Top

हार की वजह बता रहे दीदी प्रेम में डूबे दलबदलु

हार की वजह बता रहे दीदी प्रेम में डूबे दलबदलु


कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) छोडक़र बीजेपी में शामिल होने वाले मजबूत नेता सब्यसाची दत्त का रवैया अब कुछ बदल गया है. उन्होंने बंगाल में बीजेपी की हार की वजह साफ तौर पर बताई है। इस चुनाव में मुख्यमंत्री पद के लिए भाजपा का कोई बंगाली चेहरा नहीं था। सभी जानते थे कि पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह या जेपी नड्डा इनमें से कोई भी मुख्यमंत्री नहीं होंगे।
उन्होंने आगे कहा, मुख्यमंत्री पद के लिए बंगाली आकांक्षाओं के नहीं होने के कारण भाजपा विधानसभा चुनाव हार गई। बंगाल में भाजपा के लिए भाषा एक बड़ी समस्या बन गई। हिंदी भाषी लोगों ने आकर प्रचार किया, जिससे जनता उनकी बात नहीं समझ पाई। सब्यसाची दत्त के इस बयान के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि उनकी घर वापसी हो सकती है।
इधर, तृणमूल कांग्रेस नेतृत्व ने अभी तक पार्टी के पूर्व नेताओं की घर वापसी पर कोई निर्णय नहीं लिया है, जो हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा में शामिल हो गए थे। टीएमसी के शीर्ष सूत्रों ने कहा कि मुख्यमंत्री और पार्टी अध्यक्ष ममता बनर्जी भाजपा में गए तृणमूल लोगों की वापसी पर फैसला लेंगी।
राजनीतिक जानकारों का मानना है कि पार्टी कार्यकर्ताओं को संदेश देने के लिए पार्टी चुनिंदा नेताओं को लौटाएगी कि 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले बगावत बर्दाश्त नहीं की जाएगी। तृणमूल के एक नेता ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, इस मुद्दे पर अंतिम फैसला सिर्फ शीर्ष नेतृत्व ही ले सकता है। उन्होंने कहा, इस समय हम चक्रवात यस के बाद कोविड-19 महामारी और राहत कार्य से जूझ रहे हैं। व्यवस्था कर रहे हैं।
तृणमूल कांग्रेस के नेता दीपेंदु विश्वास और सोनाली गुहा समेत कई पूर्व विधायकों ने पिछले कुछ दिनों में पत्र लिखकर भाजपा में शामिल होने पर खेद जताया है। उन्होंने तृणमूल कांग्रेस में वापसी की इच्छा जताई है। कभी बनर्जी की करीबी रहीं सोनाली ने कैमरे पर भावुक अपील करते हुए मुख्यमंत्री से माफी की मांग की। दक्षिण 24 परगना के सतगछिया से चार बार की विधायक सोनाली ने एक पत्र में लिखा है कि जैसे मछली पानी के बाहर नहीं रह सकती, दीदी, मैं तुम्हारे बिना नहीं रह पाऊंगी।
तृणमूल कांग्रेस के संस्थापकों में से एक मुकुल रॉय की संभावित घर वापसी को लेकर भी अटकलें लगाई जा रही हैं, जो भाजपा के राज्यसभा सदस्य हैं। हाल ही में ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक रॉय की पत्नी का हाल जानने शहर के एक अस्पताल गए और उनके बेटे से बात की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी रॉय को उनकी पत्नी के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेने के लिए फोन किया। रॉय तृणमूल कांग्रेस में वापसी की अटकलों को दबाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अटकलों का बाजार अभी भी गर्म है क्योंकि बनर्जी ने कहा कि रॉय का व्यवहार इतना बुरा नहीं है। कलकत्ता रिसर्च ग्रुप के सदस्य और जाने-माने राजनीतिक विश्लेषक रजत रॉय ने कहा कि इसका उद्देश्य भाजपा को संगठनात्मक रूप से कमजोर करना होगा, लेकिन साथ ही यह सभी नेताओं को घर नहीं लौटाएगा ताकि सख्ती का संदेश दिया जा सके। विश्लेषकों के मुताबिक तृणमूल कांग्रेस इस संबंध में कांग्रेस और वाम मोर्चे की मिली-जुली रणनीति अपनाएगी। जबकि कांग्रेस ने अतीत में अक्सर अपने असंतुष्ट नेताओं को वापस ले लिया है, वामपंथियों की आम तौर पर असंतुष्टों और विद्रोहियों को वापस नहीं लेने की नीति रही है।


Next Story
Share it