जानें कैसे रखें अपने टीडीएस का हिसाब-किताब

जानें कैसे रखें अपने टीडीएस का हिसाब-किताब


नई दिल्ली। टीडीएस यानी स्रोत पर काटा गया टैक्स। जिसका अर्थ है स्रोत पर काटा गया कर। यानी किसी भी आय पर कटौती। कोई भी रोजगार संगठन अपने कर्मचारियों को वेतन या भुगतान करने से पहले कर के रूप में कुछ राशि काटता है। हालांकि सभी नियोक्ताओं या सभी कर्मचारियों से टीडीएस नहीं काटा जाता है। टीडीएस सिस्टम में सैलरी या पेमेंट करने वाले संस्थान पेमेंट करने से पहले टैक्स काट लेते हैं। शेष राशि कर्मचारी को वेतन या भुगतान के रूप में दी जाती है। टीडीएस कर भुगतान के कई तरीकों में से एक है। मान लीजिए कोई व्यक्ति किसी कंपनी में किसी तय रकम के लिए काम करता था। जब यह राशि उस व्यक्ति को दी जाएगी तो फिर तय राशि नहीं दी जाएगी, बल्कि टैक्स काटने के बाद बची हुई राशि दी जाएगी। अब सवाल यह है कि कैसे देखना है कि काम करने के बाद कितना टीडीएस काटा गया या कहां से सही जानकारी हासिल की जाए।
ऐसे करें जांच
काटे गए टैक्स के बारे में पूरी जानकारी फॉर्म 26एएस में रखी गई है। फॉर्म26एएस एक प्रकार का स्टेटमेंट है, जिसमें काटे गए टैक्स और जमा राशि के बारे में पूरी जानकारी रखी जाती है। कितना टीडीएस काटा गया है या कितना जमा किया गया है या जमा नहीं किया गया है, इसकी जानकारी आयकर विभाग की ई-फाइलिंग वेबसाइट की मदद से प्राप्त की जा सकती है। अब जाने आगे की प्रक्रिया...
इस तरह ऑनलाइन जानकारी प्राप्त करें-

1. सबसे पहले www.incometaxindiaefiling.gov.in/home पर जाएं और रजिस्टर योर ऑप्शन पर क्लिक करें।

2. पैन में दर्ज विवरण के आधार पर, सभी जानकारी सबमिट करें और पासवर्ड उत्पन्न करें।

3. यूजर आईडी (आपका पैन नंबर) और पासवर्ड का उपयोग करके खाते में लॉगइन करें।

4. लॉगिन के बाद, व्यू टैक्स क्रेडिट स्टेटमेंट (26 एएस) का विकल्प दिखाई देगा।

5. व्यू टैक्स क्रेडिट स्टेटमेंट विकल्प पर क्लिक करने के बाद, आप दूसरी वेबसाइट पर पहुंच जाएंगे।

6. एक और वेबसाइट निशान (टीडीएस सुलह विश्लेषण और सुधार सक्षम प्रणाली) है।

7 इस वेबसाइट पर आपको टीडीएस से जुड़ी हर छोटी-बड़ी और बड़ी जानकारी मिल जाएगी।

अगर किसी वित्त वर्ष में किसी व्यक्ति की आय आयकर छूट सीमा से कम है तो वह अपने नियोक्ता से टीडीएस फॉर्म 15जी/15एच भरकर टीडीएस न काटने के लिए कह सकता है।


Next Story
Share it