प्याज के ‘शतक’ से देश में हाहाकार

१०० रुपये किलो हुई कीमत, सलाद में प्याज की जगह मूली बनी विकल्प
विपक्ष ने सरकार पर बोला हमला, अभी और हो सकता है महंगा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। प्याज की कीमतों ने आम आदमी को रूला दिया है। बाजार में प्याज सौ रुपये किलो बिक रहा है। बढ़ती कीमतों के कारण थाली से प्याज गायब होता जा रहा है। इस मामले को लेकर विपक्ष ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। संसद से सडक़ तक विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है। वहीं तमाम कवायदों के बाद भी कीमतों में कमी नहीं हो रही है।
पुरानी कहावत है जब कोई चीज महंगी होती है तो आदमी उसका विकल्प तलाशने लगता है। आज यही हाल प्याज का हो रहा है। बढ़ती कीमतों के कारण प्याज आज आम आदमी की पहुंच से दूर हो गया है। लोग सब्जी में तडक़ा लगाने का विकल्प तलाश रहे हैं। सलाद में प्याज की जगह मूली ने ले ली है। रेस्टोरेंट में भी प्याज की जगह अन्य सलाद सर्व किए जा रहे हैं। तीन महीने पहले सितंबर में बीस रुपए किलो मिलने वाला प्याज अक्टूबर में 50 रुपए तक पहुंच गया। वहीं नवंबर में इसकी कीमत आसमान छूने लगी। इस महीने यह 80 रुपए किलो तक बिका। दिसंबर की शुरूआत में प्याज ने शतक लगा दिया है। बाजार में यह प्रति किलो सौ रूपये में बिक रहा है। प्याज के दामों में हुई बढ़ोतरी से आम आदमी के आंसू निकल पड़े हैं। महंगे दाम के कारण लोगों ने प्याज से किनारा कर लिया है। दूसरी तरफ सरकार के सस्ते दाम पर प्याज बेचने के दावे भी खोखले साबित हो रहे हैं। शुरूआत में सरकार ने प्याज 30 रुपए किलो बेचा लेकिन जब बाजार में इसका रेट बढ़ा तो वह भी 57 रुपए किलो प्याज बेचने लगी। मंडी में प्याज की बढ़ती कीमतों के कारण लोगों की हालत खराब हो गई है। वे फिलहाल प्याज खरीदने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। सब्जी मंडी दुबग्गा के थोक व्यापारी शहनवाज का कहना है कि राजधानी में प्याज की आवक काफी कम हो गई है। आपूर्ति कम होने के कारण इसके दामों में भारी इजाफा हो गया है। बावजूद इसके हम अपना मुनाफा कम करके आम आदमी को कम कीमत पर प्याज दे रहे हैं। कुल मिलाकर प्याज की कीमतों पर लगाम नहीं लग पा रही है। इस मामले को लेकर विपक्षी पार्टियों ने सरकार पर हमला बोल दिया है। कांग्रेस ने तो विरोध के तौर पर बाजार में प्याज बेचा। सरकार के तमाम दावों के बावजूद स्थितियों में कोई सुधार नहीं हो रहा है। फिलहाल, आम आदमी को सस्ते प्याज का इंतजार है। हालांकि जब तक नई प्याज बाजार में नहीं आयेगी तब तक सस्ते होने के आसार दूर-दूर तक नहीं दिखाई दे रहे हैं।

कहां से आता है प्याज
यूपी के हरदोई, बाराबंकी, फतेहपुर, महाराष्टï्र के नासिक और मध्य प्रदेश के शिवपुरी से प्याज आता है।

तुर्की से होगा 11 हजार टन प्याज का आयात
सरकारी कंपनी एमएमटीसी ने प्याज की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के प्रयासों के तहत तुर्की से 11 हजार टन प्याज आयात करने का नया ठेका दिया है।

महंगे प्याज को लेकर गृहणियों में दिख रहा आक्रोश

हजरतगंज निवासी गीता कनौजिया का कहना है कि प्याज 100 रुपए किलो हो गया है। एक के बजाय आधा किलो प्याज खरीद कर काम चलाना पड़ रहा है। बिना प्याज के सब्जी में टेस्ट नहीं आता है।
आगरा निवासी बबिता का कहना है कि मेरा तो प्याज के बिना गुजारा नहीं होता लेकिन महंगाई के कारण प्याज लेने से पहले सोचना पड़ता है। कीमतों को देखते हुए थोड़ा प्याज लेती हूं।

मडिय़ांव निवासी पिंकी का कहना है कि जब से प्याज मंहगी हुई है मैंने प्याज खाना ही बंद कर दिया है। जब सस्ती होगी तभी खरीदेंगे। उसकी जगह मुझे विकल्प खोजना पड़ रहा है।

बंगला बाजार निवासी पूनम का कहना है कि प्याज ने मेरा जायका बिगाड़ दिया है। जहां पहले मैैं बिना प्याज के सब्जी नहीं बनाती थी वहीं अब मुझे समझौता करना पड़ रहा है।

लखनऊ के एक हॉस्टल में रहने वाली सुधा का कहना हैं कि पहले टिफिन में प्याज मूली टमाटर का सलाद आता था। दाल भी बिना प्यज के तडक़े का मिल रहा है।

सोशल मीडिया पर प्याज हो रहा ट्रेंड

प्याज के लिए सोशल मीडिया पर भी हैशटैग ट्रेंड कर रहा है। लोगों ने इसे बड़े मजाकिया अंदाज में पेश किया है…

टिक-टॉक पर चल रहा है जब किसी ने शादी के सगुन में इतना महंगा तोहफा दिया- प्याज
सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने प्याज को बहुत संभाल कर रखा है। किसी ने प्याज को तालों में बंद कर दिया तो कोई इसे साथ में लेकर सो रहे हैं।

कुछ लोगों ने तीन प्याज के बदले अपना सबसे प्यारा आईफोन तक गिरवी रख दिया है।

बिक्री केन्द्रों को मंडी के थोक दामों पर प्याज उपलब्ध कराया जाता है। मंडी समिति इस पर कोई मुनाफा नहीं लेती इसलिए जब भी मंडी में दाम चढ़ता है उसका असर बिक्री केन्द्र पर भी पड़ता है।
-संजय सिंह
मंडी सचिव

 

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.