भाजपा सरकार ने विकास कार्यों को भी दिया धोखा: अखिलेश

  • कहा, काशी को क्योटो बनाने का दावा फेल
  • नीयत साफ न होने के कारण गंगा की सफाई का काम भी अधूरा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लोकसभा चुनाव के सातवें चरण के मतदान से पूर्व सभी दलों ने प्रचार-प्रसार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इसी कड़ी में सपा मुखिया अखिलेश यादव, बसपा सुप्रीमो मायावती और रालोद अध्यक्ष अजित सिंह की शुक्रवार को वाराणसी में संयुक्त रैली हुई। जिसमें राष्ट्रीय मुद्दों के साथ ही स्थानीय जुड़ाव का भी जिक्र किया गया। अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार ने प्रदेश की आम जनता के साथ-साथ विकास कार्यों को भी धोखा देने का काम किया है। सपा सरकार में जो भी विकास के काम कराये जा रहे थे, उन पर रोक लगा दी। वहीं जो काम पूरे हो गये थे उनका श्रेय लेने के लिए दोबारा उद्घाटन किया गया।
अखिलेश ने कहा कि देश को जल्द ही नया प्रधानमंत्री मिलने वाला है। जो लोग काशी को क्योटो बनाने की बात कर रहे थे, उनकी पांच साल की सरकार खत्म होने के बाद भी वाराणसी में जगह-जगह टूटी सडक़ें, टूटे मंदिर और इमारतें ही नजर आ रही हैं। उन्होंने कहा कि आज जब बनारस के बारे में सुनता हूं तो दुख होता है, तकलीफ होती है। बताओ धोखा किसी को दे देते, हमें दे देते, किसी और को दे देते लेकिन जरा सोचो बाबा भोले की नगरी को, भगवान को धोखा दे दिया। यह भी कहा कि जिनकी नीयत साफ नहीं वे कभी गंगा मइया को साफ नहीं कर सकते। इस बहाने उन्होंने बड़े नाविक समाज को जोडऩे का प्रयास किया और कहा कि गंगा तो साफ नहीं हुई लेकिन हमारे नाव चलाने वालों को धोखा दे दिया, परेशानी में डाल दिया।

यूपी ही नहीं बंगाल को लेकर भी घबराहट

अखिलेश के मुताबिक भाजपा जानती है कि महागठबंधन आ रहा है, इससे यूपी ही नहीं बंगाल तक में लोग घबराए हुए हैं। वे भले हमारे गठबंधन को जातियों का कहें लेकिन यह गरीबों का मेल है जो दिलों से बना है और टूटने वाला नहीं। उन्होंने कहा कि हमारा सीना बड़ा हो या न हो लेकिन दिल बहुत बड़ा है। सपा सरकार में एक बुजुर्ग विधायक 24 घंटे बिजली के लिए धरने पर बैठे तो हमने उनकी मांग पूरी की।

 

Loading...
Pin It