नमामि गंगे परियोजना से साफ हुईं गंगा: योगी

  • कहा, गंगा किनारे रहने वाले किसानों की आय बढ़ाने में जुटी सरकार
  • सीएम ने बिजनौर और राज्यपाल ने बलिया से किया गंगा यात्रा का शुभारंभ
  • यात्रा में केंद्र सरकार के आठ और प्रदेश सरकार के 56 मंत्री हुए शामिल

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज विजनौर में पांच दिवसीय गंगा यात्रा का शुभारंभ किया। उन्होंने गंगा नदी के किनारे विधिवत पूजन के बाद गंगा यात्रा को रवाना किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगा यात्रा आयोजन अत्यंत आवश्यक था। नमामि गंगे परियोजना की वजह से गंगा निर्मल हो गईं। कानपुर में गंगा का पानी स्वच्छ हो गया है। गंगा किनारे रहने वाले किसानों की आय बढ़ाने की लगातार कोशिश की जा रही है। इस दौरान केंद्रीय राज्यमंत्री संजीव बालियान समेत कई अन्य मंत्री, सांसद, विधायक व नेता उपस्थित रहे। वहीं दूसरी ओर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बलिया में गंगा यात्रा के दूसरे हिस्से का शुभारंभ किया। यहां केंद्रीय मंत्री डॉ. महेन्द्र नाथ पांडेय व बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी मौजूद रहे।
योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन में कहा कि गंगा का स्थान मां के समान है। वह प्राणदायिनी और पाप नाशिनी हैं। गंगा को हर हाल में स्वच्छ रखना हम सबका दायित्व है। कोई भी व्यक्ति गंगा नदी में कूड़ा, करकट और गंदगी न फेंके। सरकार ने नमामि गंगे परियोजना समेत कई तरह की योजनाएं बनाकर गंगा को स्वच्छ रखने का सफल प्रयास किया है। इसलिए सबको मिलकर गंगा को स्वच्छ रखने का संकल्प लेना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने प्रयास किया तो गंगा साफ हो गईं लेकिन दिल्ली में यमुनाजी पा पानी अभी भी गंदा है, क्योंकि दिल्ली की सरकार ने यमुना की सफाई के लिए कुछ नहीं किया। बता दें, बिजनौर और बलिया से शुरू हो रही पांच दिवसीय गंगा यात्रा का भव्य समापन 31 जनवरी को कानपुर में गंगा के किनारे होगा। यात्रा के दौरान प्रदेश सरकार के 56 और केंद्र सरकार के 8 मंत्री शामिल हुए। ये यात्राएं प्रदेश के 87 विधानसभा क्षेत्रों, 26 लोकसभा क्षेत्रों व 27 जिलों से गुजरेंगी।

इन जगहों से होकर गुजरेगी यात्रा

गंगा यात्रा की पहली टीम बिजनौर से कानपुर और दूसरा बलिया से कानपुर तक जायेगी। बिजनौर से कानपुर तक निकलने वाली गंगा यात्रा पहले दिन मेरठ जिले के हस्तिनापुर में रात्रि विश्राम करेगी। 28 जनवरी को उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति और केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान मौजूद रहेंगे। 29 जनवरी को कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना, ब्रजेश पाठक और केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल तथा 30 जनवरी को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो खासतौर पर मौजूद रहेंगे। इसी तरह बलिया से कानपुर तक जाने वाली गंगा यात्रा पहले दिन गाजीपुर में रात्रि विश्राम करेगी। इस यात्रा में 28 जनवरी को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत उपस्थित रहेंगे। 29 जनवरी को सीएम योगी आदित्यनाथ, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर मौजूद रहेंगे। 30 जनवरी को उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी मौजूद रहेंगे। गंगा तट के जिलों के सभी मंत्री यात्रा के दौरान उपस्थित रहेंगे। इसके बाद 31 जनवरी को यात्रा का समापन हो जाएगा।

महिलाओं के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापस ले सरकार: मायावती

  • कहा, विरोध प्रदर्शन में मरने वालों के परिजनों को मिले उचित मदद

पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजंस (एनआरसी) के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाओं व अन्य प्रदर्शनकारियों को लेकर बड़ा बयान दिया है। मायावती ने कहा कि भाजपा सरकार महिला प्रदर्शनकारियों समेत अन्य के खिलाफ दर्ज गलत मुकदमों को तुरंत वापस ले। इसके साथ ही यदि विरोध-प्रदर्शन के दौरान किसी की जान चली गई है, तो उस व्यक्ति के परिवार वालों की उचित मदद करे।
मायावती ने आज ट्विटर पर प्रदर्शनकारियों पर दर्ज मुकदमे वापस लेने की मांग की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि सीएए व एनआरसी आदि के विरोध में संघर्ष करने वाली महिलाओं समेत जिन लोगों के भी खिलाफ यूपी बीजेपी सरकार द्वारा गलत मुकदमे दर्ज किए गए हैं, उन्हें तुरन्त वापस लिया जाए और इस दौरान जिनकी जान गई है सरकार उनकी भी उचित मदद करे, यह बसपा की मांग है। बता दें लखनऊ के घंटाघर समेत कानपुर, प्रयागराज व मेरठ जिलों में दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर महिलाओं का विरोध प्रदर्शन जारी है। इस दौरान लखनऊ में प्रदर्शन कर रही 125 महिलाओं के खिलाफ धारा 144 का उल्लंघन, सरकारी कार्य में दखल देने जैसी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। कांग्रेस, सपा, बसपा समेत तमाम संगठन प्रदर्शनकारी महिलाओं का समर्थन कर रहे हैं। वहीं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में यूपी पुलिस के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने का मन बना लिया है।

 

भारत में रहता तो नहीं मिलता नोबेल: अभिजीत

  • कहा, स्वीकार नहीं करूंगा आरबीआई के गवर्नर का पद

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी ने कहा है कि अगर वह भारत में रहते तो शायद उन्हें नोबेल पुरस्कार नहीं मिलता। जयपुर साहित्य महोत्सव के सत्र को संबोधित करते हुए 58 वर्षीय भारतीय अमेरिकी अर्थशास्त्री ने कहा कि अधिनायकवाद और आर्थिक सफलता में कोई संबंध नहीं है।
अभिजीत ने कहा कि मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में रहने का मुझे बहुत लाभ मिला। वहां मेरे पास दुनिया के सबसे अच्छे संभावित पीएचडी छात्र थे। ऐसा नहीं कि यहां प्रतिभा की कमी है, लेकिन बड़े पैमाने पर लोगों को एक साथ लाना और फिर उस पर काम करना कठिन है। वहीं भारतीय रिजर्व बैंक का गर्वनर बनने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अगर उन्हें प्रस्ताव मिलेगा तो वह इस पद को स्वीकार नहीं करेंगे क्योंकि इस पद के लिए किसी बड़े अर्थशास्त्री की जरूरत है।

राजस्थान और बिहार में कोरोना वायरस के संदिग्ध

  • चीन से आए छात्र को अस्पताल में कराया गया भर्ती

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। चीन में तेजी से फैल रहे जानलेवा कोरोना वायरस को लेकर दुनिया के ज्यादातर देश अलर्ट पर हैं। चीन से भारत आने वाले संदिग्ध लोगों की एयरपोर्ट पर ही जांच की जा रही है। इसी कड़ी में राजस्थान के बाद बिहार में भी कोरोना वायरस का एक संदिग्ध मामला सामने आया है। बीमारी का लक्षण मिलने के बाद संदिग्ध मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
चीन में एमबीबीएस कोर्स पूरा करने के बाद संदिग्ध मरीज भारत लौटा है। राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्रशासन को निर्देश दिया है कि मरीज को आइसोलेशन वार्ड में तुरंत शिफ्ट किया जाए और परिवार के सदस्यों की जांच भी की जाए। कोरोना वायरस के संदिग्ध छात्र के नमूनों को पुणे की नेशनल वायरोलॉजी लेबोरेटरी में भेजने के लिए दिशा-निर्देश भी जारी किए गए हैं। हालांकि अभी कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हुई है। बता दें, स्वास्थ्य मंत्रालय ने मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर चीन से आने वाले यात्रियों को कोरोना वायरस के बारे में जानकारी देने के लिए जगह-जगह बोर्ड लगाए हैं। इससे पहले मुंबई में भी चीन से लौटे कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मरीजों की पहचान हुई थी।

एयर इंडिया को बेचने का फैसला गलत: स्वामी

कहा सरकार के फैसले के खिलाफ जाएंगे कोर्ट

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। कर्ज के बोझ से दबी सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया को बेचने के मोदी सरकार के फैसले पर उसके ही सांसद ने सवाल खड़े कर दिए हैं। राज्यसभा सांसद और भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि यह फैसला देश विरोधी है और वे इसके खिलाफ कोर्ट में अपील करेंगे।
स्वामी ने कहा कि एयर इंडिया को बेचने के लिए प्रक्रिया शुरू हो रही है। यह डील पूरी तरह से देशविरोधी है और मजबूरी में मुझे कोर्ट जाना पड़ेगा। हम अपने परिवार की सामूहिक संपत्ति को इस तरह से बेच नहीं सकते हैं। गौरतलब है कि कर्ज के बोझ से जूझ रही एयर इंडिया को बेचने के लिए एक बार फिर से बोली मंगाई गई है। सरकार ने एयर इंडिया में 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का फैसला किया है। गृहमंत्री की अध्यक्षता में बने एक मंत्री समूह ने 7 जनवरी को इस विमानन कंपनी के निजीकरण से जुड़े प्रस्ताव को मंजूरी दी थी।

अदनान सामी के पद्मश्री पर हंगामा

  • कांग्रेस ने कहा चमचागिरी से मिला पुरस्कार

भोपाल। कांग्रेस के प्रवक्ता और अमेरिका स्थित बर्कलेे लॉ स्कूल से कानून की पढ़ाई कर चुके जयवीर शेरगिल ने जानेमाने गायक अदनान सामी को पद्मश्री से नवाजे जाने पर नाराजगी जताई है। जयवीर ने अदनान सामी का पाकिस्तानी सेना से कनेक्शन निकालकर पद्मश्री दिए जाने का विरोध किया। उन्होंने इस अवॉर्ड को भाजपा की ‘चमचागिरी’ के एवज में मिला इनाम तक बताया है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने अदनान सामी को अवॉर्ड मिलने पर बधाई दी है। इस पर अदनान सामी ने भी पलटवार किया है।
दिग्विजय सिंह ने सभी पद्मश्री पदक विजेताओं को बधाई दी। उन्होंने कहा कि मैंने भी अदनान सामी को भारतीय नागरिकता देने के लिए भारत सरकार से पैरवी की थी। जबकि जयवीर ने कहा कि अदनान सामी के पिता पाकिस्तान वायुसेना के अफसर थे, जिन्होंने हिंदुस्तान पर गोला-बारूद बरसाया। इसके बाद भी अदनान को पद्मश्री से नवाजा गया। वहीं अदनान ने कहा कि ‘क्या तुम्हें बर्कले में यही सिखाया है कि माता-पिता के कामों का जिम्मेदार उनका बेटा होता है? क्या तुम वकील हो? क्या तुमने यही लॉ स्कूल में सीखा है?

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.