जम्मू-कश्मीर में चालीस जगह की सीबीआई ने छापेमारी

जम्मू-कश्मीर में चालीस जगह की सीबीआई ने छापेमारी


श्रीनगर। फर्जी बंदूक लाइसेंस मामले की जांच कर रही केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शनिवार को श्रीनगर के पूर्व डीसी शाहिद इकबाल चौधरी के आधिकारिक आवास सहित 40 स्थानों पर छापेमारी की। मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआई ने जम्मू, श्रीनगर, उधमपुर, राजौरी, अनंतनाग और बारामूला आदि जगहों पर जांच की। आपको बता दें कि फर्जी बंदूक लाइसेंस मामले में सीबीआई लंबे समय से जांच कर रही है। इसी क्रम में भारी बल के साथ शाहिद चौधरी के तुलसीबाग स्थित आवास पर पहुंची सीबीआई की टीमों ने वहां तलाशी ली। जिसमें कुछ पूर्व लोक सेवकों (आईएएस, केएएस अधिकारियों सहित तत्कालीन डीएम और एडीएम आदि) के आधिकारिक और आवासीय परिसर शामिल हैं।
एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया कि हथियार लाइसेंस रैकेट से जुड़े एक मामले में चल रही जांच के तहत वह करीब 20 बंदूक घरों या डीलरों की तलाशी भी ले रही है। सीबीआई के एक अन्य अधिकारी ने कहा कि तलाशी शनिवार सुबह शुरू हुई। एजेंसी के एक सूत्र ने खुलासा किया कि सीबीआई श्रीनगर के पूर्व उपायुक्त शाहिद इकबाल चौधरी और एक अन्य आईएएस अधिकारी नीरज कुमार सहित अन्य के परिसरों की तलाशी ले रही है। सीबीआई ने जम्मू-कश्मीर सरकार के अनुरोध पर और केंद्र सरकार के आदेश पर दो मामले दर्ज किए थे। 17 मई, 2018 को, सीबीआई ने 2012 और 2016 के बीच की अवधि के दौरान जम्मू और कश्मीर के तत्कालीन राज्य में हथियार लाइसेंस जारी करने के आरोपों पर दो प्राथमिकी की जांच का जिम्मा संभाला। यह आरोप लगाया गया है कि 2।78 लाख से अधिक हथियार लाइसेंस जारी किए गए थे। गैर-हकदार व्यक्ति।
सीबीआई ने कथित तौर पर जम्मू-कश्मीर के 22 जिलों में फैले उक्त सशस्त्र लाइसेंस जारी करने से संबंधित दस्तावेज भी एकत्र किए हैं। अधिकारी ने बताया कि दस्तावेजों की जांच के दौरान कुछ बंदूक डीलरों की भूमिका मिली है जिन्होंने संबंधित जिलों के तत्कालीन डीएम और एडीएम सहित लोक सेवकों की मिलीभगत से अपात्र व्यक्तियों को इस तरह के अवैध हथियार लाइसेंस जारी किए थे। उन्होंने कहा कि यह भी आरोप लगाया गया है कि जिन लोगों को ये लाइसेंस मिले, वे उन जगहों के निवासी नहीं थे, जहां से उक्त शस्त्र लाइसेंस जारी किए गए थे।


Next Story
Share it