Top

मंदिरों में गूंजे माता के जयकारे आराधना कर मांगी कोरोना से मुक्ति

मंदिरों में गूंजे माता के जयकारे आराधना कर मांगी कोरोना से मुक्ति

  • दो गज की दूरी अपनाकर व मास्क लगाकर घरों में किया गया कंजक पूजन

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। शारदीय नवरात्र के आखिरी दिन महाअष्टïमी और महानवमी पर श्रद्धा, भक्ति और आस्था की लहरें भक्ति रस के समंदर में उमड़ पड़ीं। शहरभर के मां दुर्गा के मंदिरों और पांडालों में पूजा की थाल लेकर श्रद्धालुओं ने सोशल डिस्टेंसिंग के साथ आराधना की। मंदिर माता के जयकारों से गूंज उठे। श्रद्धालुओं ने माता के दर्शन कर मंगल कामना की। कोरोना से मुक्ति मांगी। घर-घर में श्रद्धालुओं ने व्रत रखकर मां दुर्गा के प्रति भक्ति भाव अर्पित किया।
वहीं मंदिरों में मास्क, सेनेटाइजर, थर्मल स्क्रीनिंग, सोशल डिस्टेंसिंग जैसी सावधानियों के साथ ही माता के दर्शन-पूजन की व्यवस्था की गई है। वहीं कुछ जगह भक्तों ने कोरोना की गाइडलाइन व प्रोटोकॉल का पालन करते हुए बाहर से ही मां के दर्शन किए। राजधानी के सबसे बड़े सिद्धपीठ चौक की छोटी व बड़ी कालीजी मंदिर में पुजारियों ने प्रसाद चढ़ाया। गरीबों को बांटा। कन्याओं के पैर छूकर आशीर्वाद भी लिया। रानीकटरा के संकटा देवी मंदिर, चौपटिया के संदोहन देवी मंदिर, आनंदी माता मंदिर, शास्त्रीनगर श्री दुर्गा मंदिर, मां पूर्वी देवी मंदिर ठाकुरगंज, संतोषी माता मंदिर के साथ ही पक्का पुल स्थित मरी माता मंदिर, राजेंद्र नगर के महाकल मंदिर समेत शहर के सभी दुर्गा मंदिरों में अष्टïमी पर भक्तों ने दर्शन कर पूजा-अर्चना की। घरों में कंजक भी पूंजी। दान-पुण्य भी किया। रामकृष्ण मठ में पुजारियों ने कन्या पूजन कर नवरात्रि पर्व का समापन किया। श्रद्घालुओं को प्रसाद भी बांटा।

मुख्यमंत्री ने दी अष्टïमी व नवमी की शुभकामनाएं

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महाअष्टïमी और महानवमी के अवसर पर प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि नवरात्र का पर्व केवल व्रत और उपवास का नहीं, बल्कि नारी शक्ति और कन्याओं के सम्मान का भी पर्व है। उन्होंने धार्मिक कार्यक्रमों में कोविड-19 के प्रोटोकॉल तथा शारीरिक दूरी का पालन करने की अपील की है। वहीं यूपी भाजपा के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने भी प्रदेशवासियों को श्रीदुर्गाष्टमी की शुभकामनाएं दीं।

बिना मास्क के घूमने वालोंं की सीसीटीवी से होगी पहचान

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। त्यौहारों के मौके पर कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए अत्यधिक सतर्कता बरतने पर जोर देते हुए मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने धार्मिक स्थलों और भीड़भाड़ वाले इलाकों में सीसीटीवी कैमरे के माध्यम से मास्क न पहनने व शारीरिक दूरी का पालन न करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।
उन्होंने कहा कि जहां सीसीटीवी कैमरे नहीं हैं। ऐसे भीड़भाड़ वाले इलाकों व बाजारों में वीडियोग्राफी कराई जाए। सीसीटीवी फुटेज और वीडियोग्राफी के निरीक्षण के लिए दक्ष कार्मिकों की ड्यूटी लगाई जाए। विभिन्न विभागों के आला अधिकारियों के साथ बैठक में मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने कहा कि प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मामलों में काफी कमी आई है तथा रिकवरी रेट भी बेहतर है। इसके बावजूद कोरोना के प्रति किसी भी स्तर पर लापरवाही न बरती जाए तथा आने वाले त्योहारों को ध्यान में रखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क पहनने के प्रति जन-सामान्य को निरन्तर जागरूक किया जाए।

कल से खुलेंगे बांके बिहारी मंदिर के कपाट

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। वृंदावन में बांके बिहारी मंदिर कल से श्रद्धालुओं के लिए फिर से खोल दिया जाएगा। हालांकि, प्रवेश के लिए ऑनलाइन पंजीकरण होगा। श्रदालु कोविड 19 के दिशा-निर्देशों और सामाजिक दूरी का पालन कर दर्शन पूजन कर सकेंगे।
कोरोना आपदा के दौरान लागू लॉकडाउन के बाद बांके बिहारी मंदिर को आम भक्तों के लिए खोलने के लिए सिविल जज जूनियर डिवीजन द्वारा मंदिर प्रबंधन को 15 अक्टूबर को एक आदेश पारित किया था। जिसमें मंदिर को 17 अक्टूबर से आम भक्तों के लिए सोशल डिस्टेसिंग का अनुपालन करते हुए खोलने के निर्देश दिए थे। इस पर मंदिर प्रबंधन द्वारा 17 एवं 18 अक्टूबर को मंदिर खोला गया।

पासपोर्ट सत्यापन में 5 से 10 लाख की हर माह वसूली: नूतन

  • एलआईयू द्वारा पूरे प्रदेश में की जा रही अवैध वसूली पर अंकुश लगाए जाने की मांग.

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सोशल एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर ने पासपोर्ट जांच के नाम पर एलआईयू द्वारा पूरे प्रदेश में की जा रही अवैध वसूली पर अंकुश लगाए जाने की मांग की है। डीजीपी यूपी एचसी. अवस्थी को भेजी अपनी शिकायत में नूतन ने कहा कि तत्कालीन डीजीपी यूपी ने 4 नवंबर 2011 के आदेश एलआईयू कर्मियों को पासपोर्ट जांच के लिए आवेदक के घर नहीं जाने तथा कार्यालय के अभिलेखों के आधार पर ही
अपनी आख्या देने के निर्देश दिए थे। इसके
बाद अभिसूचना विभाग ने भी इस संबंध में
बार-बार निर्देश दिए।
नूतन ने कहा कि इसके बाद भी केवल देवरिया जिले को छोडक़र पूरे प्रदेश में एलआईयू कर्मी सत्यापन के नाम पर आवेदक के घर जा रहे हैं। जहां वे 1000-2000 रुपए की उगाही करते हैं। इस उगाही में 300-500 रुपए एलआईयू के इंचार्ज को मिलता है। प्रत्येक जिले में औसतन पासपोर्ट के 1000-3000 आवेदन प्रति माह आते हैं। इस तरह प्रत्येक जिले में औसत 5-10 लाख रुपए प्रति माह की वसूली मात्र पासपोर्ट सत्यापन के नाम पर हो रही है। उन्होंने कहा कि यह वसूली केवल जिले के एसपी तथा उनके ऊपर के अफसरों के आंख मूंदे रहने के कारण हो रही है। अत: उन्होंने डीजीपी से इस आदेश का वास्तविक अनुपालन कराए जाने की मांग की है।

https://www.youtube.com/watch?v=AQlDi6BrL7E

Next Story
Share it