Top

कोविड-19 के इलाज में अस्पतालों में लापरवाही न बरती जाए: मंडलायुक्त

कोविड-19 के इलाज में अस्पतालों में लापरवाही न बरती जाए: मंडलायुक्त

  • मंडलायुक्त और डीएम अचानक पहुंचे विवेकानंद अस्पताल के दौरे पर
  • कोविड उपचार हेतु लिया व्यवस्थाओं का जायजा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। लखनऊ के मंडलायुक्त रंजन कुमार आज शहर के अस्पतालों के दौरे पर निकले। मंडलायुक्त के साथ जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश भी थे। मंडलायुक्त और डीएम सुबह साढ़े दस बजे विवेकानंद अस्पताल पहुंचे। वहां डॉक्टरों से कोविड के उपचार के बारे में व्यवस्थाएं जांची। इसके बाद उन्होंने अस्पताल के उच्चाधिकारियों को निर्देश दिए कि कोविड-19 के इलाज में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। इसके अलावा अन्य इलाज में भी मरीजों को सहूलियतें दी जाए। अन्य इलाज भी पूरी पारदर्शिता से किए जाए, जैसा कि पहले सामान्य दिनों में होता आया है।
जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने कहा कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिए आपस में दो गज की दूरी बनाए रखें। बाहर से आए मरीजों को भी समय-समय पर दूरी बनाने के लिए टोकते रहे। इसके अलावा बिना मास्क के कोई कर्मचारी अस्पताल परिसर में न मिले। डॉक्टर भी मास्क अवश्य लगाएं। 2 गज की दूरी बनाए रखे। जिलाधिकारी ने कहा कि संक्रमण से मरीज का ही नहीं, बल्कि अपना भी बचाव करना है।

प्लाज्मा डोनेशन अभियान शुरू

जिला प्रशासन द्वारा कोविड वैश्विक महामारी के दृष्टिगत आ रही प्लाज्मा की समस्या के निवारण हेतु कोविड प्लाज्मा डोनेशन अभियान शुरू किया गया। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने एडीएम ट्रांस गोमती विश्वभूषण मिश्र, एडीएम प्रशासन अमरपाल सिंह, एलयू के कुलसचिव विनोद कुमार सिंह, कृषि विभाग में कार्यरत संयुक्त निदेशक आर के सिंह, तहसीलदार राकेश पाठक, धनंजय सिंह, डॉक्टर अभय सिंह को अभिनन्दन पत्र देकर सम्मानित किया और लखनऊ के सभी नागरिकों से अभियान को सफल और लोकप्रिय बनाने की अपील की। डीएम ने कहा कि पीजीआई के प्रोफेसर डॉक्टर अनुपम वर्मा से अपर जिलाधिकारी ट्रांस गोमती द्वारा अभियान हेतु समन्वय किया जाएगा। डीएम ने बताया कि इस कोरोना काल में कोविड से ठीक हुए व्यक्ति द्वारा प्लाज्मा दिए जाने से तीन कोविड ग्रस्त गंभीर अवस्था के मरीजों की जान बचाई जा सकती है।

शिक्षक भर्ती में घोटाले को लेकर अभ्यर्थियों का प्रदर्शन

लखनऊ। उत्तरप्रदेश में 69 हजार शिक्षक भर्ती में हुए महाघोटाले का शिक्षक अभ्यर्थी विरोध कर रहे हैं। आज प्रदेशभर से आए अभ्यर्थियों ने राजधानी लखनऊ में निशातगंज स्थित शिक्षा निदेशालय पर प्रदर्शन किया। प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। शिक्षकों को भर्ती किए जाने की मांग की। अभ्यर्थियों ने अपनी मांगों को लेकर विरोध जताया और शिक्षक भर्ती घोटाले की न्यायिक जांच की मांग की। अभ्यर्थियों ने शिक्षण एकता जिंदाबाद के नारे लगाए। इस बीच भारी संख्या में विरोध जता रहे अभ्यर्थियों से पुलिस की झड़प हुई। पुलिस ने कई अभ्यर्थियों को शांतिभंग में हिरासत में लिया। कईयों को गिरफ्तार भी किया।

मामला झांसी का पत्र जारी कर दिया एलडीए को

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। यूपी पुलिस के विजिलेंस विभाग की एक बड़ी चूक सामने आई है। मामला झांसी विकास प्राधिकरण से जुड़ा है जबकि अपर पुलिस अधीक्षक सतर्कता अधिष्ठïान झांसी ने पत्र एलडीए को जारी कर दिया है। दरअसल दानेश कुमार सेना में तैनात हैं। डडियापुरा झांसी के रहने वाले हैं। उन्होंने 2013 में खेरापति बिल्डकॉन से 43 लाख में एक मकान खरीदा था। दानेश का आरोप है कि बिल्डर पर जमीन की खरीद फरोख्त करने के साथ ही पुलिस और प्रशासन से मिलकर करोड़ों का भ्रष्टïाचार किया गया। मामले में जब शासन सहित विजिलेंस को चि_ी लिखी लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई।

आईपीएस मणिलाल की गिरफ्तारी की मांग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर ने निलंबित पूर्व एसपी महोबा मणिलाल पाटीदार तथा अन्य आरोपित पुलिस अफसरों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है। सीएम योगी आदित्यनाथ को भेजे पत्र में नूतन ने कहा कि एसआईटी जांच से स्पष्ट है कि इन्द्रकांत त्रिपाठी आरोपी पुलिस अफसरों द्वारा लगातार उत्पीडऩ तथा धन-उगाही के दवाब से मानसिक परेशान थे। इसी वजह से आत्महत्या की थी। नूतन ने कहा कि एसआईटी द्वारा सामने लाए गए तथ्य धारा 306 आईपीसी में आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने का अपराध हैं, जिसके लिए 10 वर्ष तक की सजा है।

https://www.youtube.com/watch?v=nEjeYMY3swE

Next Story
Share it