केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की सभा में जमकर हंगामा और तोडफ़ोड़

  • आरपीएफ और पुलिस की सतर्कता से सुरक्षित बाहर निकले रेल मंत्री

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। रेलमंत्री पीयूष गोयल शुक्रवार को नार्दर्न रेलवे मेंस यूनियन (नरमू) के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शमिल हुए। इस कार्यक्रम में रेल मंत्री को साफगोई महंगी पड़ गई। उन्होंने मंच से ज्यों ही लार्जेज व अप्रेंटिस भर्ती खोलने से इनकार किया और कुछ मुद्दों को लेकर यूनियन को नसीहत दी हंगामा शुरू हो गया। मंत्री के भाषण से नाराज सैकड़ों नरमू कार्यकर्ताओं ने मंच के सामने ही उनके खिलाफ नारेबाजी और हंगामा शुरू कर दिया। एक कार्यकर्ता ने तो उन पर गमला फेंक दिया, गनीमत रही कि वह बच गए। हालांकि एक सुरक्षाकर्मी घायल हो गया।
रेलमंत्री के सामने यूनियन की तरफ से एनपीएस को हटाकर पुरानी पेंशन योजना को लागू करने, अप्रेंटिस करने के बाद बेरोजगार घूम रहे युवाओं को रेल सेवा में समायोजित करने, न्यूनतम वेतनमान में बढ़ोतरी और लार्जेज योजना के तहत पहले की तरह भर्ती शुरू करने समेत कई मांगें रखी गईं। रेलमंत्री से यूनियन के संकल्प पत्र का विमोचन भी कराया गया। लेकिन पीयूष गोयल जब मंच पर बोलने पहुंचे तो उन्होंने संकल्प पत्र में यात्री सुविधाओं, संरक्षा और कर्मचारियों के कर्तव्यों की बात शामिल न होने पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि वह पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के क्षेत्र में हैं इसलिए सही व दो टूक बोलना पसंद करेंगे। इसके बाद नारेबाजी और हंगामा होता देख रेल मंत्री मंच छोड़ कर नीचे उतर आए। आरपीएफ और पुलिस ने अपने घेरे में लेकर उन्हें स्टेडियम के बाहर निकाला। इस दौरान भी बड़ी संख्या में रेलकर्मी उनके साथ चलते हुए नारेबाजी करते रहे। कुछ कार्यकर्ता उनकी गाड़ी के आगे लेट गए। पुलिसकर्मियों ने उन्हें हटाकर रेलमंत्री की गाड़ी एयरपोर्ट के लिए रवाना की।

Pin It