Top

डीएम हो तो आशुतोष निरंजन जैसा, बदल दी बस्ती की तस्वीर

डीएम हो तो आशुतोष निरंजन जैसा, बदल दी बस्ती की तस्वीर

डीएम हो तो आशुतोष निरंजन जैसा, बदल दी बस्ती की तस्वीर

  • बस्ती को मिला देश का प्रतिष्ठित स्काच अवार्ड
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने वो कर दिखाया, जो बस्ती जैसे जिले में बड़े से बड़े डीएम भी नहीं कर पाए। डीएम आशुतोष निरंजन ने जब से बस्ती का कार्यभार संभाला है पूरे जिले की तस्वीर ही बदल गई। इसी के चलते बस्ती को देश का प्रतिष्ठित स्काच पुरस्कार मिला है। बस्ती जैसे जिले को यह प्रसिद्घि डीएम निरंजन के चलते मिलीं, जिसकी चहुओर चर्चार् है।
प्रशासन के लोग बताते हैं कि कोरोना काल के दौरान महिलाओं और प्रवासी कामगारों को रोजगार देने के मामले में बस्ती प्रशासन की कार्यशैली को राष्टï्रीय स्तर पर सराहना मिली है। बस्ती को कोविड रिस्पांस और गुड गवर्नेस में स्काच गोल्ड मेडल मिला है। यह पुरस्कार द लेडी टेलर प्रोजेक्ट ने दिलाया। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने स्काच पुरस्कार के लिए कोरोना काल में बस्ती में किए गए कार्य को द लेडीज टेलर के जरिए संकलित किया था। इसमें स्वयं सहायता समूहों की 1500 से अधिक महिलाओं द्वारा 90 दिन में नौ करोड़ रुपए से अधिक की स्कूल ड्रेस तैयार कर बेचने और 174 प्रवासी कामगारों को रोजगार देने के प्रोजेक्ट के बारे में भी बताया गया था। इसे इंटरनेट मीडिया पर खूब सराहा गया। बस्ती को इस पुरस्कार का प्रबल दावेदार माना जा रहा था। चार दिन पहले सेमीफाइनल राउंड में पहुंचने के बाद बस्ती को पुरस्कार मिलना तय माना जा रहा था। जब वोटिंग लाइन खुली तो वोट देने वालों की होड़ लग गई और बस्ती ने देश का प्रतिष्ठित स्काच पुरस्कार जीत लिया। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने कहा कि समूह की महिलाओं का स्कूली ड्रेस तैयार करने का कार्य प्रेरणा के रूप में हमेशा यादगार बना रहेगा। स्काच पुरस्कार मिलने से अधिकारियों, कर्मचारियों और नागरिकों का मनोबल ऊंचा हुआ है। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को भी इसका श्रेय दिया।
क्या है स्काच पुरस्कार
यह पुरस्कार भारत को बेहतर राष्टï्र बनाने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने वाले व्यक्तियों, परियोजनाओं तथा संस्थानों को प्रदान किया जाता है। यह देश के नामी स्वतंत्र संगठन द्वारा प्रदान किया जाने वाला नागरिक सम्मान है।


ईसा मसीह के वेलकम के लिए लखनऊ के चर्च तैयार
  • प्रभु यीशु के अवतरण के लिए राजधानी में सजे गिरजाघर
  • इस बार ऑनलाइन ही देखे जा सकेंगे प्रोग्राम
  • सीमित संख्या में ही लोगों को मिलेगा चर्च के अंदर प्रवेश
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। क्रिसमस पर्व को लेकर राजधानी पूरी तरह से तैयार है। बाजार में जहां क्रिसमस ट्री और सेंटा क्लाज की कैप क्रिसमस पर्व के आने का संदेश दे रही हैं तो वहीं रोशनी से नहाए गिरजाघर प्रभु यीशु के अवतरण का इंतजार कर रहे हैं। इस बार कोरोना के कारण किसी भी चर्च में कोई बड़ा कार्यक्रम नहीं होगा। लोग ऑनलाइन ही कार्यक्रम देख सकेंगे। सीमित संख्या में ही लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए चर्च में प्रवेश दिया जाएगा। आज की मध्यरात्रि प्रभु का विधि विधान से अवतरण होगा और ईसाई समाज के लोग एक दूसरे को बधाई देंगे। शनिवार से राजधानी के सभी गिरजाघरों में लाइटिंग के साथ ही झांकियों को बनाने का कार्य शुरू हो गया है। हजरतगंज के कैथेड्रल में पहली बार कोलकाता के चंदरनगर की लाइटों के माध्यम से प्रभु यीशु के अवतरण को दिखाने की तैयारी की जा रही है। कैथेड्रल में 24 दिसंबर की रात्रि 10:30 बजे प्रभु यीशु का अवतरण समारोह होगा जो रात्रि एक बजे तक चलेगा। आलमबाग के होली रिडीमर चर्च के प्रवक्ता संजय लांजरस ने बताया कि परिसर में दो दिनों तक क्रिसमस मेला लगेगा। इंदिरानगर, हिंदूनगर, अलीगंज व बख्शी का तालाब समेत कई स्थानों पर विविध आयोजन होंगे। कैथेड्रल समेत अन्य गिरजाघरों में झांकियों को बनाने का कार्य शुरू हो गया है।
बाजार में खरीदारी तेज
क्रिसमस पर्व की तैयारियों को लेकर राजधानी की बाजारों में खरीदारी तेज हो गई है। बच्चों में सेंटा क्लॉज की ड्रेस का हमेशा की तरह इस बार भी काफी क्रेज दिखाई दे रहा है। साथ ही क्रिसमस ट्री, सेंटा मास्क, म्यूजिकल सेंट आदि की काफी सेल हो रही है।

क्रिसमस पर शहर की सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता करने में लगे नवीन अरोरा

4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। क्रिसमस डे और न्यू ईयर पर राजधानी की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर ज्वाइंट कमिश्नर नवीन अरोरा पूरी तरीके से मुस्तैद हैं। त्यौहारों में किसी भी प्रकार की अपराधिक घटना ना होने पाए। इसके लिए वह दिन रात सुरक्षा व्यवस्था के लिए निरीक्षण कर रहे हैं। उनकी माने तो राजधानी की सुरक्षा को लेकर कोई भी कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। दरअसल क्रिसमस डे और न्यू ईयर को लेकर राजधानीभर में जश्न की तैयारियां चल रही हैं। बाजारों में चकाचौंध है। बाजारों में भीड़ भी बढ़ गई है। वहीं कानून व्यवस्था सुरक्षा व्यवस्था को लेकर नवीन अरोरा दिन रात मेहनत के साथ जुटे हुए हैं। बीते बुधवार को नवीन अरोरा ने क्षेत्रीय पुलिस एलआईयू सहित विभिन्न विभागों के साथ मिलकर हजरतगंज स्थित कैथेड्रल चर्च का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने सघन चेकिंग अभियान भी चलाया। त्यौहारों के समय होने वाली अपराधिक घटनाओं की रोकथाम के लिए उन्होंने संदिग्धों से पूछताछ की। अवस्था को बेहतर बनाने के लिए उन्होंने क्षेत्रीय लोगों से भी बातचीत की एवं मदद के लिए तत्काल पुलिस को सूचित करने का अनुरोध भी किया।

दहेज लोभियों ने महिला को आग में जिंदा जलाया

4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। मोहनलालगंज में दहेज लोभियों ने दहेज की मांग पूरी न होने पर अपनी बहू को आग के हवाले कर दिया। महिला लखनऊ के सिविल हॉस्पिटल के बर्न वार्ड में भर्ती है जहां उसका इलाज चल रहा है। बताया जाता है कि महिला 70 प्रतिशत जल चुकी है। मामला मोहनलालगंज क्षेत्र के बिन्दौवा का है। आरोप है कि दहेज की मांग पूरी न होने पर पति, सांस और ससुर ने महिला को आग लगा दी। चार साल पहले शिवानंद वाजपेयी से इस महिला की शादी हुई थी। शादी के बाद से ही पीड़िता से रुपयों की मांग करने लगे, न देने पर आग लगा दी। वारदात के बाद आरोपी परिवार मौके से फरार हो गए हैं। पीड़िता के परिवार की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

लंदन से लखनऊ लौटे 50 यात्री, मचा हड़कंप

4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन ने कई देशों में खलबली मचा दी है। ऐसे में वहां से भारत लौटे यात्रियों की आरटीपीसीआर जांच की जाएगी। केंद्र सरकार द्वारा भेजी गई लिस्ट में लखनऊ में भी 50 यात्री आने का पता चला है। ऐसे में अफसरों में हड़कंप मच गया है। कारण लिस्ट में पता दर्ज होने के बजाए उनका सिर्फ मोबाइल नंबर हैं। ऐसे में तलाश जारी है। केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को अलर्ट जारी किया है। वहीं 3 नवंबर से अब तक के ब्रिटेन से लौटे यात्रियों की पड़ताल के निर्देश दिए। स्वास्थ्य विभाग को मिली लिस्ट में नौ दिसंबर से अब तक के 50 यात्रियों के ब्रिटेन से आने का ब्योरा मिला। मगर, इनका पता भी इसमें दर्ज नहीं है। ऐसे में मोबाइल नंबर से संपर्क कर उनके पते पर टीम भेजी जाएगी।

Next Story
Share it