Top

जाति-पंथ की नहीं, इंसानियत की राजनीति करती है भाजपा : राजनाथ

जाति-पंथ की नहीं, इंसानियत की राजनीति करती है भाजपा : राजनाथ

  • आज चरितार्थ हो रहा है चप्पा-चप्पा भाजपा का नारा
  • रक्षामंत्री ने प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक का किया शुभारंभ
  • पंचायत चुनाव और मिशन 2022 पर भाजपा की नजर
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। पंचायत चुनाव और अगले वर्ष होने वाले विधान सभा चुनाव को लेकर भाजपा ने अपनी तैयारी तेज कर दी है। इसी कड़ी में आज देश के रक्षा मंत्री तथा लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह ने इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में भाजपा उत्तर प्रदेश की कार्यसमिति की बैठक का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कार्यकर्ताओं को जीत के टिप्स दिए। उन्होंने कहा कि भाजपा ने राष्ट्रहित में कार्य करने के लिए जमीन से शुरुआत की और आज इंटरनेशनल लेवल पर छा गई है। भाजपा की विचारधारा है कि व्यक्ति को सहज तथा सरल होना चाहिए जिससे हर काम सुगमता से करने में आसानी होती है। हम जाति-पंथ की राजनीति नहीं करते इंसाफ और इंसानियत की राजनीति करते हैं। विश्वास का संकट कभी नहीं पैदा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की विशिष्ट राजनीतिक विचारधारा है। हमारा एक राजनीतिक दर्शन है। हर राजनीतिक विचारधारा वाले दल का विभाजन कभी न कभी हुआ है, मगर भाजपा का आज तक कभी विभाजन नहीं हुआ है। एक समय हम सब नारा लगाते थे चप्पा-चप्पा भाजपा और आज यह नारा चरितार्थ हो गया। लोग कहते हैं कि मैं इतने समय से पार्टी से जुड़ा हूं मेरे साथ न्याय नहीं हो रहा, ऐसा कैसा हो सकता है कि भाजपा कार्यकर्ता यह कहे, यह पार्टी एक संगठन है यहां देर हो सकती है लेकिन अन्याय नहीं हो सकता, यहां पद भले ही न हासिल हो लेकिन प्रतिष्ठा जरूर हासिल होगी।
मंदिर बनाया और तारीख भी बतायी
रक्षामंत्री ने कहा कि हम जो संकल्प लेते हैं उसे पूरा करते हैं, हम वादा कोई भी झूठा नहीं करते हैं। धारा 370 की बात हो या तीन तलाक की हमने उसे पूरा किया। हमने राममंदिर भी बनाया और तारीख भी बताई। यह संयोग ही है जब ढांचा गिरा था तब भी भाजपा की सरकार थी और जब मंदिर का शिलान्यास हुआ तब भी भाजपा की ही सरकार है।
बातचीत से निकलेगा किसान आंदोलन का हल
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि किसान आंदोलन का हल बातचीत से निकलेगा। सरकार ने किसानों के लिए बहुत कुछ किया है। एमएसपी थी, हैं और रहेगी।
पीएम-सीएम की गिनाईं उपलब्धियां
रक्षामंत्री ने कहा कि कांग्रेस के प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने लाचारी व्यक्त की थी कि भ्रष्टाचार के नाते मैं पूरी मदद नहीं कर सकता। हमारे पीएम मोदी ने लाचारी नहीं जताई। जनधन खाते खोले और हर व्यक्ति को सीधे मदद की। एक पैसा भ्रष्टाचार की भेंट नहीं चढ़ा। गरीबों को छत दिलाई, आज यूपी में 40 लाख घर बन रहे हैं। प्रधानमंत्री ने स्वच्छता को आंदोलन में बदला। सीएम योगी के नेतृत्व में यूपी ने अग्रणी भूमिका निभाई है। बाण सागर परियोजना हो या सड़कों का जाल यूपी ने हर मोर्चे पर सफलता अर्जित की है। कानून के मोर्चे पर सरकार बेहतर काम कर रही है।
प्रदेश अध्यक्ष की तारीफ
राजनाथ सिंह ने कहा कि मैं भाजपा उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का आभारी हूं। पार्टी के एक साधारण से कार्यकर्ता रहे स्वतंत्र देव सिंह आज भाजपा उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष हैं। उन्होंने लगातार मेहनत की और पार्टी ने उनको प्रदेश का शीर्ष पद दिया। ऐसा सिर्फ भाजपा में ही संभव है। यहां पर सतत मेहनत करने वाले को लगातार इनाम मिलता है।



पंचायत चुनाव : हाईकोर्ट के फैसले से सरकार को झटका

  • 2015 के आधार पर होगा आरक्षण
  • नई व्यवस्था के तहत चुनाव करवाने के निर्देश
  • कई ग्राम पंचायतों के बदल जाएंगे समीकरण
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। प्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में आरक्षण को लेकर चल रही असमंजस की स्थिति पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने रुख साफ कर दिया है। हाईकोर्ट के फैसले में योगी सरकार को झटका लगा है। कोर्ट ने 2015 को आधार वर्ष मानकर ही आरक्षण की रोटेशन पालिसी को लागू करने का निर्देश दिया है। हाईकोर्ट ने 25 मई तक नई व्यवस्था के तहत पंचायत चुनाव करवाने का निर्देश दिया है। इस फैसले के बाद कई ग्राम पंचायतों के समीकरण भी बदल जाएंगे। सरकार के महाधिवक्ता ने कोर्ट में माना की सरकार से आरक्षण रोटेशन में गलती हुई। सरकार ने माना की 1995 को आरक्षण रोटेशन को आधार वर्ष मानकर गलती हुई जिसके बाद नये आरक्षण रोटेशन के लिए सरकार ने समय मांगा। जिस पर हाईकोर्ट ने 15 मई के बजाय 25 मई तक पंचायत चुनाव पूरा कराने का आदेश दिया। प्रक्रिया पूरी करने के लिए कोर्ट ने 10 दिन और बढ़ा दिए। गौरतलब है कि हाईकोर्ट ने अजय कुमार की तरफ से दाखिल याचिका पर फैसला सुनाते हुए कहा कि 2015 को आरक्षण का बेस वर्ष मानकर काम पूरा किया जाए। इससे पहले राज्य सरकार ने अदालत में स्वयं कहा कि वह 2015 को आधार वर्ष मानकर त्रिस्तरीय चुनाव में आरक्षण की व्यवस्था लागू करने के लिए स्वयं तत्पर है। याचिका में कहा गया था कि आरक्षण सूची 1995 के आधार पर जारी की जा रही है, जबकि 2015 को आधार वर्ष बनाकर आरक्षण सूची जारी की जानी चाहिए।

अपने दम पर चुनाव लड़ेगी बसपा

  • कांशीराम जयंती पर माया का ऐलान
  • गठबंधन के अनुभव को बताया खराब
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। बसपा मुखिया मायावती ने आज बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक कांशीराम की 87वीं जयंती पर उनको नमन किया। इस मौके पर उन्हेंने विधान सभा चुनाव बिना किसी गठबंधन के लड़ने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी का किसी के साथ भी गठबंधन का अनुभव अच्छा नहीं रहा। किसी के साथ भी गठबंधन में हमारा वोट तो ट्रांसफर हो जाता है, जबकि दूसरी पार्टी का वोट हमको नहीं मिल पाता है। भविष्य में भी हम किसी भी दल के साथ कोई गठबंधन नहीं करेंगे। राज्यों के विधान सभा चुनाव में भी हमारी पार्टी अकेले दम पर चुनाव लड़ेगी। पश्चिम बंगाल के साथ ही केरल व तमिलनाडु में हमारी पार्टी का प्रदर्शन भी अच्छा रहेगा। उन्होंने कहा कि केवल बसपा ही गरीब व वंचितों की सेवा में लगी है।

Next Story
Share it