Top

मेयो अस्पताल कोरोना के नाम पर कर रहा पैसे की वसूली, मरीजों का हंगामा

मेयो अस्पताल कोरोना के नाम पर कर रहा पैसे की वसूली, मरीजों का हंगामा

  • गोमतीनगर के मेयो अस्पताल में संक्रमित मरीज की मौत के बाद पैसे का खेल हुआ उजागर
  • कोविड पॉजिटिव मरीज के बिल को लेकर परिजनों का आक्रोश फूटा, पुलिस पहुंची तो शांत हुआ मामला
  • भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीजों को करना पड़ रहा है अव्यवस्था का सामना

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी के निजी अस्पताल कोरोना इलाज के नाम पर मरीजों से जमकर पैसों की वसूली करने में जुटे हुए हैं। लंबा चौड़ा बिल बनाकर कोविड के नाम पर लूट रहे हैं। इस कारण निजी अस्पतालों में भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीजों को अव्यवस्था का सामना करना पड़ रहा है। ताजा मामला गोमतीनगर के मेयो अस्पताल का सामने आया है। यहां मरीज की मौत के बाद पैसे का खेल उजागर हुआ है।
गोमतीनगर के मेयो अस्पताल में 45 वर्षीय रमेश कुमार सिंह कुछ दिन पहले भर्ती हुए थे, जहां उनकी जांच करने पर वह कोरोना पॉजिटिव पाए गए। परिजनों का आरोप है कि अस्पताल प्रशासन की लापरवाही से रमेश की मौत हो गई। इलाज में लापरवाही और काफी देर तक इलाज नहीं मिला। आरोप यह भी है कि एल 3 की बजाय एल 2 में ही डॉक्टर कर रहे थे इलाज। इस कारण उन्होंने दम तोड़ दिया। इस बात को लेकर परिजनों ने अस्पताल परिसर में जमकर हंगामा किया। मृतक रमेश कुमार सिंह के परिजनों का आरोप है कि अस्पताल ने 3 दिन में 3 लाख का बिल बनाया। दवा के नाम पर बार-बार पैसे वसूले। अब जब रमेश की मौत हो गई तो भी नहीं छोड़ रहे। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि तीन लाख रुपए दो तो ही डेडबॉडी मिलेगी। इस पर परिजनों ने हंगामा कर दिया। मामला इतना बढ़ा कि पुलिस तक बुलानी पड़ी। काफी देर बाद मामला शांत हुआ।

सिटी मजिस्ट्रेट पहुंचे तो परिजनों को मिला शव

मृतक रमेश पहले लोकबंधु अस्पताल के कोविड सेंटर में भर्ती थे। तीन दिन पहले उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई। डाक्टरों ने मेयो अस्पताल रेफर कर दिया। जहां उनका इलाज शुरू हो गया। आज उनकी मौत हो गई। मौत के बाद मरीज की डेडबॉडी के लिए 3 लाख का बिल की मांग की गई। इस पर परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच गई। मौके पर सिटी मजिस्ट्रेट पंचम सत्यम मिश्रा ने पहुंच कर मामला शांत कराया। परिवारीजनों को शव दिलवाया। लेवल 3 अस्पताल में अधिकतम शुल्क 18 हजार रुपए शासन ने तय किया है। ऐसे में बिल की भी जांच होगी कि इतने पैसे किस आधार पर मांगे जा रहे थे।

प्रबंधन को शिकायत पर जवाब ही नहीं मिलता

मेयो अस्पताल में पैसे की वसूली व अव्यवस्था का बोलबाला है। भर्ती मरीजों का आरोप है यहां डॉक्टर हर चीज के नाम पर लंबा-चौड़ा बिल बना देते हैं। प्रबंधन को शिकायत करने पर कोई जवाब नहीं मिलता है। इस कारण यहां भर्ती मरीजों ने अपने परिजनों से फोन से शिकायत करना शुरू कर दी है। स्टाफ नर्स वार्ड ब्वाय सहित अन्य से शिकायत करने पर कोई जवाब नहीं मिलता है। इससे पहले भी तीन बार अस्पताल की अव्यवस्था को लेकर हंगामा हो चुका है। हालांकि यहां की अव्यवस्था को प्रबंधन सीरे से खारिज कर रही है।

राफेल दुश्मन के लिए बड़ी चेतावनी: राजनाथ सिंह

अंबाला। युद्धक विमान राफेल आज एयरफोर्स में पूरी तरह से शामिल हो गए। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पांच राफेल विमानों को वायुसेना में औपचारिक रूप से शामिल किया। इस अवसर पर आयोजित समारोह में राजनाथ सिंह ने वायुसेना को राफेल विमानों के लिए बधाई दी।
उन्होंने भारत और फ्रांस के बीच रक्षा सहयोग की चर्चा की। उन्होंने कहा कि राफेल का भारतीय वायुसेना में शामिल होना भारत की सीमाओं पर नजर रखने वाले देशों के लिए बड़ी चेतावनी है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि राफेल युद्धक विमानों को भारतीय वायुसेना में शामिल होना पूरी दुनिया के लिए एक बड़ा और कड़ा संदेश है, खासकर हमारी संप्रभुता पर नजर रखने वालों के लिए यह खास चेतावनी है। सीमाओं पर जिस तरह का माहौल है उसमें राफेल का वायुसेना में शामिल होना बेहद अहम है।

निलंबित आईपीएस मणिलाल पाटीदार मामले में सीबीआई जांच की मांग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सोशल एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर ने कल प्रदेश सरकार द्वारा निलंबित किये गए एसपी महोबा रहे मणिलाल पाटीदार के मामले में उनके तथा अन्य पुलिस अफसरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर इन मुकदमों की विवेचना सीबीआई से कराये जाने की मांग की है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा अन्य अफसरों को भेजी अपनी शिकायत में नूतन ने कहा कि पाटीदार के संबंध में जारी निलंबन आदेश से उनके तथा एसओ कबरई देवेंद्र शुक्ला पर षडयंत्र के तहत इंद्रकांत त्रिपाठी से अवैध धन की वसूली करने का दवाब बनाने तथा फर्जी मुकदमा दर्ज करने व जानमाल की धमकी देने के आरोप प्रथमद्रष्टया स्थापित हो रहे हैं। इसी प्रकार पाटीदार तथा सिपाही राजकुमार कश्यप द्वारा व्यवसायी अमित तिवारी से अवैध धन की वसूली करने का दवाब बनाने के आरोप प्रथमद्रष्टया प्रमाणित हो रहे हैं। पाटीदार तथा एसओ खरैली राजू सिंह पर अमित तिवारी से वसूली नहीं कर पाने पर उनकी गाडिय़ों को अवैध चालान करने तथा उनके ड्राईवर को अवैध हिरासत में लेने के आरोप भी साबित हो रहे हैं। नूतन ने कहा कि अभी तक इंद्रकांत तिवारी पर गोली से हुए हमले की भी एफआईआर दर्ज नहीं हुई। अत: उन्होंने इन सभी मामलों में एफआईआर दर्ज करवाये जाने तथा इन सभी मुकदमों की जांच सीबीआई से करवाने की भी मांग की है। उन्होंने कहा कि यदि ये कार्रवाई नहीं की जाती हैं तो भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा।

एलडीए की मिलीभगत से शहर की खाली पड़ी जमीनों और कब्रिस्तान की भूमि पर कब्जा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में खाली पड़ी जमीनों व कब्रिस्तान की जमीन पर अवैध कब्जे को लेकर वक्फ विभाग के मंत्री मोहसिन रजा का कहना है कि एलडीए की मिलीभगत से शहर में धड़ल्ले से अवैध कब्जे किए जा रहे हैं। मामला सामने आने पर खुद कार्रवाई करने वाले आला अधिकारी अपना हिस्सा लेकर जांच ठंडे बस्ते में डाल देते हैं। राज्यमंत्री के इस बयान ने एलडीए को संदिग्धता के घेरे में ला खड़ा कर दिया है।
दरअसल, ऐशबाग में कब्रिस्तान के किनारे बिना अनुमति ही कब्रिस्तान की जमीन पर धड़ल्ले से दुकान बनाने का कार्य चल रहा था। वहीं अब तालकटोरा में भी 63 दुकाने अवैध पाई गई हैं। एलडीए अब इन दुकानों पर कार्रवाई करने की बातें कर रहा है लेकिन इन दुकानों का निर्माण एलडीए की मौजूदगी में कैसे हो गया इस पर कोई कुछ भी कहने को तैयार नहीं है। तालकटोरा कर्बला में भी ऐसा ही हाल है। यहां तकरीबन 5 दर्जन दुकानें और मकानों पर कब्रें बना दी गई हैं। इसके कर्ताधर्ता सैयद शाह ने बताया कि उनके पास अभी नक्शा पास होने के संबंधित कोई भी कागज नहीं है मगर वक्फ बोर्ड की अनुमति से निर्माण किए गए हैं।

https://www.youtube.com/watch?v=clBGi7yhXS8

Next Story
Share it