Top

राजधानी: सरकार की हिदायत बेअसर लापरवाही ने बढ़ाई कोरोना की रफ्तार

राजधानी: सरकार की हिदायत बेअसर लापरवाही ने बढ़ाई कोरोना की रफ्तार

लगातार बढ़ रहा कोरोना संक्रमण का दायरा, दो दर्जन की हो चुकी हैं मौत
कोरोना संक्रमित साधारण बुखार समझकर ले रहे सर्दी, जुखाम की दवा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। संक्रमण से कई लोग अपनी जान गंवा रहे हैं। शुरूआती दौर में लोगों में खौफ था लेकिन कोरोना के साथ जीने की आदत ने वायरस के खौफ को कम कर दिया है। दिन बीतने के साथ कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा होने का मुख्य कारण लोगों की लापरवाही मानी जा रही है। राजधानी में मार्च माह से लेकर 3 जुलाई तक 1,278 पॉजीटिव कोरोना मरीज मिले हैं वहीं इन संक्रमित मरीजों में से 23 की मौत हो गई है।
कोरोना का कहर बढऩे के साथ लोगों में डर कम हो गया है जिस कारण संक्रमितों पर लगाम कसना सरकार के लिए चुनौती बनता जा रहा है। पिछले चार महीने में कुल 812 कोरोना की चपेट में आए जो अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं। वहीं, बीते शुक्रवार को 30 लोगों ने कोरोना को मात देकर अपने घरों को वापस लौटे हैं। राजधानी में कोरोना का स्तर सबसे अधिक सदर इलाके में रहा, यहां 115 से 120 तक संक्रमित मरीज मिले हैं जो राजधानी के अन्य इलाकों में सबसे ज्यादा है। सबसे ज्यादा संक्रमित होने वाले मरीजों की आयु 55 से लेकर 60 के बीच बताई जा रही है, ऐसा इसलिए है क्योंकि इस आयु वर्ग के लोगों की इम्युनिटी आयु के साथ कम होने लगती है। साथ ही कई बीमारी व्यक्तिको घेर लेती है जिससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता समाप्त हो जाती है। केजीएमयू में तैनात कर्मचारी को करीब सात दिनों से बुखार के साथ सर्दी व जुखाम था लेकिन संक्रमित दवा खाकर ड्यूटी करता रहा। जांच के बाद कर्मचारी की रिपोर्ट कोरोना पॉजीटिव आ गई। मरीज को 14 दिनों के लिए क्वारंटीन कर दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कई मरीजों को कोरोना के लक्षण नजर तो आ जाते हैं लेकिन साधारण बुखार समझकर मेडिकल स्टोर से दवाई खा लेते हैं और इस बीच घरों से बाहर घूमने लगते हैं जिससे संपर्क में आए लोग भी कोरोना संक्रमित हो जाते हैं। लोग बचाव के लिए जरूरी नियमों का पालन भी नहीं कर रहे हैं।

कब-कब आए सर्वाधिक मरीज

शहर में 11 मार्च को कोरोना ने दस्तक दी। मार्च माह में 20 तारीख को सर्वाधिक चार केस रहे। वहीं, अप्रैल माह में 18 तारीख को 56 केस सर्वाधिक रहे। ऐसे ही मई माह में 28 तारीख को 15 केस रिकॉर्ड रहे। जून में 16 तारीख को सबसे अधिक 66 मरीज एक दिन में आए। वहीं चार जुलाई को अब तक के सर्वाधिक केस 78 रहे। ऐसे में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

आलमबाग में बढ़े केस

ऐशबाग की तरह आलमबाग में 16 जून के बाद से कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ी है। इस इलाके से जुड़े विभिन्न मुहल्लों में करीब 29 लोग पॉजीटिव मिल चुके हैं। बीते मंगलवार को दो लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजीटिव मिली तथा 16 मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए। इनमें लोकबंधु से 9, केजीएमयू से 5 तथा ईएमआई से 2 मरीजों ने कोरोना की लड़ाई लड़ी और कोरोना मुक्तहुए।

https://www.youtube.com/watch?v=54AdFgVApKI

Next Story
Share it