डेंगू का कहर जारी, एक और मरीज की मौत

  • रोग से मरने वालों की संख्या हुई दस

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में डेंगू का कहर जारी है। इसकी चपेट में आकर एक और मरीज की मौत हो गई है। फैजुल्लागंज निवासी डेंगू मरीज की पीजीआई में इलाज के दौरान सोमवार की देर रात मौत हो गई। परिवारीजनों के मुताबिक मरीज का वेंटिलेटर पर इलाज चल रहा था। हालांकि मरीज की मौत डेंगू से हुई है इसकी पुष्टि अभी सीएमओ ने नहीं की है। इसी के साथ डेंगू से मरने वालों की संख्या 10 पहुंच गई है।
फैजुल्लागंज में डेंगू से मौतों और पीडि़तों की संख्या बढऩे से स्थानीय लोग सहमे हुए हैं। फैजुल्लागंज के केशव नगर निवासी रजनीश श्रीवास्तव (42) को आठ दिन पहले बुखार आया था। परिवारीजन निजी अस्पताल में उसका इलाज करा रहे थे। जांच में डेंगू की पुष्टि हुई थी। करीब चार दिन पहले तीमारदारों ने रजनीश को पीजीआई में वेंटिलेटर पर भर्ती कराया। देर रात रजनीश ने पीजीआई में दम तोड़ दिया।
कई जगह मिले लार्वा
सीएमओ प्रवक्ता योगेश रघुवंशी ने बताया कि फाइट द बाइट अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने 1908 जगह जांच किया। इसमें 72 जगह डेंगू का लार्वा मिलने पर नोटिस दी गई। लार्वा निगम जोन चार कार्यालय, बालागंज, ठाकुरगंज, सआदतगंज, इन्दिरा नगर, सालेह नगर, तेलीबाग में मिला है।

झलकारी बाई अस्पताल में प्रसूता की मौत पर हंगामा

  • परिजनों ने चिकित्सकों पर लगाया लापरवाही का आरोप

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। हजरतगंज के झलकारी बाई महिला अस्पताल में सोमवार रात एक महिला की मौत हो गई। गुस्साएं परिवारीजनों ने अस्पताल में तोडफ़ोड़ की। साथ ही सडक़ जाम कर अस्पताल के खिलाफ नारेबाजी करते हुए हंगामा किया।
कैसरबाग के कंधारी बाजार निवासी तेज कुमार की पत्नी सुनीता को परिवारीजनों ने प्रसव पीड़ा होने पर भर्ती कराया था। नॉर्मल डिलीवरी से सुनीता ने स्वस्थ शिशु को जन्म दिया। परिवारीजनों का आरोप है कि सुनीता को वार्ड में शिफ्ट करने के दौरान सांस लेने में तकलीफ हुई। पर नर्सों ने सामान्य बात कहते हुए उसे बेड पर लिटा दिया। कुछ देर बाद उसकी तबियत बिगड़ गई। डॉक्टर और स्टॉफ को बुलाया तो कोई सुनने को तैयार नहीं हुआ। विरोध करने पर डॉक्टर आए और ऑक्सीजन लगा दिया। ऑक्सीजन मॉस्क खराब था, जिससे हालत और बिगड़ गई। कुछ ही देर में सुनीता ने दम तोड़ दिया है। उसके बाद परिवारीजनों ने हंगामा किया।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.