Top

प्रदेश में एक-एक माफिया को बनाएं टारगेट ऑपरेशन माफिया के तहत करें कार्रवाई

प्रदेश में एक-एक माफिया को बनाएं टारगेट ऑपरेशन माफिया के तहत करें कार्रवाई

थाने से बीट स्तर तक के अधिकारियों को दें जिम्मेदारी
महिलाओं पर अपराध के खिलाफ संवेदनशील रहें सभी जिलों के अफसर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर समीक्षा करते हुए पुलिस के उच्चाधिकारियों से कहा कि पूरे प्रदेश में ऑपरेशन माफिया चलाए। साथ ही पूरे प्रदेश में एक-एक माफिया को लक्ष्य बनाएं। दबंगई से संपत्तियों पर कब्जा करने वालों पर कार्रवाई होनी चाहिए। उनकी अवैध संपत्ति जब्त कर उन पर कड़ी कार्रवाई की जाए।
मुख्यमंत्री ने महिलाओं के विरुद्ध होने वाले अपराधों को नियंत्रित करने के लिए ऑपरेशन शक्ति सक्रियता से चलाने के निर्देश दिए। कहा कि बहन-बेटियों की सुरक्षा के प्रति खतरा बने लोगों के प्रति कार्रवाई में पूरी तत्परता बरती जानी चाहिए। इस संबंध में हर स्तर के अधिकारी संवेदनशीलता रहें। एंटी रोमियो स्क्वायॅड काम करता रहे। उन्होंने संपूर्ण समाधान दिवस और थाना दिवस में जनशिकायतों के निस्तारण पर जोर दिया। पुलिस महानिदेशक हितेश चंद्र अवस्थी ने पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को निरंतर पुलिस थानों का भ्रमण कर निरीक्षण करते रहने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि थाना से लेकर बीट स्तर तक अच्छे अधिकारियों को जिम्मेदारी दी जाए और जवाबदेही भी सुनिश्चित की जाए। प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों में विशेष सतर्कता बरती जाए। माहौल को खराब करने वाले तत्वों को चिन्हित कर उनके विरुद्ध पहले से ही कार्रवाई करें।

महोबा में माफिया की तरह काम कर रहे थे पुलिस अफसर
कानून व्यवस्था की समीक्षा करने बैठे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पारा महोबा के चर्चित कांड को लेकर चढ़ा रहा। क्रशर व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत के मामले में पुलिस अधीक्षक (अब निलंबित) मणिलाल पाटीदार और उनकी टीम का नाम आने से नाराज योगी ने स्पष्ट कहा कि महोबा में पुलिस अफसर माफिया की तरह काम कर रहे थे। माफिया कोरोना की तरह है, जिसे रोका न जाए तो बढ़ता जाता है। योगी ने ऐसे अफसरों पर लगातार नजर रखने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने अपने आवास से वीसी के जरिए प्रदेश की कानून व्यवस्था की समीक्षा की। योगी ने कहा कि महोबा में सामने आया कि कैसे वहां एक वरिष्ठ अधिकारी अपराधी की तरह काम कर रहा था। उच्च अधिकारी नजर रखें कि उनकी क्षेत्र में कोई अफसर इस तरह का काम तो नहीं कर रहा। उसकी जानकारी तत्काल शासन को दी जाए। योगी ने कहा कि कानून सभी के लिए समान है। यदि गलत कृत्यों में अफसर लिप्त पाए जाएंगे, तो वह भी बख्शे नहीं जाएंगे।

सरकार अब संस्कृत में भी जारी करेगी प्रेस नोट

प्रदेश सरकार ने हिंदी के साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार की सभी सूचनाएं संस्कृत भाषा में जारी करने का फैसला किया है। इसी क्रम में कोविड-19 की समीक्षा बैठक का प्रेस नोट हिंदी के साथ ही संस्कृत भाषा में जारी किया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया था कि अब सभी सरकारी सूचना हिंदी भाषा के साथ संस्कृत में भी जारी होगी। सभी प्रेस नोट भी हिंदी के साथ संस्कृत में जारी होंगे। इसी क्रम में रविवार को शासकीय प्रेस विज्ञप्तियां संस्कृत भाषा में भी निर्गत की गईं। मुख्यमंत्री की कोविड-19 को लेकर प्रतिदिन की जा रही समीक्षा बैठक की निर्गत प्रेस विज्ञप्ति आज की संस्कृत भाषा में भी जारी की गई है।

खतरा बने अपराधियों पर करें सख्ती

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार की अपराध एवं भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टालरेन्स की नीति है। भ्रष्टाचार, अराजकता और अव्यवस्था के मामलों में कोई भी रियायत नहीं दी जा सकती। अपराधों को नियंत्रित करने के लिए खतरा बने लोगों के प्रति कार्यवाही में पूरी तत्परता बरती जानी चाहिए। इस संबंध में हर स्तर के अधिकारी को संवेदनशीलता रहें।

https://www.youtube.com/watch?v=u5RnCcEeL0g

Next Story
Share it