Top

वित्त नियंत्रक पर घूस मांगने का है आरोप, मामले में जांच के आदेश घूस लेने की बात सही निकली तो एलडीए के वित्त नियंत्रक पर होगी कड़ी कार्रवाई: अभिषेक प्रकाश

वित्त नियंत्रक पर घूस मांगने का है आरोप, मामले में जांच के आदेश घूस लेने की बात सही निकली तो एलडीए के वित्त नियंत्रक पर होगी कड़ी कार्रवाई: अभिषेक प्रकाश

  • मैसर्स प्रताप हाइट्स प्राइवेट लिमिटेड की शिकायत पर कार्यवाहक उपाध्यक्ष ने लिया मामले में संज्ञान
  • घूस नहीं देने पर 6 करोड़ के भुगतान की फाइल रोकने का लगाया आरोप

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत भवनों का निर्माण करने वाली कंपनी ने एलडीए के वित्त नियंत्रक पर घूस मांगने का आरोप लगाया और इसकी शिकायत पूर्व एलडीए उपाध्यक्ष से की थी। उन्होंने इस मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं। इससे एलडीए में हडक़ंप मच गया था। मगर इसी बीच शिवाकांत द्विवेदी हटा दिए गए। मामले पर फिर ब्रेक लग गया। मगर मामले में नया मोड़ तब आया जब एलडीए के कार्यवाहक उपाध्यक्ष बने अभिषेक प्रकाश के संज्ञान में पूरा मामला आया तो उन्होंने तुरंत जांच के आदेश जारी कर दिए। अभिषेक प्रकाश ने कहा कि अगर यह आरोप सही साबित होता है तो वित्त नियंत्रक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इधर, कंपनी का आरोप है कि एलडीए के वित्त नियंत्रक ने घूस न देने पर कंपनी के 6 करोड़ से अधिक का भुगतान रोक रखा है।
मैसर्स प्रताप हाइट्स प्राइवेट लिमिटेड ने अपने शिकायती पत्र में लिखा है कि कंपनी को शारदा नगर योजना के अंतर्गत प्रधानमंत्री आवास योजना का टेंडर मिला था। आवासों के निर्माण में खर्च की गई छह करोड़ से अधिक की राशि का बिल कंपनी ने 12 मार्च को वित्त नियंत्रक राजीव कुमार सिंह के सामने प्रस्तुत किया था। कंपनी का आरोप है कि वित्तीय नियंत्रक घूस लिए बिना ठेकेदारों को भुगतान नहीं करते हैं और उनकी फाइलें भी रोक रखी है। कंपनी का कहना है कि उपाध्यक्ष शिवाकांत द्विवेदी ने 30 सितंबर को भुगतान का आदेश दिया था, इसके बावजूद वित्त नियंत्रक राजीव कुमार सिंह ने उनकी फाइल रोक रखी है। कंपनी ने वीसी से इस मामले पर कार्रवाई करने की मांग करते हुए वित्त नियंत्रक की संपत्ति सहित उनकी भूमिका की जांच कराने की मांग की है।

जांच के आदेश दिए गए हैं। आरोप सिद्ध होने पर कार्रवाई की जाएगी।
अभिषेक प्रकाश,
कार्यवाहक उपाध्यक्ष, एलडीए

कंपनी द्वारा लगाए गए सभी आरोप गलत हैं।
राजीव कुमार सिंह,
वित्त नियंत्रक, एलडीए

बसपा सांसद अफजाल की पत्नी फरहत अंसारी पर एफआईआर

  • अपराधिक षड्यंत्र समेत 6 धाराओं में हजरतगंज थाने में केस दर्ज

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी लखनऊ के जिला प्रशासन ने भू-माफियाओं पर बड़ी कार्रवाई की है। मऊ से विधायक और बाहुबली मुख्तार अंसारी के भाई और गाजीपुर से बसपा सांसद अफजाल अंसारी की पत्नी फरहत अंसारी व अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।
फरहत अंसारी पर अपराधिक षड्यंत्र समेत 6 धाराओं में एफआईआर दर्ज कराई गई है। जियामऊ के लेखपाल की तहरीर पर हजरतगंज थाने में ये एफआईआर दर्ज की गई है। इसमें आईपीसी की धारा 120बी, 420, 447, 448 और 427 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। तहरीर में निष्क्रांत संपत्ति पर कब्जे का जिक्र है। उन पर कूटरचित दस्तावेज के आधार पर सरकारी संपत्ति पर कब्जे का आरोप है। सरकारी संपत्ति नुकसान निवारण अधिनियम के तहत ये कार्रवाई हुई है। गौरतलब है कि मुख्तार के बेटे और अफजाल की संपत्तियों को पहले ही प्रशासन बुलडोजर से गिराया दिया था। अब इसी मामले में ये मुकदमा दर्ज किया गया है।

एलडीए का नोटिस
मुख्तार अंसारी की भाभी फरहत अंसारी के डालीबाग स्थित सरकारी जमीन पर किए गए अवैध निर्माण को ढहाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। इसके पहले चरण में इस भवन का शमन मानचित्र निरस्त किया जाएगा। एलडीए ने एक सितम्बर को इस बाबत मुख्तार के बड़े भाई अफजाल अंसारी की पत्नी फरहत अंसारी को नोटिस दे दी थी।
कागजों में हेरफेर कर अपने नाम की करोड़ों की संपत्ति

मुख्तार अंसारी की भाभी फरहत अंसारी के खिलाफ लेखपाल की तहरीर पर दर्र्ज मुकदमे में जबरन कब्जा कर सरकारी संपत्ति को क्षति पहुंचाने के साथ ही करोड़ों के राजस्व का चूना लगाने के आरोप हैं। डालीबाग के गाटा संख्या 93 सरकारी जमीन पर बने सात हजार वर्ग मीटर के मकान को बचाने के लिए सांसद अफजाल अंसारी परिवार के साथ एलडीए के कई चक्कर लगा चुके हैं। मकान को बचाने के लिए अफजाल ने अनेक कागज प्रस्तुत किए और बताया कि उनका मकान गाटा संख्या 93 पर नहीं है। उनका मकान वैध जमीन पर है। इसको सबसे पहले निष्क्रांत संपत्ति की नीलामी में भारत सरकार से खरीदा गया था। नक्शा भी पास है। कुछ भी अवैध नहीं है। वहीं जांच के बाद सदर तहसील के लेखपाल की तहरीर पर हजरतगंज पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। इससे पूर्व मामले को लेकर एलडीए ने बीते एक सितंबर को अफजाल की पत्नी के नाम नोटिस काटा था।

बस्ती रेंज के आईजी करेंगे एसपी बहराइच गाली प्रकरण की जांच

  • आईपीएस अमिताभ ठाकुर की शिकायत पर एडीजी गोरखपुर जोन ने लिया एक्शन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एडीजी गोरखपुर जोन दावा शेरपा ने आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर द्वारा पूर्व इंस्पेक्टर नानपारा डी.के श्रीवास्तव के एसपी बहराइच विपिन कुमार मिश्रा पर गाली-गलौज देने व भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों की शिकायत की जांच आईजी बस्ती रेंज अनिल कुमार राय को सौंपी है।
यह जानकारी बहराइच पुलिस के ट्विटर हैंडल द्वारा अमिताभ को दी गयी। डीजीपी एच.सी अवस्थी को भेजी शिकायत में अमिताभ ने कहा था कि बातचीत में इंस्पेक्टर एसपी बहराइच पर मां-बहन की गाली देने का गंभीर आरोप तो लगा ही रहे हैं। साथ ही एसपी द्वारा गंभीर भ्रष्टाचार करने। दो बार पैसा वसूलने, फाइल खोल कर वसूली करने के भी आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने ऑडियो की सत्यता की अविलंब जांच कराते हुए उच्चस्तरीय की मांग की थी। इस पर बहराइच पुलिस ने उन्हें बताया कि ऑडियो की जांच एडीजी जोन गोरखपुर के आदेश पर आईजी रेंज बस्ती के स्तर से प्रचलित है।

एक नवंबर से खुलेंगे यूपी के नेशनल पार्क, छोटे बच्चों की एंट्री बैन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के नेशनल पार्क और सफारी सैलानियों के लिए एक नवंबर से खुल जाएंगे। सभी स्थानों पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए गए हैं। 65 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्ग व 10 साल से छोटे बच्चों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। मास्क न लगाने पर 500 का जुर्माना भी वसूला जाएगा। ऑनलाइन बुकिंग वेबसाइट ह्वश्चद्गष्शह्लशह्वह्म्द्बह्यद्व.द्बठ्ठ शुरू हो गई है।
बता दें कि दुधवा नेशनल पार्क, पीलीभीत टाइगर रिजर्व व कतर्नियाघाट हर साल 15 नवंबर से 15 जून के बीच खुले रहते हैं। चूंकि इस बार कोरोना संक्रमण के कारण पार्क मार्च से ही बंद कर दिए गए थे। ऐसे में सरकार ने इस बार एक नवंबर से इन्हें खोलने का फैसला किया है। प्रधान मुख्य वन संरक्षक वन्यजीव सुनील पाण्डेय ने बताया कि एक नवंबर से पार्क खोलने की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। वन मंत्री दारा सिंह चौहान लखनऊ से वेब कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पार्क खोले जाने का शुभारंभ करेंगे। सभी स्थानों पर पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। परिसर में उन्हीं पर्यटकों को प्रवेश दिया जाएगा, जिनमें कोविड-19 संबंधी लक्षण नहीं होंगे।

https://www.youtube.com/watch?v=M2rMzJ-DTwc

Next Story
Share it