पुलिसकर्मियों की चिंताएं दूर कर अच्छा माहौल देगी सरकार: शाह

  • 90 प्रतिशत पुलिसकर्मियों को हर रोज 12 घंटे से भी अधिक समय तक काम करना पड़ता है और उनमें से तीन चौथाई कर्मी साप्ताहिक अवकाश भी नहीं ले पाते।
  • 35 000 से अधिक पुलिसकर्मियों की जान स्वतंत्रता के बाद से गई है
  • गृहमंत्री ने पुलिस स्मृति दिवस पर जवानों को दिलाया भरोसा

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। केंद्र सरकार में गृहमंत्री अमित शाह ने आज पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस कल्याण को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि पुलिसकर्मियों को काम करने के लिए अच्छा माहौल मुहैया कराया जाए और उनकी स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संबंधी चिंताओं को दूर किया जाए।
गृह मंत्री शाह ने शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि देने के बाद पुलिस और अद्र्घसैन्य बलों को संयुक्त रूप से संबोधित करते हुए कहा कि देश की समर्पण भाव से सेवा करने वाले खाकी वर्दी पहने पुरुष व महिलाएं ही विश्व के एक शक्तिशाली देश के रूप में भारत की छलांग को सुनिश्चित करते हैं। उन्होंने कहा कि प्रति एक लाख नागरिकों के लिए 222 कर्मियों के न्यूनतम मानदंड की तुलना में मात्र 144 कर्मी मौजूद हैं। यही कारण है कि करीब 90 प्रतिशत पुलिसकर्मियों को हर रोज 12 घंटे से भी अधिक समय तक काम करना पड़ता है और उनमें से तीन चौथाई कर्मी साप्ताहिक अवकाश भी नहीं ले पाते। शाह ने कहा कि मेरी सरकार ने पुलिस के कल्याण के लिए काफी काम किया है और मैं भरोसा दिला सकता हूं कि हम और काम करना जारी रखेंगे, आपके लिए निर्धारित समय सीमा में स्वास्थ्य, आवास, परिवार कल्याण और काम का अच्छा माहौल सुनिश्चित करने के लिए और कदम उठाएंगे।

पुलिस के काम की तारीफ

अमित शाह ने कहा कि जब हम पुलिस को सामान्य तरीके से काम करते देखते हैं, तो यह सामान्य दिखता है लेकिन हम जब नजरिया बदलते हैं तो समझ आता है कि हमारा देश जो विकास कर रहा है वह इन पुलिसकर्मियों के समर्पण और उनकी मौन सेवा के कारण है। आतंकवादियों से लेकर उग्रवादियों और नक्सलियों से निपटना और सडक़ पर यातायात नियंत्रित करना, यह सब पुलिसकर्मी करते हैं। ताजा आंकड़ों के अनुसार स्वतंत्रता के बाद से 35,000 से अधिक पुलिसकर्मियों की जान गई है और पिछले एक साल में (सितंबर 2018 से अगस्त 2019 तक) 292 कर्मियों ने अपनी जान की कुर्बानी दी है या ड्यूटी के दौरान अप्राकृतिक कारणों से उनकी मौत हुई है। इस कार्यक्रम में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल और अन्य केंद्रीय पुलिस संगठनों के प्रमुखों एवं अधिकारियों ने हिस्सा लिया। इस दौरान शाह ने राष्ट्रीय पुलिस स्मारक की एक नई वेबसाइट का लोकार्पण भी किया।

साध्वी प्राची ने सीएम से लगाई सुरक्षा की गुहार

  • कहा, आईएसआई से मिल चुकी है हत्या की धमकी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाली हिंदूवादी नेत्री साध्वी प्राची को अपनी सुरक्षा का खतरा सता रहा है। फायरब्रांड नेत्री साध्वी प्राची ने गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की है। साध्वी प्राची ने एक न्यूज चैनल के साथ बातचीत में बताया कि उन्हें कई संगठनों द्वारा धमकी मिल चुकी है और हाल ही में हरिद्वार स्थित उनके आश्रम के आसपास कुछ लोगों की संदिग्ध गतिविधियां भी देखी गई हैं। इसलिए वह परेशान हैं।
साध्वी प्राची ने बताया कि मुझे कुछ दिनों पहले आतंकी संगठन आईएसआई से भी धमकी मिल चुकी हैं। जिसके बाद उनपर जान का खतरा मंडरा रहा है। लेकिन सरकार की तरफ से उन्हें कोई सुरक्षा नहीं मिली है। राजधानी में दिन दहाड़े बहुत ही नृशंस तरीके से हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के बाद साध्वी प्राची ने यूपी सरकार और पुलिस से सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की है। उन्होंने बताया कि 23 अक्टूबर को वो लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर सकती हैं। बता दें कि बीते 18 अक्टूबर को ही हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या कर दी गई थी।

यूपी में बढ़ रहे अपराध को लेकर सरकार पर हमलावर विपक्ष

  • मायावती ने कहा यूपी में बढ़े हर तरह के अपराध और सनसनीखेज घटनाएं
  • प्रियंका बोलीं अपराध रोकने में पूरी तरह से फेल साबित हो रही सरकार

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने उत्तर प्रदेश में बदहाल कानून व्यवस्था को लेकर सरकार पर जमकर निशाना साधा है। मायावती ने ट्विटर के माध्यम से कहा कि यूपी में जबसे बीजेपी सरकार बनी है तबसे इस बड़े व महत्वपूर्ण राज्य में हर प्रकार के अपराध व सनसनीखेज घटनाएं अत्यधिक बढ़ती जा रही हैं, जिससे आम जन जीवन दु:खी व त्रस्त है। सरकारी उपायों से जनता को कोई राहत नहीं मिल रही है। सरकार जनहित में पूरी लगन व निष्ठा से काम करे तो बेहतर होगा।
मायावती ने ऐसा बयान प्रदेश में एक के बाद एक लगातार होने वाली हत्या की घटनाओं को लेकर प्रतिक्रिया स्वरूप दिया है। जिसकी वजह से जनता में काफी रोष है। सरकार के तमाम प्रयास भी अपराधों पर नियंत्रण लगाने में नाकाम साबित हो रहे हैं। वहीं कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने भी ट्विट कर कानून व्यवस्था के मुद्दे को लेकर प्रदेश की योगी सरकार पर जोरदार हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश सरकार अपराध रोक पाने में पूरी तरह फेल है। इस मुद्दे को लेकर आज कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल 15वें वित्त आयोग से मिलेगा। वित्त आयोग के प्रतिनिधिमंडल से पार्टी की ओर से पूर्व केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद एवं प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता डा. अनूप पटेल मुलाकात करेंगे।

चैनल आर9 के साथ नई पारी शुरू करेंगे अमिताभ अग्निहोत्री

  • बतौर एडिटर इन चीफ चैनल से जुडऩे की चर्चा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पत्रकारिता के सबसे चर्चित और दमदार चेहरे अमिताभ अग्निहोत्री आज से अपनी एक नई पारी की शुरुआत करने जा रहे हैं। मीडिया जगत में चर्चा है कि वे आर9 न्यूज चैनल में बतौर एडिटर इन चीफ जुड़ेंगे। नेटवर्क18 (हिंदी नेटवर्क) में बतौर एग्जिक्यूटिव एडिटर कार्यरत अमिताभ अग्निहोत्री ने पिछले हफ्ते वहां से अलविदा कह दिया है। न्यूज18 यूपी-यूके में रात 8 बजे आने वाला उनका डिबेट शो महाबहस काफी चर्चा में रहता था। इस शो के जरिए उन्होंने कई बार ऐसे मुद्दे उठाये थे, जिस पर सरकार ने सकारात्मक एक्शन लिया। यहां उन्होंने करीब ढाई साल की ऐसी पारी खेली, जिसमें कई बार उनकी धारदार टिप्पणियां सत्ता के गलियारों में चर्चा का विषय बनी। हाल ही में जिस तरह यूपी के डीजीपी ने एक पैनल डिस्कशन के दौरान उन्हें यूपी पुलिस का ब्रैंड एम्बैस्डर तक कह दिया था। ये उनके लिए बड़ी उपलब्धि ही है।
पत्रकारिता में 33 सालों से भी ज्यादा समय से सक्रिय रहने वाले अमिताभ अग्निहोत्री ने जीवन और पत्रकारिता में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। अमिताभ अग्निहोत्री उन पत्रकारों में शामिल हैं, जिन्होंने अपने पत्रकारिता करियर में निरंतर संसद कवर की है। राजनीति के अच्छे जानकारों में से वह एक हैं, इसी वजह से उन्हें कई बड़े खबरिया चैनलों के डिबेट शो का हिस्सा बनाया जाता रहा है। उन्हें 7 से अधिक आम चुनाव कवर करने का भी अनुभव है।

कई बार हुए हैं पुरस्कृत

अमिताभ को पत्रकारिता में अपने अमूल्य योगदान के लिए कई बार पुरस्कृत भी किया गया। उन्हें मटुश्री, गणेशशंकर विद्यार्थी और यूनिवार्ता अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है। 2013 में उन्हें समाचार4मीडिया द्वारा मीडिया महारथी सम्मान से भी नवाजा जा चुका है। अमिताभ अग्निहोत्री की निष्पक्ष पत्रकारिता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से लेकर वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक उनकी पत्रकारिता के मुरीद हैं। प्रदेश के कई बड़े राजनेताओं ने सार्वजनिक मंच से उनकी पत्रकारिता की सराहना की है। हमेशा चुनौतियों को स्वीकारने और कुछ नया करने का जज्बा रखने वाले अमिताभ इस बार भी बड़े चैलेंज के साथ ही मैदान में उतर रहे हैं।

Loading...
Pin It

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.