Top

निजीकरण के जरिए रोजगार खत्म कर रही भाजपा सरकार: अखिलेश

निजीकरण के जरिए रोजगार खत्म कर रही भाजपा सरकार: अखिलेश

देश के संसाधनों का लगा दिया बाजार, गलत नीतियों से चरमराई अर्थव्यवस्था
सरकारी बैंकों की हिस्सेदारी भी बेचने की तैयारी, जनता देगी जवाब

१ 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार निजीकरण की आड़ में रोजगार खत्म कर रही है। विद्युत क्षेत्र में भाजपा के सत्ता में आने के बाद से ही गड़बड़ी होनी शुरू हो गई है। साढ़े तीन वर्षों में एक यूनिट बिजली का उत्पादन नहीं हुआ। विद्युत आपूर्ति गांव में लगभग 10 घंटा और शहरों में 15 घंटा से ज्यादा कभी नहीं मिल पाई। उपभोक्ताओं को लंबे-लंबे बिल भेजकर परेशान किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार शासन चलाने के बजाय देश के साधनों-संसाधनों का बाजार लगा रही है। निजीकरण से वह युवाओं के लिए रोजगार के अवसरों को बेचने में लगी है। इसके दुष्प्रभावों के बारे में भाजपा नहीं सोच रही है। उसे शासन चलाने में अपनी असफलता मान लेनी चाहिए। उसकी अपनी आर्थिक कुनीतियों के चलते अर्थव्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई है। स्थिति उसके नियंत्रण में नहीं रह गई है इसलिए वह जल्दी से जल्दी सरकारी सेवाओं को निजी हाथों में सौंप कर अपना राजनीतिक स्वार्थ साधन करते हुए बाहर निकलने का मौका चाहती है।
उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार टोल, मंडी, आईटीआई, पॉलीटेक्नीक, सरकारी माल, हवाई अड्डा, रेल और बीमा कंपनियों के निजीकरण की दिशा में कदम उठा रही है। रेलवे अस्पतालों को बेचने के लिए टेंडर मांगे जा रहे हैं। सेवानिवृत्ति के बाद खाली पदों में 50 प्रतिशत पदों को समाप्त किए जाने का फैसला हो चुका है। सरकारी बैंकों की संख्या 12 से 5 करने की तैयारी है। सरकार बैंकों की हिस्सेदारी निजी क्षेत्र को बेचने की तैयारी कर रही है। बीमा कम्पनियों पर भी तिरछी नजर है। एयरपोर्ट को पहले ही निजी हाथों में दिया जाना तय हो चुका है। कोरोना संकट में लॉकडाउन के चलते लाखों श्रमिकों की जिंदगी में अंधेरा छा गया। भाजपा सरकार अपनी एकाधिकारी मानसिकता के चलते नौजवानों, राज्यकर्मचारियों, व्यापारियों की आवाज सुनने के बजाय उनके दमन में विश्वास रखती है। उसके इस रवैये से जनता में भारी आक्रोश है। विधानसभा के होने वाले उपचुनावों में ही उसे जनता करारा सबक सिखा देगी।

प्रयागराज: ससुराल गए युवक का अपहरण, मांगी गई फिरौती

छह दिन बाद मुकदमा, तलाश में जुटी पुलिस

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
प्रयागराज। अपनी ससुराल मीरजापुर गए हंडिया निवासी विजयपाल का कुछ लोगों ने अपहरण कर लिया। घरवालों से जब फिरौती मांगी गई तो वह परेशान हो गए। छह दिन बाद हंडिया पुलिस ने मुकदमा कायम किया। युवक की तलाश में पुलिस एक टीम मीरजापुर भेजी गई है।
हंडिया थाना क्षेत्र के पटेलनगर बमैला गांव निवासी नंद लाल खेती करते हैं। उनका बेटा विजय पाल मुंबई में प्राइवेट नौकरी करता था। लॉकडाउन के दौरान वह घर आया। एक अक्टूबर को उसने पत्नी से कहा कि ससुराल जा रहा है। फिर बाइक लेकर मीरजापुर के कामापुर गांव के निकल गया। उसी दिन शाम को विजयपाल के चाचा के मोबाइल पर फोन आया कि भतीजे का अपहरण कर लिया गया है। 10 हजार रुपये खाते में डाल दो वरना अच्छा नहीं हो गया। परेशान चाचा ने फोन करने वाले के खाते में 10 हजार रुपये ट्रांसफर कर दिया मगर विजयपाल वापस नहीं आया। अगले दिन अपहरणकर्ताओं ने फिर फोन किया और 20 हजार की फिरौती मांगी। इससे घरवाले काफी परेशान हो गए। स्वजनों ने हंडिया थाने में शिकायत दी, जिसके आधार पर पुलिस ने जांच की तो पता चला कि घटनास्थल मीरजापुर है। तब घरवालों को मीरजापुर भेजा गया, लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की। इस पर परिवार वाले एसपी गंगापार और एसएसपी से शिकायत की। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर मंगलवार शाम पिता की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ मुकदमा कायम हुआ।

https://www.youtube.com/watch?v=8EBOyF1BWN0

Next Story
Share it