मानसून से बढ़ाया सब्जियों का भाव इम्युनिटी बढ़ाने की कोशिश को लगा झटका

मानसून से बढ़ाया सब्जियों का भाव इम्युनिटी बढ़ाने की कोशिश को लगा झटका

डीजल के दाम में वृद्धि और सब्जियों की आपूर्ति में आई कमी ने बढ़ाई मुश्किलें
लगातार बढ़ रही कीमतों ने बिगाड़ा हरी सब्जियों का स्वाद

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मानसून की दस्तक के साथ राजधानी में सब्जियों के दाम आसमान पर पहुंच गए हैं। इसके कारण हरी सब्जियों के जरिए कोरोना से बचाव के लिए इम्युनिटी बढ़ाने की कोशिश कर रहे लोगों को झटका लगा है। रही सही कसर डीजल के बढ़े दामों और सही भंडारण क्षमता के अभाव ने पूरी कर दी है। कई सब्जियों के दाम दोगुने हो चुके है। वहीं व्यापारियों का कहना है कि सब्जियों के दामों में अभी और उछाल आएगा। लगातार बढ़ रहे दामों से हरी सब्जियों का स्वाद बिगड़ गया है।
बारिश के साथ ही सब्जियों के दाम बढ़ गए हैं। टमाटर, प्याज, लहसुन, हरी धनिया, भिंडी, तोरई, लौकी और परवल के दाम काफी बढ़ गए हैं। कई के दाम दोगुने हो चुके हैं। टेढ़ीपुलिया के सब्जी विक्रेता सिकंदर सिंह ने बताया कि 15 दिनों पहले 100 रुपये किलो बिकने वाली हरी धनिया इस समय 200 रुपये प्रति किलो बिक रही है जबकि 60 से 80 रुपये किलो बिकने वाला शिमला मिर्च 100 रुपये और चालीस रुपये किलो बिकने वाला टमाटर 80 रुपये में बिक रहा है। जानकीपुरम निवासी विनीता का कहना है कि भिंडी व तोरई के दाम में 10 रुपये किलो की वृद्धि हुई है। ये दोनों तीस से चालीस रुपये किलो मिल रही हैं। बाजार में लौकी 20 रुपये प्रति किलो बिक रही है। प्याज व लहसुन के थोक के दामों में पांच से बीस रुपये तक का अंतर आया है। आलू के दाम भी बीस रुपये प्रतिकिलो से बढक़र तीस रुपये प्रति किलो हो गया है।

चिकित्सक दे रहे हरी सब्जियों के सेवन पर जोर

कोरोना काल में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए चिकित्सक हरी सब्जियों के सेवन पर जोर दे रहे हैं लेकिन दामों में तेजी से इजाफा होने के कारण लोगों के सामने मुश्किलें खड़ी हो गई हंै। लोगों की थाली में सब्जियों की मात्रा लगातार कम होने लगी है।

थोक कीमतों में भी उछाल

दुबग्गा नवीन सब्जी व फल मंडी के अध्यक्ष मयंक उर्फ लाला यादव ने बताया कि बारिश में सब्जियों के दामों में तेजी से इजाफा हुआ है। भिंडी और तोरई के थोक दाम में तीन से चार रुपये जबकि बैंगन की कीमतों में आठ रुपये प्रति किलो इजाफा हुआ है। कद्दू व लौकी के दाम में दो-तीन रुपये प्रति किलो की वृद्धि हुई है। यही हाल अन्य सब्जियों का है। दुबग्गा मंडी में प्याज व लहसुन कारोबारी मो. आजाद ने बताया कि प्याज में पांच रुपये और लहसुन में बीस रुपये प्रति किलो का इजाफा हुआ है।

क्या कहते हैं
व्यापारी

व्यापारियों का कहना है कि बारिश के समय सब्जियों की आपूर्ति बाधित हो जाती है। इसके अलावा सब्जियां तेजी से सडऩे लगती हैं। लिहाजा इनके दामों में इजाफा हो जाता है। वहीं डीजल के दामों में इजाफा होने के कारण माल भाड़ा बढ़ गया है, जिसका असर सब्जियों के दामों पर पड़ रहा है।

https://www.youtube.com/watch?v=QN_fyaf-eaQ

Next Story
Share it