नीतीश के बाद मांझी भी आए मैदान में, लगाएंगे अपना दरबार

नीतीश के बाद मांझी भी आए मैदान में, लगाएंगे अपना दरबार


नई दिल्ली। पांच साल बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर जुलाई माह से जनता के दरबार में मुख्यमंत्री का कार्यक्रम शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री द्वारा कार्यक्रम शुरू करने के बाद बिहार भाजपा के मंत्रियों ने सहयोग कार्यक्रम शुरू किया। बीजेपी के बाद जदयू के मंत्रियों ने भी जनसुनवाई का कार्यक्रम शुरू कर दिया है। अब बिहार एनडीए के घटक दल हम ने भी जनता दरबार आयोजित करने का फैसला किया है।
मिली जानकारी के अनुसार पटना में मंत्री संतोष मांझी और विधायक पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के आवास पर हर मंगलवार को जनता दरबार का आयोजन करेंगे। इस संबंध में जानकारी देते हुए पार्टी प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा, हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी और मंत्री संतोष मांझी के निर्देश पर पार्टी ने तय किया है कि पार्टी के मंत्री और विधायक हर मंगलवार को होंगे। जनता से मिलेंगे और उनकी समस्याएं सुनेंगे। साथ ही अधिकारियों को निर्देश देकर हम उनकी समस्याओं का समाधान करेंगे।
पार्टी प्रवक्ता ने कहा, यह बिल्कुल स्पष्ट है कि जनता द्वारा हमें जो जनादेश दिया गया है, वह सेवा करना है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमारे नेता ने साफ कहा कि जनता की सेवा के लिए दिन-रात मेहनत करें। इसे ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है ।
ऐसी स्थिति में बिहार एनडीए में शामिल चार दलों में से बीजेपी, हम और जेडीयू के नेता जनता से जुडऩे की कोशिश कर रहे हैं। इस संबंध में सभी अलग-अलग कार्यक्रमों के तहत दरबार आयोजित कर रहे हैं। हालांकि, इस तरह से मंत्रियों का दरबार लगाना एक फैशन है या फिर वो वास्तव में जनता की समस्याओं को सुनना और उन्हें दूर करना चाहते हैं ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा.......


Next Story
Share it