Top

कोरोना काल में आतंकी घुसपैठ के मायने

कोरोना काल में आतंकी घुसपैठ के मायने

sanjay sharma

सवाल यह है कि क्या भारत और चीन के बीच तनाव का फायदा उठाकर पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में बड़ा आतंकी हमला कराने की फिराक में हैं? क्या जम्मू-कश्मीर में इन आतंकियों को फिर से मदद मिलने लगी है? क्या आतंकियों के जरिए सेना में कोरोना फैलाने की साजिश रची जा रही है? आखिर घाटी में कौन लोग इन आतंकियों की मदद कर रहे हैं?

एक ओर पूरी दुनिया कोरोना की चपेट में है वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ कराने में जुटा है। हालांकि घुसपैठ की कोशिश में कई आतंकी मारे जा चुके हैं इसके बावजूद पाकिस्तानी सेना अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रही है। सवाल यह है कि क्या भारत और चीन के बीच तनाव का फायदा उठाकर पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में बड़ा आतंकी हमला कराने की फिराक में हैं? क्या जम्मू-कश्मीर में इन आतंकियों को फिर से मदद मिलने लगी है? क्या आतंकियों के जरिए सेना में कोरोना फैलाने की साजिश रची जा रही है? आखिर घाटी में कौन लोग इन आतंकियों की मदद कर रहे हैं? क्या घरेलू मोर्चे पर नाकाम हो चुकी पाकिस्तानी सरकार जनता का ध्यान भटकाने के लिए भारत के खिलाफ उकसावे की कार्रवाई कर रहा है? क्या सेना और खुफिया तंत्र को और भी सतर्क रहने की जरूरत है? क्या चीन के इशारे पर पाकिस्तानी सेना सीमा पर लगातार गोलीबारी कर रही है?
भारत और पाकिस्तान के संबंध कभी भी अच्छे नहीं रहे हैं। इसके असली वजह खुद पाकिस्तान है। उसकी नजर कश्मीर पर गड़ी है और वह यहां अलगाववाद को हवा देने के साथ आतंकी गतिविधियों को संचालित करता रहा है। धारा 370 के खत्म होने के बाद पाकिस्तान पूरी तरह बौखला गया है। इस मामले में उसे वैश्विक शक्तियों का समर्थन भी नहीं मिला है। लिहाजा वह कोरोना काल और चीन-भारत की तनातनी का फायदा उठाना चाह रहा है। वह जम्मू-कश्मीर में बड़ी आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की कोशिश कर रहा है ताकि वह दुनिया का ध्यान कश्मीर की ओर कर सके। इमरान सरकार कोरोना और महंगाई से निपटने में पूरी तरह नाकाम रही है। लिहाजा वह अपनी जनता का ध्यान भटकाने के लिए भारत को उकसाने की कार्रवाई कर रहा है। संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रहा है। पाकिस्तानी सेना सीमावर्ती गांव के लोगों को भी निशाना बना रही है। वह चीन के इशारे पर भारत में आतंकी गतिविधियों को बढ़ा रहा है ताकि भारत दो मोर्चों पर एक साथ उलझ जाए। यही वजह है कि सीमा पार से तीन सौ से अधिक आतंकी घुसपैठ की फिराक में हैं। पाकिस्तान की मंशा भारतीय सेना और जम्मू-कश्मीर में कोरोना फैलाने की भी है। पिछले दिनों मारे गए दो आतंकियों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली थी। इसमें दो राय नहीं कि घाटी के कुछ इलाकों में आतंकियों के स्लीपर सेल सक्रिय हो गए हैं। इसमें स्थानीय लोग शामिल हैं जो आतंकियों को मदद पहुंचा रहे हैं। जाहिर है यदि सरकार और सेना आतंकियों का सफाया करना चाहती है तो उसे सबसे पहले घर में बैठे दुश्मनों को समाप्त करना होगा।

https://www.youtube.com/watch?v=WUg4SyKHCWQ

Next Story
Share it