क्या आपको हैं पता कि आपके प्रेम संबंधों को भी प्रभावित करते हैं ग्रह

क्या आपको हैं पता कि आपके प्रेम संबंधों को भी प्रभावित करते हैं ग्रह


नई दिल्ली। लव रिलेशन में आने वाली बाधाओं के पीछे कई बार ग्रहों का भी हाथ होता है। ये ग्रह अपने दशा, राशि परिवर्तन और कमजोरी की स्थिति में प्रेम संबंधों को प्रभावित करते हैं। प्रेम संबंधों में शनि, मंगल, सूर्य, राहु और केतु की भूमिका महत्वपूर्ण मानी जाती है। जब ये ग्रह अशुभ होते हैं और जन्म कुंडली के 5वें घर को देखते हैं तो लव रिलेशन में समस्याएं शुरू हो जाती हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जन्म कुंडली के पांचवें घर में लव रिलेशन के बारे में भी बताया गया है।
शनि देव का प्रेम संबंध पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। जब शनि देव के दर्शन जन्म कुंडली के पांचवें घर पर पड़ते हैं तो फिर मानसिक तनाव और दूरी बढ़ाने का काम करते हैं। ज्योतिष शास्त्र में शनि देव को क्रूर ग्रह माना गया है। शनि की दशा, साढ़े साती साथ-साथ जब शनि की ढय्या होती है तो इस दौरान लव रिलेशन में समस्याएं आती हैं।
मंगल दोष
मंगल दोष मंगल के कारण बनता है। यदि जन्म कुंडली में मंगल दोष है तो विवाद के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। माना जाता है कि मंगल दोष के कारण विवाह में बाधा आती है, या फिर तलाक की स्थिति भी बनी रहती है। जब मंगल लग्न घर, चौथा घर, सातवां घर, आठवां घर, जन्म कुंडली का बारहवां घर हो तो मंगल दोष बनता है।
राहु और केतु
राहु और केतु के कारण भी प्रेम संबंधों में बाधा आती है। ज्योतिष शास्त्र में इन दोनों ग्रहों को पाप ग्रहों की स्थिति है। राहु और केतु भी काल सर्प दोष और पितरा दोष जैसे अशुभ योग पैदा करते हैं, जिसके कारण व्यक्ति को प्रेम संबंधों में असफलता और बाधाएं मिलती हैं। इसके अलावा सूर्य भगवान भी कई बार परेशानी का कारण बनते हैं। इन ग्रहों को शांत करने के लिए ये उपाय करने चाहिए।
भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।
प्रदोष व्रत और मासिक शिवरात्रि पर भगवान शिव का अभिषेक करें।
गलत संगत से दूर रहना चाहिए।
नशा नहीं करना चाहिए।
दान आदि कार्यों में रुचि लेनी चाहिए।
जरूरतमंद व्यक्तियों की मदद की जानी चाहिए।
हनुमान जी की मंगलवार में पूजा करें।
शनिवार को शनि मंदिर में शनि देव से संबंधित चीजों का दान करें।


Next Story
Share it