Top

हाईकोर्ट के आदेश को ठेंगा, शहर में धड़ल्ले से चल रहीं अवैध डेयरियां

हाईकोर्ट के आदेश को ठेंगा, शहर में धड़ल्ले से चल रहीं अवैध डेयरियां

नगर निगम आज तक शहर की सीमा से बाहर नहीं कर सका डेयरियों को
डेयरियों की गंदगी से नाले हो रहे चोक, संक्रामक रोग का बढ़ा खतरा
हादसों को न्योता दे रहे सडक़ों पर घूम रहे पशु, अधिकारी बना रहे बहाना

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद शहर में अवैध डेयरियां धड़ल्ले से संचालित हो रही हंै। नगर निगम ने इनको शहर की सीमा से बाहर करने के हाईकोर्ट के आदेश को ठंडे बस्ते में डाल दिया है। वहीं इन डेयरियों की गंदगी से नाले चोक हो रहे हैं। इसके कारण संक्रामक रोगों का खतरा बढ़ गया है। इसके अलावा डेयरी से सडक़ पर घूम रहे पशु हादसों को न्योता दे रहे हैं। इसके बावजूद नगर निगम के अधिकारी हाथ पर हाथ बैठे हैं।
राजधानी के रिहायशी इलाकों में अवैध डेयरियां फल-फूल रही हैं। खाली प्लॉटों में भी डेयरियां खोली गई हैं। शहर में करीब दो हजार से अधिक डेयरियां अवैध रूप से संचालित हो रही हैं। इस मामले में हाईकोर्ट ने कई बार आदेश जारी किए लेकिन निगम के अधिकारी इसको लागू करने में हीलाहवाली कर रहे हैं। हाईकोर्ट ने 21 मई 2017 को अपने आदेश में सडक़ों पर घूम रहे पशुओं को पकडऩे के साथ डेयरियों को शहर की सीमा से हटाने का आदेश जारी किया था। हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद प्रशासन ने रणनीति बनायी थी। डेयरियों को हटाने की कार्ययोजना बनाई गई। डेयरी संचालकों से कहा गया था कि 20 जून तक वे डेयरियों को शहर से बाहर ले जाएं, अगर तय समय पर स्थानांतरण नहीं हुआ तो 21 जून 2017 तक नगर निगम, जिला प्रशासन और पुलिस डेयरियों को बलपूर्वक हटा देगी। 27 मई 1999 को भी हाईकोर्ट ने शहरी सीमा से डेयरियों को हटाने का आदेश दिया था। कोर्ट के आदेश पर नगर निगम व पुलिस ने संयुक्त अभियान चलाते हुए कुछ डेयरियों को शहरी सीमा से बाहर किया लेकिन स्थितियों में कोई खास बदलाव नहीं आया। इसके बाद भी हाईकोर्ट कई बार आदेश दे चुका है लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है।

डेयरी संचालक करते हैं मारपीट

डेयरियों के संचालक दबंगई करते है। वे शिकायतकर्ता के साथ मारपीट और कार्रवाई करने पहुंचे कर्मचारियों से बदसलूकी करने से भी नहीं बाज आते हैं। पिछले दिनों कल्यानपुर में विरोध करने वालों को डेयरी संचालकों ने जमकर मारा पीटा था। गौरतलब है कि खादर इलाके में फैले संक्रामक रोग से कुछ जानें चली गई थी। इसकी वजह अवैध डेयरियों से फैल रही गंदगी को माना गया था।

यहां खोल सकते हैं डेयरी

नगर निगम ने डेयरी खोलने की सीमा तय कर दी है। फैजाबाद रोड पर चिनहट, सीतापुर रोड पर सेमरा गांव, कानपुर रोड पर दारोगा खेड़ा, सुलतानपुर रोड पर कटाई का पुल, रायबरेली रोड पर पीजीआई के आगे ही डेयरियां खोली जा सकती हैं।

राजधानी में 1039 डेयरियां चिन्हित की गई थीं। कोर्ट के आदेशानुसार सभी को हटा दिया गया था। कोरोना के कारण इनमें दस प्रतिशत डेयरियों की वापसी हुई है। स्थिति सामान्य होने पर उन्हें दोबारा शहर की सीमा के बाहर कर दिया जाएगा ।
डॉ. अरविंद कुमार राव, पशु कल्याण अधिकारी, नगर निगम

https://www.youtube.com/watch?v=L5UBL-Y72Tk

Next Story
Share it