नीतीश से पंगा लेना पड़ा भारी, पार्टी से किए गए निलंबित

नीतीश से पंगा लेना पड़ा भारी, पार्टी से किए गए निलंबित


पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ बयानबाजी करने पर पार्टी ने बड़ा कदम उठाया है। एमएलसी टुन्ना पांडे को पार्टी ने सस्पेंड कर दिया है। एमएलसी टुन्ना पांडे ने सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ सीधा मोर्चा खोल दिया था। उन्होंने कहा था कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री हो सकते हैं, लेकिन वह हमारे नेता नहीं हो सकते। जदयू नेता एमएलसी टुन्ना पांडे के खिलाफ लामबंद हो गए और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे थे। जदयू के सीवान जिलाध्यक्ष ने भी उन्हें भाजपा से निष्कासन की मांग की थी। टुन्ना पांडे ने सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा है कि वे हालात के मुख्यमंत्री हैं और तेजस्वी यादव की पार्टी सत्ता के दम पर हार गई। टुन्ना पांडे के इस बयान पर भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें नोटिस भेजा और जवाब भी मांगा।
टुन्ना पांडे स्थानीय निकाय कोटे से विधान परिषद के सदस्य हैं, जिनका चुनाव इसी साल होना है। बताया जा रहा है कि पांडे चुनाव से पहले बीजेपी छोडक़र राजद में शामिल होने की कोशिश कर रहे हैं, इसलिए लगातार नीतीश कुमार के खिलाफ बयान दे रहे हैं। टुन्ना पांडे के भाई राजद से विधायक हैं। बच्चा पांडे ने जदयू प्रत्याशी को हराकर बरहरिया से राजद के टिकट पर चुनाव जीता है।
जानकारी के मुताबिक टुन्ना पांडे की जदयू से अनबन हो गई है। उन्होंने अब नीतीश कुमार के खिलाफ बयान देकर सीधा मोर्चा खोल दिया है। टुन्ना पांडे ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री हो सकते हैं, लेकिन वह हमारे नेता नहीं हो सकते। गौरतलब है कि बिहार चुनाव के नतीजे आने के बाद टुन्ना ने कहा था कि नीतीश कुमार और सुशील मोदी को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए।
सियासी गलियारों में इस बात की जोर-शोर से चर्चा हो रही है कि टुन्ना पांडे राजद में अपनी जगह बना रहे हैं। यही वजह थी कि उन्होंने सीवान में मोहम्मद शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा शहाब से मुलाकात की और शहाबुद्दीन से न मिलने की बात पर तेजस्वी का बचाव भी किया। टुन्ना पांडे ने लगातार सख्त रुख अख्तियार करते हुए सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोला और यहां तक कह दिया कि वह किसी से नहीं डरते।


Next Story
Share it