आंखों की सेहत का रखें ख्याल, करेंगे ये काम तो मिलेगा आराम

आंखों की सेहत का रखें ख्याल, करेंगे ये काम तो मिलेगा आराम


नई दिल्ली। एक समय था जब लोग कहते थे कि बुढ़ापा अभी तक नहीं आया है, जिसके लिए चश्मा पहनना जरूरी है। आज के समय में यह बात पूरी तरह से गलत साबित हुई है, क्योंकि आज छोटे बच्चे से लेकर युवा पीढ़ी के ज्यादातर लोग आंखों की समस्याओं से जूझ रहे हैं। आंखों की रोशनी खराब होने के कारण कम उम्र में चश्मा पहना जाता है। साथ ही आंखों में जलन, सूखापन, लालिमा और आंसू जैसी समस्याएं भी आती हैं। इसका एक बड़ा कारण लगातार लैपटॉप और मोबाइल पर घंटों तक जमे रहना है। कोरोना युग में घर से काम की संस्कृति ने इस समस्या को और भी बढ़ा दिया है।
इसके अलावा प्रदूषण, गलत खाने और अनुवांशिकता को भी इसका कारण माना जाता है। अगर हम बेहतर डाइट के साथ-साथ नियमित रूप से कुछ आंखों के व्यायाम करते हैं तो आंखों को लगातार होने वाले नुकसान को रोका जा सकता है। इसका कारण यह है कि आंखों की रोशनी तभी गिरती है जब आंखों की पुतली की बनावट में बदलाव होता है, आंखों की लंबाई और कॉर्निया में बदलाव होता है। इसे आंखों के व्यायाम के जरिए नियंत्रित किया जा सकता है, साथ ही यह तनाव को कम करने में मदद करता है।
जब भी हम लैपटॉप या मोबाइल पर काम करते हैं तो हम काम में इतने तल्लीन हो जाते हैं कि हम अपनी नजरें लंबे समय तक लैपटॉप पर रखते हैं। ऐसी स्थिति में पलकें झपकाने का मौका लंबे समय तक नहीं मिलता। इस कारण आंखों के सामने धुंधला दिखने की समस्या होती है। इस समस्या से बचने के लिए कम से कम हर दो मिनट बाद चार सेकंड तक लगातार अपनी पलकें झपकाएं और फिर आंखों को बंद करें। इसे कुछ सेकंड के लिए बंद रखें और फिर आंखें खोलें। इस प्रक्रिया को दिन में 4 से 5 बार दोहराएं। इससे तनाव कम होगा, आंखों की थकान दूर होगी और आंखों को फिर से चिकनाई मिलेगी।
आंखों की बेहतर सेहत के लिए पेंसिल पुशअप्स को भी बहुत अच्छा माना जाता है। इससे आंखों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। इसके जरिए प्रेस्बायोपिया को रोका जा सकता है। इसके लिए अपनी आंखों के सामने एक हाथ की दूरी पर पेन या पेंसिल पकड़ें और उसके टिप पर ध्यान दें। धीरे-धीरे इसे अपनी आंखों की ओर लाएं। जब तक आप टिप आपको एक से दो न दिखाई दें तब तक आप ऐसा ही करते रहें। इसे फिर से दूर ले जाएं और अनुक्रम दोहराएं। इस क्रम को एक बार में 10 से 15 बार दोहराएं।
आरामदायक स्थिति में बैठें और कुछ पलों के लिए अपनी आंखें बंद कर लें। हथेलियों को रगडक़र ऊर्जा बनाएं और बंद आंखों पर रखें। पलकों और आईब्रो को 10-20 सेकंड तक उंगलियों से मसाज करें। ऐसा करने से आंखों की थकान दूर होती है। ब्लड सर्कुलेशन अच्छा रहता है और आंखों की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है। इससे सूखापन की समस्या दूर होती है।
खुद से छह फीट की दूरी पर बड़ा 8 लिखकर दीवार पर रख दें। अब अपनी आंखों की पुतलियों को 8 के आंकड़े के अनुसार ले जाएं, पहले दक्षिणावर्त फिर एंटी-क्लॉकवाइज दिशा में। इससे आप कुछ ही दिनों में काफी सहज महसूस करेंगे।


Next Story
Share it