संविधान पीठ के फैसले पर जनता की मुहर

  • अयोध्या में सब कुछ सामान्य, बनेगा भव्य मंदिर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अयोध्या में राम जन्म भूमि विवाद पर बहुप्रतीक्षित सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय न्यायाधीशों की पीठ ने अपना फैसला सर्व सम्मति से सुना दिया। इस फैसले के तहत विवादित भूमि पर राम लला का हक स्वीकार किया गया। निर्मोही अखाड़े और शिया वक्फ बोर्ड की विवादित जमीन पर स्वामित्व की अपील खारिज कर दी गई। केन्द्र व राज्य सरकार की सलाह से मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ जमीन दी जाएगी, जहां मस्जिद बनेगी। इस फैसले को देश की जनता ने बड़े ही प्रेम, सौहार्द, सद्भाव और शांति के साथ स्वीकार किया है। राम की जन्मभूमि अयोध्या ही नहीं प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी सब कुछ सामान्य नजर आया। यहां की जनता अपने सारे काम अपनी रौ में करती नजर आई। अब सबको अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनने का इंतजार है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर प्रतिक्रिया

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला ऐतिहासिक है। सुप्रीम कोर्ट का यह निर्णय भारत के सामाजिक ताने-बाने को और मजबूत करेगा। मैं सभी से आग्रह करता हूं कि फैसले को समान भाव से स्वीकार करें। मैं लोगों से अपील करता हूं कि इस ऐतिहासिक फैसले के बाद शांति और सद्भाव बनाए रखें।
राजनाथ सिंह, रक्षामंत्री

भारतीय जनता पार्टी रामजन्मभूमि पर देश के उच्चतम न्यायालय द्वारा सर्वसम्मति से लिए गए निर्णय का स्वागत करती है। यह किसी की विजय-पराजय नहीं है। देश के सभी नागरिक राष्ट्र को प्रथम मानते हुए, शान्ति और सौहार्द बनाए रखें।
जेपी नड्डा, कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष, भाजपा

मैं देशवासियों से अपील करता हूं कि सभी सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करें और शांति व्यवस्था बनाए रखें। प्रधानमंत्री ने सही कहा है कि इस फैसले में किसी की हार या जीत नहीं होगी।
महंत सत्येन्द्र दास, मुख्य पुजारी, राम मंदिर

सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद, सब फैसले का सम्मान करें, ये उम्मीद देश को है। धार्मिक सद्भाव और सहिष्णुता हमारे राष्ट्रीय चरित्र का अमूल्य अंग है। राष्ट्रीय लोकदल हमेशा संवैधानिक मूल्यों की रक्षा के लिए तत्पर है। अब हम देश के विकास के मुद्दों पर अपना ध्यान केंद्रित करें।
जयंत चौधरी, उपाध्यक्ष रालोद

यह फैसला ऐतिहासिक है। अब अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनेगा। हमें ऐसा कुछ नहीं करना है जिससे किसी समाज या समुदाय में भय या आक्रोश का माहौल पैदा हो। हमें उन मर्यादाओं का पालन करना है जिनके लिए भगवान श्रीराम स्वयं जीये। हिंदू भाइयों को भी मस्जिद के निर्माण में योगदान देना चाहिए।
बाबा रामदेव, योग गुरू

हमें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। मैं सभी से आग्रह करता हूं कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार करें और शांति बनाए रखें।
नितिन गडकरी, केन्द्रीय जहाजरानी एवं परिवहन मंत्री

सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद सुप्रीम कोर्ट की बेंच के पांचों जजों ने एकमत से आज अपना निर्णय दिया। हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं। कई दशकों के विवाद पर आज सुप्रीम कोर्ट ने निर्णय दिया। वर्षों पुराना विवाद आज खत्म हुआ। मेरी सभी लोगों से अपील है कि शांति एवं सौहार्द बनाए रखें।
अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री दिल्ली

मैं सभी देशवासियों से अपील करता हूं कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वीकार करें और उसका सम्मान करें। भाईचारे की भावना हमारे धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने की पहचान है।
नवीन पटनायक मुख्यमंत्री, ओडिशा

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.