बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान कई पंडालों पर हमला, विदेश मंत्रालय ने दिया ये बयान

बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान कई पंडालों पर हमला, विदेश मंत्रालय ने दिया ये बयान


नई दिल्ली। पड़ोसी बांग्लादेश से दुर्गा पूजा के दौरान पंडालों और मूर्तियों पर हमले की जानकारी सामने आई है। पिछले 24 घंटों के भीतर, बांग्लादेश में कई स्थानों पर दुर्गा मां की मूर्तियों को तोड़ा गया। जिस पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने चिंता व्यक्त की है। विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा कि हमें बांग्लादेश में धार्मिक आयोजनों के दौरान आक्रामकता की कुछ परेशान करने वाली घटनाओं की खबरें मिली हैं। बांग्लादेश सरकार ने कानून-व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए तैनाती समेत तत्काल कदम उठाए हैं। आपको बता दें कि यह घटना कल यानि बुधवार की शाम कोमिला के नानुआ दिघी में हुई. इस दौरान भीड़ ने यहां दुर्गा पूजा पंडाल पर हमला कर दिया।
आपको बता दें कि अपने सबसे बड़े हिंदू धार्मिक त्योहार के जश्न के बीच कोमिला जिले और बांग्लादेश में अन्य जगहों पर मंदिरों और दुर्गा पूजा पंडालों पर हमलों की एक श्रृंखला सोशल मीडिया के माध्यम से फैली अफवाहों के बाद आई। अधिकारियों ने घटनाओं को गंभीरता से लिया है, अर्धसैनिक बलों को तैनात किया है और अधिकारियों से अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। कुरान का कथित तौर पर अनादर करने को लेकर कोमिला का एक मंदिर मंगलवार की रात फ्लैशपोइंट बन गया। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि बीएनपी और जमात-ए-इस्लाम के कुछ बदमाशों ने मंगलवार रात ननुयार दिघिर के मंदिर में दुर्गा पंथ में गणेश के चरणों में पवित्र कुरान की एक प्रति रख दी।
जिले के एक अधिकारी ने कहा, अराजक तत्वों ने इसकी कुछ तस्वीरें लीं और भाग गए। कुछ ही घंटों में, फेसबुक का इस्तेमाल कर भडक़ाऊ तस्वीरों के साथ प्रचार जंगल की आग की तरह फैल गया। गुस्साई भीड़ ने पूजा पंडालों और मंदिर में तोडफ़ोड़ की. सत्ताधारी अवामी लीग के कार्यकर्ताओं ने पुलिस के साथ मिलकर दुर्गा पूजा पंडालों और मंदिरों की घेराबंदी की। बाद में दिन में, कोमिला शहर और जिले के अन्य संवेदनशील क्षेत्रों और क्षेत्र में अन्य जगहों पर सुरक्षा बलों की अधिक इकाइयाँ तैनात की गईं। एक आपातकालीन नोटिस में, धार्मिक मामलों के मंत्रालय ने कहा कि उसे रिपोर्ट मिली थी कि कोमिला में धार्मिक पाठ का अपमान किया गया था, लेकिन जनता से कानून को अपने हाथ में नहीं लेने का आग्रह किया और धार्मिक सद्भाव और शांति बनाए रखने की अपील की। दोहराया गया। बढ़ते सांप्रदायिक तनाव को देखते हुए बांग्लादेश बॉर्डर गार्ड के जवानों को कोमिला में तैनात किया गया है।


Next Story
Share it