ठेकेदारों पर मेहरबान लेखा विभाग, सेवानिवृत्त कर्मियों के भुगतान के लिए नहीं है बजट

  • बीमार सेवानिवृत्त कर्मी लगा रहे विभाग के चक्कर
  • ठेकेदारों को तुरंत भुगतान कर रहे अफसर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सेवानिवृत्त कर्मियों के बकाया देयकों को लेकर नगर निगम सजग नहीं है। एक ओर साठ-गांठ के चलते ठेकेदारों को फटाफट भुगतान कर दिया जाता है वहीं दूसरी ओर सेवानिवृत्त कर्मचारियों को इलाज के लिए भी पैसे नहीं मिल रहे हैं। उल्टा ऐसे बुजुर्गों को लेखा विभाग के चक्कर लगाने पड़ते हैं।
सात साल पहले सफाई कर्मचारी के पद से सेवानिवृत्त हो चुके रामचन्दर ने अपनी आप बीती बताते हुए कहा कि उनके दो जवान लडक़ों की मौत हो चुकी है और वह खुद भी बीमार हैं। ऐसी समस्या अफसरों को बताने के बावजूद दीवाली के मौके पर भी उनको पेंशन नहीं मिली न ही उनको बकाया भुगतान किया गया। इतना कहते ही राम चन्दर की आंखें भर आई। उन्होंने बताया कि पिछले सात साल से वे बकाया भुगतान के लिए लेखा विभाग के चक्कर लगा रहे हैं। राम चन्दर के अनुसार वे नगर निगम जोन-तीन के महानगर वार्ड में तैनात थे। उनको पेंशन की बकाया धनराशि का भुगतान होना है जो कि लेखा विभाग में बकाया है। बता दें कि नगर निगम में यह कोई पहला मामला नहीं बल्कि ऐसे तमाम मामले प्रकाश में आ चुके हैं जब थोड़े से बजट के लिए कर्मियों को दौड़ाया जा रहा हो।

Pin It