Top

आपदा में अवसर खोजते हैं भाजपाई, जनता से कोई सरोकार नहीं: अखिलेश यादव

आपदा में अवसर खोजते हैं भाजपाई, जनता से कोई सरोकार नहीं: अखिलेश यादव

  • समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष ने सीएम योगी आदित्यनाथ को बताया बाहरी मुख्यमंत्री
  • लगातार दूसरे दिन भाजपा पर सपा का हमला, योगी सरकार को लिया निशाने पर
  • बड़ा आरोप : सीएम अपने ही गृह जिले में किसानों को एमएसपी नहीं दिला पाए
  • अखिलेश यादव ने तीन पुस्तकों का विमोचन भी किया
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने लगातार दूसरे दिन भाजपा की कें्रद व प्रदेश सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा सदन में मुख्यमंत्री किस भाषा का प्रयोग करते है। यह सभी जानते हैं। क्योंकि भाजपा के डीएनए में विभाजन है। धर्म के आधार पर बंटवारा करते हैं। समाजवादी ने जाति और धर्म के नाम पर लैपटॉप नहीं बांटे। बल्कि बच्चों के उज्जवल भविष्य के नाम पर लैपटॉप दिए। अखिलेश ने कहा मुख्यमंत्री ने खुद पर दर्ज मुकदमे वापस ले लिए। भाजपा बदले की भावना से काम कर रही है। बेवजह सपा के लोगों का उत्पीड़न किया जा रहा है। झूठे मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं। यह कहां का न्याय है। अखिलेश ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने ही गृह जिले में किसानों को एमएसपी नहीं दिला पाए। गन्ना किसानों को भुगतान नहीं मिल रहा। कानून व्यवस्था चौपट है। ठोक दो की रणनीति पर काम हो रहा है। आपदा में अवसर खुद भाजपा के नेता ढूढ़ने में लगे हैं। जनता के पैसों का दमन कर रहे है। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा आज खेती बर्बाद हो गई है। किसान के सामने संकट है। भाजपा कह रही है कि कृषि कानूनों से किसानों को लाभ मिलेगा लेकिन पूरे देश के किसान चाहते हैं कि सभी कानून वापस लिए जाएं क्योंकि उन कानूनों से उनका हित नहीं होता है। भाजपा ने लगातार कहा कि हम किसानों को एमएसपी देंगे। लागत का दोगुना मुनाफा देंगे। आय दोगुनी करेंगे लेकिन जब करने का समय आया तो ऐसा कानून बना दिया कि पूरी खेती और किसान संकट में आ गया। साथ ही नौजवानों के सामने भी संकट है। नौकरी, रोजगार, काम नहीं है। केंद्र और यूपी की सरकार आखिर अर्थव्यवस्था को कहां ले जा रही है। बड़े उद्योग घरानों को फायदा पहुंचाने के लिए भाजपा काम कर रही है। प्रदेश में महंगाई बढ़ रही है। डीजल और पेट्रोल के दाम बढ़ते जा रहे हैं। सरकार मुनाफे का पैसा ले कहां ले जा रही है। इस मौके पर अखिलेश यादव ने दूसरे दलों से आए लोगों का स्वागत किया और सैकड़ों कार्यकर्ताओं को सपा की सदस्यता ग्रहण कराई। इससे पूर्व अखिलेश यादव की मौजूदगी में डिसीजन, शीशा और पत्थर के अलावा एक अन्य पुस्तक का विमोचन भी किया गया।
गोंडा से सौम्या पाण्डेय भाजपा छोड़ सपा में शामिल
बसपा-कांग्रेस समेत कई दलों के नेताओं ने आज फिर सपा का दामन थाम लिया। बसपा के संस्थापक सदस्यों में शामिल रहे उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री आरके चौधरी के शामिल होने के दूसरे दिन भी सैकड़ों लोगों को पार्टी की सदस्यता दिलाई गई। आज सपा में शामिल होने वालों में सबसे ज्यादा कांग्रेस व बसपा के बड़ी सख्या में कार्यकर्ता रहे। वहीं गोंडा से बीजेपी की चर्चित महिला नेता सौम्या पाण्डेय भी सपा में शामिल हो गयी। इसके अलावा पूर्व डीआईजी हरीश कुमार व पूर्व एडीएम रामेश्वर ने भी सपा की सदस्यता ग्रहण की। अखिलेश यादव ने सभी को बधाई दी और 2022 के मिशन में जुट जाने की बात कही।


जिस दिन न बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम उसे अच्छा दिन घोषित कर दे भाजपा सरकार: प्रियंका गांधी
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। देशभर में पेट्रोल-डीजल के दाम नई ऊचाइयों पर हैं। इससे एक तरफ आम आदमी का बजट गड़बड़ाया है वहीं औद्यौगिक इकाइयां और बाजार पर भी इसका असर पड़ा है। इसी बीच कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने तेल के दामों में हो रही लगातार वृद्धि को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि हफ्ते में सारे दिन महंगे दिन है जिस दिन तेल की कीमतें ना बढ़े उसे बीजेपी को अच्छा दिन घोषित कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार को सप्ताह के उस दिन का नाम अच्छा दिन कर देना चाहिए जिस दिन डीजल-पेट्रोल के दामों में बढ़ोत्तरी न हो। क्योंकि महंगाई की मार के चलते बाकी दिन तो आमजनों के लिए महंगे दिन हैं। प्रियंका ने कहा भाजपा से हर वर्ग परेशान है। आने वाले विधानसभा चुनाव में जनता इसका जवाब देगी।
मुजफ्फरनगर में किसानों के समर्थन में सियासी हुंकार
तीन कृषि कानूनों के विरोध में प्रियंका वाड्रा ने मुजफ्फरनगर में सियासी हुंकार भरी। किसान महापंचायत में कांग्रेस की राष्टï्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका वाड्रा ने कृषि कानूनों का विरोध किया। उन्होंने कहा भाजपा किसानों को बर्बाद करना चाहती है। देश किसानों से चलता है पर भाजपा सिर्फ उद्योगपतियों के भरोसे है। आने वाले समय में देश के किसान भाजपा को सबक सिखाएंगे।

फिर डरा रहा कोरोना, चौबीस घंटे में मिले करीब 14 हजार केस

  • 27 दिन बाद फिर बढ़ने लगी संक्रमितों की संख्या
4पीएम न्यूज नेटवर्क. नई दिल्ली। देश में एक बार फिर कोरोना के बढ़ते मामले डराने लगे हैं। पिछले 24 घंटों में 14 हजार नए केस मिले हैं। महाराष्ट्र, पंजाब और मध्य प्रदेश में तेजी से बढ़ते संक्रमण के मामलों ने कोरोना के आंकड़ों में तेजी ला दी है। कोरोना के 13,993 मामले दर्ज किए गए जो पिछले 27 दिनों में सबसे अधिक हैं। इस दौरान 101 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। महाराष्ट्र में कोरोना के 6,112 नए मामले सामने आए हैं। वहीं 44 की मौत संक्रमण के कारण हुई। मध्य प्रदेश में 297 नए मामले सामने आए। राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से दो और व्यक्तियों की मौत की पुष्टि हुई है। छत्तीसगढ़ में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के 259 नए मामले सामने आए हैं। केरल में भी कोरोना संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है।

कार्य बहिष्कार कर वकीलों ने मनाया विरोध दिवस, सरकार को घेरा

  • माफियाओं के उत्पीड़न से परेशान अधिवक्ताओं ने डीएम को सौंपा ज्ञापन
4पीएम न्यूज नेटवर्क. लखनऊ। बार कौंसिल उत्तर प्रदेश के आह्वïान पर आज राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश भर के अधिवक्ताओं ने विरोध दिवस मनाया। महोबा और मेरठ में माफियाओं के उत्पीड़न से अधिवक्ताओं की आत्महत्या के मामले में पूरे प्रदेश के अधिवक्ताओं में रोष हैं। इसी को लेकर आज अधिवक्ताओं ने कार्य बहिष्कार किया। पूर्व सदस्य बार कौंसिल उत्तर प्रदेश अजय कुमार शुक्ल व सेंट्रल बार एसोसिएशन के महामंत्री संजीव पांडेय सहित कई अधिवक्ताओं ने बताया कि महोबा मे पुलिस संरक्षण में माफियाओं के उत्पीड़न से क्षुब्ध होकर अधिवक्ता मुकेश पाठक व मेरठ में विधायक व माफियाओं से त्रस्त होकर अधिवक्ता तोमर के आत्महत्या के मामलों में प्रभावी कार्यवाही न होने के कारण आज पूरे प्रदेश में विरोध दिवस मनाया गया। सेंट्रल बार एसोसिएशन के महामंत्री संजीव पांडेय ने बताया कि माफियाओं के उत्पीड़न से त्रस्त अधिवक्ता ओमकार तोमर को आत्महत्या के लिए विवश होना पड़ा। अधिवक्ताओं ने दोषी पुलिसकर्मियों व विधायक सहित सभी आरोपियों के विरुद्ध राष्टï्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई करने तथा पीड़ित परिवारों को मुआवजा, आश्रितों को सरकारी नौकरी देने की मांग की। समस्त अधिवक्ता संघ व एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने इस संबंध में आज जिलाधिकारी को न्याय की मांग को लेकर ज्ञापन दिया और कार्रवाई की मांग की।

Next Story
Share it