Top

प्रदेश में प्लास्टिक पर रोक से ही स्वच्छता और सेनेटाइजेशन अभियान सफल होगा: मुख्यमंत्री

प्रदेश में प्लास्टिक पर रोक से ही स्वच्छता और सेनेटाइजेशन अभियान सफल होगा: मुख्यमंत्री

कोरोना और संचारी रोगों का संक्रमण रोकने के लिए रूपरेखा तय
निर्धारित मानक से कम की प्लास्टिक पर कड़ाई से लागू कराएं नियम

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कोरोना और संचारी रोगों का संक्रमण रोकने के लिए योगी सरकार ने स्वच्छता और सैनिटाइजेशन को बड़े पैमाने पर चलाने की पूरी रूपरेखा बना ली है। इसी के तहत अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्लास्टिक के उपयोग को इस्तेमाल न करने की सलाह दी है।
सीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि निर्धारित मानक से कम की प्लास्टिक पर लगे प्रतिबंध को कड़ाई से लागू कराएं। कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा करते हुए सीएम योगी ने लखनऊ, कानपुर नगर, अमरोहा और झांसी में विशेष सतर्कता बरतने के लिए कहा है। लोकभवन में अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रत्येक शनिवार और रविवार को स्वच्छता व सैनिटाइजेशन का अभियान पूरे प्रदेश में प्रभावी ढंग से चलाने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा है कि नोडल अधिकारी इस पर नजर रखें। स्वच्छता और सैनिटाइजेशन के अभियान की सफलता तभी संभव है, जब आम जनता के बीच प्लास्टिक के उपयोग को हतोत्साहित किया जाए। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि शासनादेश का पालन कराते हुए प्रदेश के सभी बाजार सप्ताह में पांच दिन सुबह नौ से रात नौ बजे तक खुलवाना सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री योगी ने आकाशीय बिजली से होने वाली जनहानि को रोकने के लिए तकनीक के इस्तेमाल का सुझाव दिया है। उन्होंने कहा है कि यह तकनीक ऐसी हो, जिससे न्याय पंचायत स्तर पर अलर्ट जारी कर लोगों की जान बचाई जा सके।

यूरिया उत्पादन की तीन इकाइयों का पुनर्निर्माण

मुख्यमंत्री योगी ने बताया कि एचयूआरएल द्वारा गोरखपुर के साथ बिहार में बरौनी व झारखंड के सिंदरी में यूरिया उत्पादन की तीन इकाइयों का पुनर्निर्माण कराया जा रहा है। गोरखपुर का खाद संयंत्र जून 1990 में बंद हो गया था, जिसके लिए 26 वर्ष बाद जुलाई 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुनर्निर्माण की आधारशिला रखी थी। सीएम योगी ने कहा कि बंद मिलों व कारखानों के कारण पलायन की समस्या जटिल हो गई थी, जबकि भाजपा शासन में उन्हें फिर से चलाया जा रहा है। उन्होंने कोरोना संकट में भी एचयूआरएल द्वारा निर्माण कार्य जारी रखने को सराहा।

यूरिया के साथ किसानों को मिलेगी कृषि सलाह

----------------------------------------------------------------------पूर्वांचल में उर्वरक की उपलब्धता को सुलभ बनाने के लिए मुख्यमंत्री योगी ने अपने सरकारी आवास से यूरिया की बिक्री का शुभांरभ किया। उन्होंने कहा कि सरकार कृषि कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। इसलिए यूरिया की उपलब्धता के साथ किसानों को खेती संबंधित सलाह भी दी जाएगी। हिंदुस्तान उर्वरक एवं रसायन लिमिटेड (एचयूआरएल) के सीडिंग कार्यक्रम के तहत यूरिया रैक गोरखपुर पहुंचने पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीएम योगी ने किसानों के हित चलायी जा रही विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि एक वर्ष के भीतर एचयूआरएल गोरखपुर संयंत्र को आरंभ कर देगी। इससे उत्पादित यूरिया पूर्वांचल के किसानों का उर्वरक संबंधित संकट समाप्त कर देगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि यूरिया उपलब्ध कराने के साथ एचयूआरएल किसानों को खेती संबंधित जानकारी, मौसम का पूर्वानुमान, आधुनिक तकनीक, जैविक फसल चक्र और फसल संरक्षण के बारे में भी बताएगा।

https://www.youtube.com/watch?v=6RaO4fDfh4I

Next Story
Share it