Top

डीएम ने राहगीरों को बांटे मास्क कोरोना से बचाव के उपाय बताए

डीएम ने राहगीरों को बांटे मास्क कोरोना से बचाव के उपाय बताए

  • बिना मास्क घूम रहे बच्चों को बांटा मास्क
  • कोरोना का महत्व बताकर वितरण किया सेनेटाइ

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में कोरोना संक्रमण का ग्राफ कम करने का श्रेय जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश को जाता है। डीएम की सजगता से काफी हद तक शहर में कोरोना के चेन टूटने लगी हैं। जिलाधिकारी कोरोना की रोकथाम के लिए काफी सजग हैं। संवेदनशील है। इसके लिए जिलाधिकारी खुद समय निकालकर सडक़ों पर बिना मास्क घूम रहे मजदूरों को मास्क बांटते नजर आए। साथ ही उन्होंने लोगों को जागरूक भी किया।
आज जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश शहर में निरीक्षण के लिए निकले। इस दौरान हजरतगंज में कसमंडा हाउस के पास डीएम रुक गए और मजदूरों को मास्क बांटने लगे। रास्ते में चलते दिखे लोगों व छोटे बच्चों को भी मास्क व सेनेटाइजर दिया। कोरोना का महत्व बताया। साथ ही डीएम ने बिना मास्क घूमने वालों को मास्क पहनने की सख्त हिदायत दी। दो गज की दूरी बनाये रखने का भी आह्वïान किया। उन्होंने कोरोना से होने वाले नफा-नुकसान के बारे में समझाया। डीएम ने कहा कि अब हम लोग कोरोना से संघर्ष करते हुए जीत की तरफ बढ़ रहे हैं ऐसें में हमे और अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है। डीएम ने बताया कि राजधानी में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए गरीब मजदूरों और श्रमिकों के लिए निशुल्क मास्क और सेनेटाइजर मुहिम शुरू की। इसमें कोई भी सहयोग कर सकता है।

उत्तर प्रदेश में कोविड-19 रिकवरी रेट 88 फीसदी
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के 3,663 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 4,432 मरीज स्वस्थ भी हुए, जबकि 61 मरीजों ने दम तोड़ दिया। नए मरीजों की तुलना में स्वस्थ होने वालों की संख्या लगातार अधिक बनी रहने से प्रदेश में अब कोरोना संक्रमितों का रिकवरी रेट बढक़र 88.07 प्रतिशत हो गया है। यूपी के आठ जिलों में कोरोना के नए मरीजों की संख्या 100 से अधिक है। इनमें सर्वाधिक 428 मरीज लखनऊ में पाये गए हैं। इसके अलावा गौतमबुद्धनगर में 247, प्रयागराज में 191, गाजियाबाद व मेरठ में प्रत्येक में 185, कानपुर नगर में 168, वाराणसी में 160 और गोरखपुर में 158 नए मरीजों का पता चला है। वहीं मंगलवार को डिस्चार्ज हुए लोगों को मिलाकर अब तक प्रदेश में 3,70,753 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। कोरोना से 24 घंटों के दौरान को सबसे ज्यादा 12 मरीजों ने लखनऊ में जान गंवाई।

एलयू: बीते सत्र की मेस फीस इस सत्र की हॉस्टल फीस में समायोजित

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय प्रशासन ने बीते सत्र में जमा की गई मेस फीस को नए सत्र में हॉस्टल आवंटन की फीस के रूप में समायोजित करने का निर्णय लिया है। इस संबंध में विवि की चीफ प्रोवोस्ट की ओर से
निर्देश जारी किया गया है।
इसमें कहा गया है कि बीते करीब आठ महीनों से विवि के हॉस्टल बंद है, ऐसे में हॉस्टलों में रहने वाले विद्यार्थियों की मेस फीस विवि प्रशासन के पास जमा हैं। ऐसे में जो छात्र नए सत्र में हॉस्टल में रहना चाहते हैं तो वे लिखित में देंगे कि बीते सत्र की बची हुई मेस फीस से उनके अगले सत्र के लिए हॉस्टल आवंटन की फीस जमा कर ली जाए। लखनऊ विश्वविद्यालय के अधिकारियों की दलील है कि इससे विश्वविद्यालय को फीस भी वापस नहीं करनी पड़ेगी और विद्यार्थियों को नए सत्र में हॉस्टल आवंटन के लिए फीस जमा करने से निजात भी मिल जाएगा।

कोरोना संक्रमितों को दवा के साथ योग करने की सलाह

  • खुद को और अपने परिवार के स्वास्थ्य रक्षा के लिए योग सर्वोत्तम उपाय
  • योग से बढ़ाएं अपनी प्रतिरोधक क्षमता

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। कोविड-19 के संक्रमण काल में योग का महत्व और बढ़ गया है। हनुमान सेतु स्थित योग केंद्र के कोऑर्डिनेटर सुनील शर्मा के मुताबिक कोरोना के ऐसे चुनौतीपूर्ण समय में खुद को और अपने परिवार के स्वास्थ्य रक्षा के लिए योग सर्वोत्तम है। उन्होंने कोरोना संक्रमितों को दवा के साथ योग करने की भी सलाह दी है ताकि वे कोरोना सहित अन्य बीमारियों को मात दे सके।
अंतरराष्टï्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी ने भी बीमारियों से बचने के लिए योग की क्रिया अपनाने का लोगों से आह्वïान किया था। अब केंद्र सरकार ने भी कोरोना से बचने के लिए दो नर्ई सलाह दी है। पहली हल्के और मध्यम लक्षण वाले संक्रमित आयुर्वेद के जरिए कोरोना का खात्मा करें और दूसरी सलाह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए योग का सहारा को बढिय़ा बताया है। राजधानी लखनऊ की आधी से ज्यादा आबादी योग कर रही है। वहीं शहर में सैकड़ों बिना लक्षण व हल्के लक्षण वाले सक्रमितों ने काढ़े का सेवन कर व योग के जरिए कोरोना को मात दे दी। आयुर्वेद पद्घति में औषधियों का सेवन व योग के जरिए कोरोना जैसी बीमारी को जड़ से खत्म करने का दावा किया जा रहा है। हालाकि अभी कोर्ई आधिकारिक प्रूफ नहीं है।

योगा करने से खुद को रखें निरोग

योगाविद् शोभना श्रीवास्तव का कहना है कि कोरोना काल में योग के जरिए इम्युनिटी बढ़ाने के साथ ही शरीर को निरोग और मन को शांत रखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि आधे घंटे तक घर पर अपने परिवार के साथ योगाभ्यास कर हम अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं। वे कहती है कि कोविड-19 से लोगों में संक्रमण का भय फैल गया, जिससे वह इम्यूनिटी को मजबूत व मानसिक रूप से स्वस्थ होने के लिए योग का सहारा ले रहे हैं। योग करने से लोगों को अपने अंदर बदलाव भी नजर आ रहे हैं। शोभना कहती है कि ताड़ासन से फेफड़ों को शक्ति मिलेगी, सिंहासन से निभीर्कता आएगी, आंखें, चेहरे में स्फूर्ति आएगी। कटि चक्रासन से मेरुदण्ड के दर्द दूर होंगे। इसके बाद प्राणायाम का अभ्यास करे। शरीर में पहुंची आक्सीजन द्वारा शरीर का पोषण मिलता है। मस्तिष्क केंद्र सक्रिय होते है। योग हर उम्र में किया जा सकता है, बशर्ते योग करने की क्रिया मालूम होनी चाहिए।

होम क्वारंटाइन में क्या करें
होम क्वारंटाइन के दौरान संक्रमितों को घर में भी उचित दूरी बनाकर रहना चाहिए। सुबह-शाम योग करें। सौंठ, अदरक, तुलसी, गिलोय व लेमन ग्रास का काढा बनाकर पीएं। गर्म पानी का सेवन करें और ठंडे पदार्थों से खुद को दूर रखें। हल्दी व नमक के पानी से गरारे करें और हल्दी का दूध पीने के साथ ही सिर्फ घर का बना खाना खाएं। इस सबके जरिए कोरोना को मात दिया जा सकता है।

ध्यान रखें ये बातें
योग करने से चार घंटे पहले कुछ नहीं खाएं। योग करने के 20 मिनट बाद कुछ न कुछ हल्का खाना चाहिए, अन्यथा धीरे- धीरे गैस बनने जैसी समस्याएं होने लगती हैं।

जलनेति की बढ़ी डिमांड
सुनील शर्मा ने बताया कि आज के समय में जलनेति के मरीज आ रहे हैं। जलनेति में पानी से नाक की सफाई की जाती है, जिससे आपको साइनस, सर्दी- जुकाम, प्रदूषण से बचाया जा सकता है। इसे करने के लिए नमकीन गुनगुने पानी का इस्तेमाल किया जाता है।
इसके लाभ
श्वसन प्रणाली को ठीक करें
अस्थमा में लाभकारी
संक्रमण से बचाती है
माइग्रेन में सहायक

झांसी में कर्ज से परेशान किसान ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बुन्देलखंड में कर्ज में डूबे अन्नदाता किसान आत्महत्या करने पर मजबूर है। झांसी जिले के एरच थानान्तर्गत ग्राम बामौर में भी अब ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां कर्ज से परेशान एक किसान ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।
सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और आत्महत्या के कारण की जानकारी ली। पुलिस के अनुसार ग्राम बामौर निवासी 70 वर्षीय कमल कुशवाहा के पास एक बीघा जमीन है। वह खेत पर रहते थे। सुबह जब उसका बेटा किशोरी लाल खेत पर गया तो देखा कि उसके पिता फांसी पर लटके हुए थे। यह देख इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस मौके पर पहुंची और घटना की जानकारी करते हुए शव को कब्जे में लिया। पुलिस के मुताबिक परिजनों ने जानकारी देते हुए बताया कि कमल कुशवाहा पर कर्जा था, जिसको लेकर वह काफी तनाव था। कर्जा न चुका पाने के कारण किसान ने आत्महत्या कर ली।।

रायबरेली डीएम ने दी शहीद को श्रद्घांजलि

१११ 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। शहीद सीआरपीएफ के जवान शैलेंद्र प्रताप सिंह के पैतृक गांव मीर मीरानपुर में आज सुबह जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव व पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की। मंगलवार देर रात शहीद जवान शैलेंद्र प्रताप सिंह का पार्थिव शरीर उनके गांव मीर मीरानपुर पहुंचा, पार्थिव शरीर के इंतजार में हजारों की संख्या में ग्रामीण घुरुवारा से उनके गांव तक कतारबद्ध खड़े होकर भारत माता की जय, पाकिस्तान मुर्दाबाद, वंदे मातरम के नारे लगाते रहे। शहीद जवान के पैतृक गांव में सीआरपीएफ के जवानों ने सलामी दी। इसके बाद जवान के पार्थिव शरीर को लेकर डलमऊ स्थित श्मशान घाट ले जाया गया, जहां जवान का अंतिम संस्कार किया गया।

https://www.youtube.com/watch?v=pvRJWQ9xEuE

Next Story
Share it