Top

बोर्ड परीक्षा: ड्यूटी से गायब हुए गुरुजी तो कटेगा वेतन

बोर्ड परीक्षा: ड्यूटी से गायब हुए गुरुजी तो कटेगा वेतन

  • माध्यमिक शिक्षा परिषद ने लिया फैसला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
अलीगढ़। माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश (यूपी बोर्ड) ने वार्षिक परीक्षा 2021 में शिक्षक-शिक्षिकाओं के ड्यूटी न करने पर सख्त कदम उठाया है। यूपी बोर्ड परीक्षा की ड्यूटी न करने पर गुरुजी के वेतन पर संकट के बादल मंडरा जाएंगे। पहली बार ये फैसला किया गया है कि ड्यूटी के दिन गैरहाजिर रहने पर शिक्षक का एक दिन का वेतन काट लिया जाएगा।
कोरोना काल में शिक्षकों व कक्ष निरीक्षकों की कमी न हो इसलिए ड्यूटी में नाम आने वाले हर शिक्षक-शिक्षिका को हर-हाल में ड्यूटी करनी ही होगी। परीक्षा संबंधी किसी कार्य से मुंह चुराने वाले शिक्षकों पर विभागीय कार्रवाई के साथ वेतन काटने की कार्रवाई भी होगी। बोर्ड परीक्षा में जिन शिक्षकों या शिक्षिकाओं की ड्यूटी लगेगी उनकी उपस्थिति भी सॉफ्टवेयर के जरिए ऑनलाइन माध्यम से लगाई जाएगी। इसके लिए बोर्ड की ओर से सॉफ्टवेयर भी तैयार कराए जा रहे हैं। सॉफ्टवेयर पर हाजिरी न लगने पर कक्ष निरीक्षक या शिक्षक को कार्रवाई के लिए तैयार रहना होगा क्योंकि ये कार्रवाई जिलास्तर पर डीआइओएस कार्यालय से नहीं बल्कि शासनस्तर से ऑनलाइन माध्यम से ही कर दी जाएगी। इसको अमल में लाने व शिक्षक को दंडित करने की आख्या अफसरों को शासन को भेजनी होगी। बोर्ड परीक्षा की ड्यूटी में लगने वाले हर शिक्षक की आईडी भी तैयार की जाएगी। इसके लिए उनको अपना आधार कार्ड, निवास प्रमाणपत्र आदि दस्तावेज भी पहले ही जमा करने होंगे। ये कदम इसलिए उठाया जा रहा है ताकि परीक्षा के दौरान केंद्र पर निरीक्षक कोई गड़बड़ी में शामिल हों तो उन तक आसानी से पहुंचा जा सके व कार्रवाई की जा सके। अफसरों का कहना है कि कोरोना काल के चलते सीमित संख्या में ही शिक्षक ड्यूटी के लिए उपलब्ध हो सकेंगे। ऐसे में जिनको ड्यूटी में शामिल किया जाए वो अपने काम से किनारा न करें। डीआइओएस डॉ. धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि इस बार बोर्ड ने शिक्षकों की ड्यूटी के संबंध में सख्ती बरती है। जिन शिक्षकों की ड्यूटी परीक्षा कार्य में लगेगी और वो ड्यूटी में गैरहाजिर रहेंगे, उनके खिलाफ वेतन काटने की कार्रवाई की जाएगी। बोर्ड ड्यूटी में लगने वाले शिक्षकों का डेटा भी बोर्ड को भेजा जाएगा।

पत्नी की हत्या कर शव प्लाट में दफनाया

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
मेरठ। जिले के सरूरपुर थाना क्षेत्र के जैनपुर गांव के बाहरी छोर पर खाली पड़े प्लाट से चार दिनों से गायब महिला का शव पति की निशानदेही पर पुलिस ने बरामद कर लिया। शव की पहचान करते ही स्वजन में खलबली मच गई। पुलिस ने महिला के पति सहित चार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।
थाना प्रभारी निरीक्षक अरविंद कुमार ने बताया की 26 नवंबर की दोपहर थाने पहुंची दिल्ली के शाहदरा के हर्ष विहार थाना क्षेत्र के मंडोला बुध विहार के गली नंबर 12 निवासी साबरी बेगम पत्नी शरीफ ने बताया कि उनकी बेटी सिमरन ने मंडोला निवासी आमिर पुत्र शाहिद से दो वर्ष पूर्व कोर्ट मैरिज की थी। कुछ दिनों तक दिल्ली में साथ रहने के बाद आमिर उनकी बेटी को लेकर हर्रा कस्बे में आकर किराए के मकान में रहने लगा। बीती 25 नवंबर की रात्रि में उसकी बेटी ने किसी अनहोनी की आशंका जताते हुए उनको फोन किया था, लेकिन कुछ देर बाद ही उसका फोन स्विच ऑफ हो गया। 26 की सुबह स्वजन हर्रा पहुंचे और मकान पर जानकारी की तो वहां पर ताला लटका मिला। पुलिस ने तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर पति आमिर को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने महिला की हत्या करने की बात स्वीकार करते हुए शव को जैनपुर गांव के बाहरी छोर पर स्टेट खाली पड़े प्लाट में दबाने की बात स्वीकार की। रविवार की दोपहर बाद आमिर को लेकर मौके पर पहुंची पुलिस ने जमीन के अंदर से मिट्टी हटाकर महिला का शव बरामद कर लिया। स्वजन ने शव की पहचान अपनी बेटी सिमरन के रूप में की और वहीं पर चीख पुकार मच गई। वहीं महिला के पति ने हत्या में शामिल आरिफ पुत्र मतीन निवासी नूरपुर थाना अतरौली जिला अलीगढ़, नसीम निवासी शिकरावा जिला नूह मेवात हरियाणा तथा बबलू निवासी विनोली जिला बागपत के नाम भी पुलिस को बताए हैं। पुलिस ने सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर शव का पंचनामा भरकर मोर्चरी भेज दिया।

https://www.youtube.com/watch?v=xhO_pAJBx-s

Next Story
Share it