Top

मंगल की बदली स्थिति, किया कर्क राशि में प्रवेश, जाने क्या होगा असर अन्य राशियों पर

मंगल की बदली स्थिति, किया कर्क राशि में प्रवेश, जाने क्या होगा असर अन्य राशियों पर


मंगल को ग्रहों के परिवार में सबसे क्रूर माना जाता है और इन्हें ग्रहों के सेनापति के सम्मान से भी नवाजा जाता है। मंगल की स्थिति में जब बदलाव होता है तो ज्योतिष की दुनिया में भारी बदलाव होते हैं। पूरी दुनिया को इस बदलाव की वजह से कई प्रकार के उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। वहीं सभी राशियों पर भी इसका गहरा प्रभाव पड़ता है। आज मंगल चंद्रमा की राशि कर्क में प्रवेश करने जा रहे हैं। आइए आपको बताते हैं सभी 12 राशियों के पर इस गोचर का कैसा प्रभाव होने वाला है ?
मेष राशि
ज्योतिष के अनुसार मेष राशि के जातकों के लिए मंगल पहले और आठवें घर के स्वामी माने जाते हैं। इस बार यह आपकी राशि के चौथ भाव में प्रवेश करने जा रहे हैं। यह भाव आराम, मां, संपत्ति निर्माण, वाहन और अचल संपत्ति को दर्शाता है। माना जा रहा है कि इस गोचर के प्रभाव से आपको लाभ होने जा रहा है, लेकिन इसके साथ ही आपको मन को शांत रखने की सलाह दी जाती है। आप इस वक्त नौकरी और कामधंधे में तरक्की करेंगे और आपको सम्मान भी प्राप्त होगा। वहीं इस वक्त आपको रिश्तों को संभालने की सलाह दी जाती है और यह भी कहा जाता है कि आपको किसी के साथ बहस में पडऩे से बचना चाहिए।
वृषभ राशि
आपकी राशि में मंगल द्वादश और सप्तम भाव के स्वामी माने जाते हैं और इस बार गोचर आपकी राशि के तीसरे भाव जो कि साहस और वीरता को दर्शाता है, माना जा रहा है कि यह गोचर आपको तनाव और परेशानियां दे सकता है। इस वक्त आप पर नजर रखी जा सकती है तो आपको अपने काम में जरा सी भी लापरवाही करने से बचने की जरूरत है। आर्थिक रूप से देखा जाए तो यह गोचर कारोबारियों के लिए बेहद शुभफलदायक होगा। इसलिए आपके खर्चों में भी बेतहाशा वृद्धि हो सकती है। वहीं भाई-बहनों के साथ रिश्ते के साथ ही आपको स्वास्थ्? के मामलों में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
मिथुन राशि
बुध के स्वामित्व वाली मिथुन राशि के लोगों के लिए मंगल छठें और 11वें भाव का स्वामी माना जाता है और यह गोचर संचार, धन और परिवार के दूसरे भाव में होने जा रहा है। इस गोचर के दौरान आपकी बातों से कोई आहत हो सकता है या फिर आपकी बातें किसी को चोट पहुंचा सकती हैं। आर्थिक रूप से आपको नुकसान हो सकता है और पैसों की कमी भी हो सकती है। मंगल की दृष्टि की वजह से आपको इस वक्त अपनी ससुराल के लोगों से फायदा हो सकता है। आपको इस वक्त यह सलाह दी जाती है कि किसी से धन उधार न लें और न ही किसी को पैसा दें। इस वजह से आप परेशानी में फंस सकते हैं।
कर्क राशि
चंद्रमा की राशि कर्क के लिए मंगल चौथे और आठवें भाव के स्वामी माने जाते हैं और इस बार यह स्वास्थ्य आत्म ज्ञान और सौंदर्य के प्रथम भाव में गोचर करने वाले हैं। इस गोचर के कारण आपको किसी प्रकार के तनाव का सामना करना पड़ सकता है। इस वक्त आपके अंदर गुस्सा और किसी बात को लेकर खीज बढ़ सकती है। वहीं पेशेवर रूप में यह गोचर आपके लिए धन के साथ ही व्यावसायिक मामलों में लाभ देने वाला हो सकता है। माना जा रहा है कि आर्थिक रूप से यह अवधि आपके लिए औसत रहेगी। आपका काम पैसों के बिना नहीं रुकेगा। इस गोचर के प्रभाव से आपको दांपत्य जीवन में किसी प्रकार की गलतफहमी हो सकती है। साथ ही किसी प्रकार के अवरोधों का भी सामना करना पड़ सकता है।
सिंह राशि
आपकी राशि वालों के लिए मंगल चौथे और नवें भाव के स्वामी हैं और विदेश यात्रा, खर्च और आध्यात्मिकता व मोक्ष के 12वें भाव में प्रवेश कर रहे हैं। इस अवधि में आपको काम को लेकर कुछ अनिश्चितताओं का सामना करना पड़ सकता है। आपको इस वक्त किसी चीज में निवेश न करने की सलाह दी जाती है। इस दौरान आप कोई नया प्रॉजेक्ट शुरू करने से बचें। उच्च शिक्षा या फिर अध्ययन के लिए आपको इस वक्त विदेश यात्रा पर जाने का मौका मिल सकता है। इस वक्त आपको स्वास्थ्य के मामले में भी विपरीत स्थितियों का भी सामना करना पड़ सकता है और आपके खर्च इस वजह से बढ़ सकते हैं। आपको इस वक्त अपने साथ-साथ पार्टनर के स्वास्थ्य के बारे में भी सोचना चाहिए।
कन्या राशि
कन्या राशि वालों के लिए मंगल तीसरे और पहले घर के स्वामी माने जाते हैं। इस बार यह आपके आय और इच्छा के भाव जो कि 11वों भाव है, में गोचर करने जा रहे हैं। आपकी राशि के लोगों के लिए यह समय अनुकूल नहीं है और इस वजह से आपको नकारात्मक प्रभाव का सामना करना पड़ सकता है। आर्थिक रूप से आपको अपने खर्चों और वित्तीय मामलों में वृद्धि देखने को मिलेगी। जो कि आपके लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं। इस राशि के नौकरीपेशा लोगों को यह सलाह दी जाती है कि अपने कार्य में संतुलन बनाकर रखें। इस राशि के कारोबारियों के लिए यह समय अनुकूल होगा। आपको इस वक्त किसी प्रकार का निवेश करने से भी बचने की जरूरत है।
तुला राशि
तुला राशि वालों के लिए मंगल सातवें और दूसरे भाव के स्वामी माने जाते हैं और यह करियर, नाम और प्रसिद्धि से जुड़े 10वें भाव में गोचर करने जा रहे हैं। इस गोचर से आपको यह लाभ होगा कि आप काम के प्रति केंद्रित रहेंगे। नौकरी हो या फिर व्यवसाय आप हर क्षेत्र में अपना सर्वश्रेष्ठ देने का प्रयास करेंगे। इस वजह से आपको कार्यक्षेत्र में दबाव का सामना करना पड़ सकता है। वहीं कुछ ऐसे फैसले इस वक्त हो सकते हैं जो नौकरी और व्यापार के मामले में आपको परेशानी में डाल सकते हैं। प्रेम के मामले में इस आपको कुछ बुरे वक्त का सामना करना पड़ सकता है। विवाहित जातकों को यह सलाह दी जाती है कि वह किसी वजह से अपने पार्टनर से खराब न बोलें।
वृश्चिक राशि
मंगल आपकी राशि के स्वामी माने जाते हैं और यह आपकी राशि के पहले और छठें भाव के स्वामी हैं। गोचर के वक्त यह आपकी राशि के 9वें भाव में प्रवेश करने जा रहे हैं। इस गोचर से आप शारीरिक और मानसिक तनाव का अनुभव कर सकते हैं। इस वजह से आपको भाग्य का भरपूर सहयोग प्राप्त नहीं होगा। इस वक्त आपकी वित्तीय समस्याएं हल हो जाएंगी, लेकिन आपको अपना खर्चा चलाने के लिए मेहतन करनी पड़ सकती है। इस वक्त आपका मन भटक सकता है और फिजूल की बातों पर ध्यान दे सकते हैं। पिता के साथ आपके संबंधों पर आंच आ सकती है। ध्यान और योगाभ्यास करने से आपको लाभ होगा।
धनु राशि
धनु राशि के जातकों के लिए मंगल उनके 5वें और 12वें भाव के स्वामी माने जाते हैं। इस बार यह आपके 8वें भाव में गोचर करने जा रहे हैं जो कि गुप्त अध्ययन, अचानक हानि को दर्शाता है। गोचर के कारण आपको इन सभी मामलों में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आपको हर कदम बहुत फूंक-फूंककर चलना होगा। परिणाम पाने के लिए आपको काफी मशक्कत का सामना करना पड़ सकता है। आपको आर्थिक मामलों में भी तंगी का सामना करना पड़ सकता है। आपकी किसी मद में धन खर्च करने की इच्छा होगी, लेकिन ऐसा आप कर नहीं पाएंगे।
मकर राशि
मकर राशि के जातकों के लिए मंगल चौथे और 11वें भाव के स्वामी हैं और शादी व साझेदारी से जुड़े 7वें भाव में गोचर करने वाले हैं। इस गोचर के प्रभाव से आपको वैवाहिक जीवन में कलह और संघर्ष का सामना करना पड़ सकता है। वहीं बिजनस में भी पार्टनर के साथ किसी प्रकार की कहासुनी हो सकती है। जो जातक विवाह करने के बारे में सोच रहे हैं उनके काम में देरी हो सकती है। आर्थिक रूप से यह समय काफी औसत रहेगा। सेहत के मामले में भी आपको इस वक्त अपने और अपने पार्टनर की सेहत का खास ध्यान रखने की सलाह है।
कुंभ राशि
कुंभ राशि के जातकों के लिए मंगल तीसरे और 10वें भाव के स्वामी माने जाते हैं। यह छठें भाव में गोचर करने वाला है जो कि उधार, दैनिक मजदूरी और शत्रुओं का भाव माना जाता है। इस गोचर के प्रभाव की वजह से आपकी अपने सहकर्मियों के साथ विवाद हो सकता है और अपने सीनियर्स के गुस्से का शिकार होना पड़ सकता है। वहीं इसके साथ ही आपको अनावश्यक खर्च का भी सामना करना पड़ सकता है। इसके साथ ही दांपत्य के मामलों में भी तकलीफ हो सकती है। स्वास्थ्य की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
मीन राशि
मीन राशि के जातकों के लिए, मंगल दूसरे और नौवें घर के स्वामी हैं। इसके साथ ही ये आपके बच्चों के, शिक्षा के और रोमांस से जुड़े भाव 5वें भाव में प्रवेश कर रहे हैं। इस वक्त आपको अपने बच्चों के स्वास्थ्य का खास ख्याल करने की जरूरत है। साथ ही पढ़ाई करने में भी उनकी मदद करें और उन्हें बुरी संगत में पडऩे से रोकें। पेशेवर रूप से यह गोचर आपके जीवन में रुकावटें लाने वाला हो सकता है। वहीं सहकर्मियों के साथ भी अहम का टकराव हो सकता है। खर्च भी आपको इस वक्त सोचकर करना चाहिए।


Next Story
Share it