Top

सीएम योगी का ऐलान- 2025 से पहले टीबी मुक्त होगा उत्तर प्रदेश

सीएम योगी का ऐलान- 2025 से पहले टीबी मुक्त होगा उत्तर प्रदेश

  • बढ़ते कोरोना संक्रमण पर चेताया, सभी से गाइडलाइन का पालन करने की अपील
  • टीबी मुक्त प्रदेश बनाने के लिए सभी को करना होगा सामूहिक प्रयास
4पीएम न्यूज नेटवर्क. सीतापुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्व क्षय रोग दिवस पर कमलापुर के विद्याज्ञान स्कूल में आयोजित कार्यक्रम का आज शुभारंभ किया। उन्होंने कोरोना संक्रमण पर चिंता जताते हुए कहा कि वैक्सीन आई है लेकिन कोरोना अभी गया नहीं है, इसलिए सभी कोरोना गाइडलाइन का पालन करें और सतर्कता बरतें। साथ ही उन्होंने ऐलान किया कि उत्तर प्रदेश 2025 के पहले टीबी मुक्त हो जाएगा। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 2030 तक दुनिया को टीबी मुक्त करने का लक्ष्य तय किया है लेकिन प्रधानमंत्री ने 2025 तक भारत को टीबी मुक्त बनाने का संकल्प लिया है। प्रधानमंत्री के संकल्प के अनुरूप ही उत्तर प्रदेश निर्धारित समय सीमा से पहले टीबी मुक्त हो जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी लोग एक-एक टीबी रोगी की जिम्मेदारी लें और बस इतनी निगरानी करें कि रोगी समय से दवा ले रहा है या नहीं। उसे सरकारी मदद मिल रही है या नहीं। उन्होंने कहा कि 1882 में पहली बार इसके विषाणु की पहचान हुई थी, लेकिन इतने वर्षों के बाद भी दुनिया को इससे मुक्त नहीं किया जा सका। समय-समय पर लक्ष्य रखा गया। उत्तर प्रदेश में मरीजों की संख्या कम हुई है। हम सामूहिक रूप से अभियान चलाएं तो परिणाम सकारात्मक आता है। उन्होंने कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश सहित 38 जिले इंसेफेलाइटिस से ग्रस्त थे, प्रति वर्ष हजारों मौतें होती थीं, बच्चे अस्पताल भी न जा पाते थे। 2017 से हमने अभियान चलाया, जिसका परिणाम ये रहा कि 75 फीसदी बीमारी पर नियंत्रण पाने सफलता प्राप्त की और मौत पर 95 फीसदी सफलता प्राप्त की। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम किसी एक विभाग की जिम्मेदारी नहीं है, पुलिस ग्राम्य विकास, शिक्षा आदि सभी विभागों को सामूहिक रूप से प्रयास करना होगा। टीबी के खिलाफ हमें एक साथ समाहित रूप से अभियान चलाना होगा। हमें सचेत होना पड़ेगा, जागरूक होना और करना पड़ेगा।
21 जिलों में बनेंगे औषधि भंडार केन्द्र
मुख्यमंत्री ने 21 जिलों में बनने वाले ड्रग वेयर हाउस का शिलान्यास भी किया। सीतापुर जिले में भी ड्रग वेयरहाउस का निर्माण कराया जाएगा। इसके अलावा फतेहपुर, बस्ती, रायबरेली, फर्रुखाबाद, औरैया, बाराबंकी व वाराणसी में औषधि भंडार केंद्र बनेगा। गाजियाबाद, मिर्जापुर, बुलंदशहर, शाहजहांपुर, बलरामपुर, मुजफ्फरनगर, सिद्धार्थनगर, बलिया, हापुड़, प्रतापगढ़, मऊ, चित्रकूट व संभल जिले में बनने वाले ड्रग वेयरहाउस का शिलान्यास किया गया।


लखनऊ: होटल के कमरे में युवक युवती का शव मिलने से सनसनी
  • युवती की हत्या कर युवक द्वारा आत्महत्या करने की जताई जा रही आशंका
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। राजधानी के एक होटल में आज युवक-युवती की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। युवक और युवती का शव होटल के कमरे में मिला था। आशंका जताई जा रही है कि युवती की हत्या कर युवक ने फांसी लगाई है। पुलिस का कहना है कि शवों की शिनाख्त हो गई है। एसीपी कैंट अर्चना सिंह के मुताबिक रजनी खंड शारदा नगर निवासी शुभम वर्मा सूर्य नगर मानकनगर निवासी दिव्या कन्नौजिया के साथ होटल के कमरे में आया था। आज सुबह वेटर ने दरवाजा खटखटाया तो कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। इस पर होटल मैनेजर गौरव सिंह ने डायल 112 पर फोन किया। कमरे का दरवाजा खोलकर पुलिसकर्मी भीतर दाखिल हुए, जहां शुभम और दिव्या मृत पाए गए। आशंका है कि युवती की हत्या के बाद युवक ने फांसी लगा ली। दिव्या के गले पर चोट के निशान मिले हैं वहीं, शुभम का शव फंदे पर लटका था।

जस्टिस रमन्ना होंगे सुप्रीम कोर्ट के अगले मुख्य न्यायाधीश

4पीएम न्यूज नेटवर्क. नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सबसे वरिष्ठ जज जस्टिस एनवी रमन्ना देश के अगले मुख्य न्यायाधीश हो सकते हैं। मौजूदा मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे ने अपने उत्तराधिकारी के तौर पर जस्टिस रमन्ना के नाम की सिफारिश की है। सीजेआई बोबडे 23 अप्रैल को रिटायर हो रहे हैं। अगर सरकार बोबडे की सिफारिश मान लेती है, तो 24 अप्रैल को जस्टिस रमन्ना शपथ लेंगे। जस्टिस नाथुलापति वेंकट रमन्ना को फरवरी 2014 को सुप्रीम कोर्ट का जज नियुक्त किया गया था।

महाराष्टï्र में वसूली कांड : सुप्रीम कोर्ट ने कहा- आरोप गंभीर, हाईकोर्ट जाएं

4पीएम न्यूज नेटवर्क. नई दिल्ली। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के कथित भ्रष्ट आचरण के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग करने वाली मुंबई के पूर्व पुलिस प्रमुख परमबीर सिंह की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया है और पहले हाईकोर्ट जाने की सलाह दी है। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने अनिल देशमुख पर लगे आरोपों को गंभीर माना है। सिंह ने सुप्रीम कोर्ट से अपनी याचिका वापस ले ली है और कहा है कि वो बॉम्बे हाईकोर्ट जाएंगे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री के खिलाफ मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर द्वारा लगाए गए आरोप बहुत गंभीर हैं। साथ ही कोर्ट ने परमबीर से पूछा कि उन्होंने अपनी याचिका में महाराष्ट्र के गृह मंत्री को पक्षकार क्यों नहीं बनाया। परमबीर सिंह ने मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से अपने तबादले को भी रद करने की मांग की है। परमबीर ने याचिका में कहा है कि देशमुख ने सचिन वझे और मुंबई की सोशल सर्विस ब्रांच के एसीपी संजय पाटिल से 100 करोड़ प्रतिमाह की उगाही करने को कहा था।

Next Story
Share it