4 अगस्त को होनी है। इस मीटिंग में प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश प्रभारी, दोनों सह प्रभारी, चारों कार्यकारी अध्यक्ष और कोर कमेटी के अहम सदस्य शामिल होंगे। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल का कहना है कि पार्टी माइक्रो मैनेजमेंट के साथ बूथ लेवल तक काम करेगी और इसके लिए हर कांग्रेस नेता की जिम्मेदारी तय की जाएगी। प्रदेश अध्यक्ष गोदियाल और प्रदेश प्रभारी देवेन्द्र यादव ने चारों कार्यकारी अध्यक्षों को काम सौंप दिए। रंजीत रावत को गढ़वाल के जिलों में पहाड़ी क्षेत्र की जिम्मेदारी सौंपी गई है तो जीतराम कुमाऊं मंडल में पार्टी की गतिविधियां देखेंगे। मैदानी जिलों में यह काम तिलकराज बेहड़ को सौंपा गया है और युवा कार्यकारी अध्यक्ष भुवन कापड़ी को संगठन की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

वक्त कम है और काम ज्यादा

उत्तराखंड में पहली बार कांग्रेस अध्यक्ष के साथ चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए हैं। प्रदेश अध्यक्ष गोदियाल का कहना है कि वक्त कम है और काम ज्यादा, ऐसे में कार्यकारी अध्यक्ष काम को आसान बनाएंगे और पार्टी हर क्षेत्र में मजबूती के साथ पकड़ बनाएगी। वहीं पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और नेता विपक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि संगठन अच्छा काम करेगा, जिसके नतीजे 2022 में पार्टी को सत्ता दिलाएंगे।

Next Story
Share it