लखनऊ का नाम बदला तो करेंगे विरोध: सावित्री बाई फुले

  • पदोन्नति में आरक्षण तत्काल लागू कराने की सरकार से मांग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अपनी पार्टी और सरकार के खिलाफ तीखे तेवर दिखाने वाली भाजपा सांसद सावित्री बाई फुले ने केंद्र व प्रदेश सरकारों द्वारा रेलवे स्टेशन, जिलों, संस्थाओं और विद्यालयों का नाम बदले जाने का विरोध किया। उन्होंने कहा कि ऐसा कर के अल्पसंख्यक और बहुजन समाज का अपमान किया जा रहा है। सरकार को इस तरह की हरकतों से बाज आना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि लखनऊ का नाम बदलकर लक्ष्मणपुरी किया गया तो उसका विरोध करेंगे और व्यापक स्तर पर आंदोलन किया जाएगा।
नमो बुद्धाय जन सेवा समिति के एक कार्यक्रम में सावित्री ने आरोप लगाया कि शिक्षा का बाजारीकरण व निजीकरण करके गरीब व आमजन को शिक्षा से वंचित करने की साजिश रची जा रही है। उन्होंने केंद्र सरकार से अनुरोध किया कि वह सभी राज्यों में पदोन्नति में आरक्षण को तत्काल प्रभाव से लागू कराए। उन्होंने पिछड़े वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण देने की व्यवस्था सभी विभागों में लागू करने की मांग भी की है। छठे वेतन आयोग की सिफारिश के आधार पर सभी विभागों में चतुर्थ श्रेणी की भर्ती और सातवें वेतन आयोग द्वारा तृतीय श्रेणी पर लगाए गए प्रतिबंध को समाप्त करने का मुद्दा भी उठाया। साथ ही देश में एक समान व अनिवार्य शिक्षा कानून लागू करने की मांग की।

Pin It