वर्क फ्रॉम होम के लिए वास्तु टिप्स

वर्क फ्रॉम होम के लिए वास्तु टिप्स


नई दिल्ली। कोरोना महामारी के कारण लोगों की जीवनशैली में बहुत बदलाव आई है। संक्रमण फैलने के डर के कारण ऑफिस के बजाय घर से काम को बढ़ावा मिला है। ऐसी स्थिति में कुछ लोग काम की जगह व्यवस्थित तरीके से तय करते हैं। इसलिए कई लोग ऐसे होते हैं जो घर में कहीं भी बैठकर काम करना शुरू कर देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वास्तु के अनुसार घर से भी सही दिशा में बैठकर काम करना चाहिए। ऐसा करने से मन भी काम करने में लगता है और सफलता भी मिलती है। आइए जानते हैं वास्तु के अनुसार घर से काम के दौरान बैठकर काम करना किस दिशा में उचित होता है।
वास्तु के अनुसार घर से काम के दौरान आपका कार्य स्थल घर की दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। इसके साथ ही कार्य में सफलता प्राप्त की जा सकती है और प्रगति के नए रास्ते खुलेंगे। अगर दक्षिण या पश्चिम दिशा में ऐसा करना संभव नहीं है तो आप किसी भी दिशा में अपने काम के लिए जगह बना सकते हैं। अगर आपका बिजनेस सेल्स, मार्केटिंग और लॉजिस्टिक्स जैसे क्षेत्रों से जुड़ा है तो वास्तु के अनुसार आप अपने घर की उत्तर-पश्चिम दिशा में बैठकर काम कर सकते हैं।
अगर आप फाइनेंस से संबंधित बिजनेस करते हैं तो वास्तु के अनुसार घर की उत्तर दिशा सबसे शुभ मानी जाती है। ऐसी स्थिति में इस दिशा को चुनकर आप अपने काम की जगह बना सकते हैं।
अगर आप लेखन, रचनात्मकता, सॉफ्टवेयर विकास के क्षेत्र से जुड़े हैं तो घर की उत्तर-पूर्व दिशा सबसे शुभ मानी जाती है। ऐसी स्थिति में आप इस दिशा में अपना कार्य स्थल बना सकते हैं। इसके साथ आपको काम में सफलता मिल सकती है।
अगर आप उद्यमी हैं तो वास्तु के अनुसार दक्षिण, पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम दिशा में काम करना आपके लिए शुभ होता है। ऐसी स्थिति में आप बैठकर इस दिशा में काम कर सकते हैं। इससे कार्य में प्रगति हो सकती है।
वास्तु के अनुसार मास्टर बेडरूम में अपने बिस्तर पर बैठकर कभी भी काम नहीं करना चाहिए। इससे बचना चाहिए अन्यथा यह स्लीप पैटर्न को भी प्रभावित कर सकता है।
मान लीजिए कि आप टेबल पर काम कर रहे हैं, तो वास्तु के अनुसार, सुनिश्चित करें कि वहां कांच गिलास नहीं होना चाहिए। माना जाता है कि कांच का प्रतिबिंब नकारात्मक ऊर्जा पैदा करता है जो आपके काम में बाधा डालता है।
अगर आपके घर में छोटा सा दीपक है तो उसे उस कमरे की दक्षिण-पूर्व दिशा में रखकर प्रज्जवलित करें। वास्तु के अनुसार दक्षिण-पूर्व दिशा में रखे इस दीपक से निकलने वाली रोशनी से काम करने की ऊर्जा बढ़ती है।


Next Story
Share it