Top

केंद्र की तर्ज पर अपने कर्मचारियों को एडवांस देगी योगी सरकार

केंद्र की तर्ज पर अपने कर्मचारियों को एडवांस देगी योगी सरकार

बोनस मिलने के भी संकेत, 16 लाख कर्मियों को मिलेगा फायदा
कर्मचारी इस रकम को 10 किस्तों में लौटा सकेंगे

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने भी राज्य कर्मचारियों को त्योहारी एडवांस देने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वित्त विभाग को निर्देश दिया कि वह केंद्र की तर्ज पर राज्य कर्मचारियों को त्योहारी एडवांस देने की कार्ययोजना तैयार करे। सीएम योगी के निर्देश के बाद वित्त विभाग इसके गुणा-भाग में लग गया है। प्रदेश में 16 लाख राज्य कर्मचारी, शिक्षक व शिक्षणेत्तर कर्मचारी हैं।
कोरोना आपदा से खजाने की सेहत प्रभावित होने के बावजूद उत्तर प्रदेश सरकार त्योहार के इस सीजन में बोनस की आस लगाए बैठे कर्मचारियों को मायूस नहीं करेगी। इसके संकेत वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने दिए। दीपावली पर राज्य कर्मचारियों को दिए जाने वाले बोनस पर वित्त मंत्री ने कहा कि यदि कोई चीज परंपरागत तरीके से चली आ रही है तो उसमें सरकार कटौती नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि कोरोना आपदा और लॉकडाउन के कारण इस वित्तीय वर्ष के शुरुआती चार महीनों में राजस्व वसूली को झटका लगा था, लेकिन अगस्त और सितंबर में राजस्व वसूली पिछले वर्ष के इन दो माह की तुलना में बढ़ी है। ऐसे में कर्मचारियों को बोनस मिलने की पूरी संभावना है। गौरतलब है कि कोरोना आपदा से लडख़ड़ायी अर्थव्यवस्था में मांग बढ़ाकर आर्थिक गतिविधियों में तेजी लाने के उद्देश्य से केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केंद्रीय कर्मचारियों को 10 हजार रुपए फेस्टिवल एडवांस दिए जाने की घोषणा की थी। इसके तहत कर्मचारी को ब्याज मुक्त 10 हजार रुपए मिलेंगे। यह रकम प्रीपेड रूपे कार्ड के रूप में मिलेगी, जिसे 31 मार्च 2021 तक खर्च करना होगा। कर्मचारी इस रकम को बाद में 10 किस्तों में लौटा सकेंगे। इधर, उत्तर प्रदेश सचिवालय संघ के अध्यक्ष यादवेंद्र मिश्रा ने सरकार से मांग की है कि बाजार में तरलता बढ़ाने के लिए इस बार कर्मचारियों को बोनस की पूरी राशि का नकद भुगतान किया जाए।

1600 करोड़ का आएगा व्ययभार

यूपी में तकरीबन 8.5 लाख राज्य कर्मचारी, 5.5 लाख शिक्षक, एक लाख शिक्षणेत्तर कर्मचारी और एक लाख स्थानीय निकायों के कर्मचारी हैं। इनकी संख्या लगभग 16 लाख है। यदि राज्य सरकार अपने सभी कर्मचारियों व शिक्षकों को केंद्र की तर्ज पर 10 हजार रुपए त्योहारी एडवांस देती है तो इस पर लगभग 1600 करोड़ रुपए का व्ययभार आएगा। सीएम योगी के निर्देश के बाद वित्त विभाग में इसे लेकर मंथन शुरू हो गया है।

30 दिनों के वेतन के बराबर मिलता है बोनस

यूपी सरकार दीपावली पर सूबे के 15 लाख अराजपत्रित राज्य कर्मचारियों, शिक्षकों और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को बोनस देती है। कर्मचारियों को पिछले वित्तीय वर्ष के 30 दिनों के वेतन के बराबर बोनस दिया जाता है। बोनस का लाभ 4800 रुपये तक ग्रेड वेतन पाने वाले सभी पूर्णकालिक अराजपत्रित कर्मचारियों, राजकीय विभागों के कार्य प्रभारित कर्मचारियों, सहायताप्राप्त शिक्षण व प्राविधिक शिक्षण संस्थाओं, स्थानीय निकायों और जिला पंचायतों के कर्मचारियों को दिया जाता रहा है।

राज्य सभा में और बढ़ेगी यूपी बीजेपी की हिस्सेदारी

भाजपा के खाते में नौ सीटें जाने की उम्मीद

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तरप्रदेश में राज्यसभा की दस सीटों पर होने वाले चुनाव में बीजेपी का पलड़ा भारी रहना तय है। विधायकों की संख्या और विपक्ष के बिखराव के चलते भाजपा के खाते में नौ सीटें जाने की पूरी उम्मीद है। विपक्ष में केवल समाजवादी पार्टी का खाता ही खुल पाएगा यानी उसको भी तीन सीटों का नुकसान उठाना पड़ेगा। समाजवादी पार्टी से सिर्फ रामगोपाल यादव ही फिर से राज्यसभा पहुंच सकेंगे।
बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस को खाली हाथ रहना पड़ सकता है। विधायकों के वोट के आधार पर होने वाले इस चुनाव में संख्या बल की दृष्टि से भारतीय जनता पार्टी अपने सहयोगी दल व निर्दलियों का समर्थन मिलने के कारण विपक्ष पर बहुत भारी है। कुल 403 विधायकों वाली उत्तर प्रदेश विधानसभा में आठ सीटें रिक्त हैं और सात पर उपचुनाव हो रहा है। राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान होने तक तक विधानसभा उपचुनावों का परिणाम नहीं आ सकेगा, इसलिए हर सदस्य को जीत के लिए लगभग 37 वोट चाहिए। वर्तमान में भाजपा के पास 305 विधायक हैं और अपना दल के नौ व तीन निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन मिल रहा है। वहीं विपक्षी दलों में से समाजवादी पार्टी के पास 48, बहुजन समाज पार्टी के 18, कांग्रेस के सात और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के चार विधायक हैं। ऐसे में विपक्ष केवल कोई साझा उम्मीदवार उतारकर ही चुनाव लडऩे की स्थिति में आ सकता है, जो मौजूदा परिस्थितियों में असंभव दिखता है। भाजपा को विपक्षी दलों में बगावत का लाभ भी मिलता दिख रहा है। कांग्रेस के सात में से दो विधायक तथा बहुजन समाज पार्टी के भी 18 में से दो विधायक निलंबित चल रहे हैं। इसी तरह समाजवादी पार्टी में शिवपाल व नितिन अग्रवाल की मौजूदगी भी केवल कागजों में है।

…तो भाजपा के होंगे 26 राज्यसभा सदस्य

राज्यसभा में उत्तर प्रदेश से 31 सदस्य चुने जाते हैं। वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के 17, समाजवादी पार्टी के आठ, बहुजन समाज पार्टी के चार और कांग्रेस के दो सदस्य हैं। चुनाव के बाद राज्यसभा में उत्तर प्रदेश भारतीय समाज पार्टी की हिस्सेदारी बढक़र 26 सदस्य होने की उम्मीद है, जबकि अन्य दलों को नुकसान उठाना पड़ेगा। उलटफेर नहीं हुआ तो सपा के पांच, बसपा के दो और कांग्रेस का एक सदस्य ही उत्तर प्रदेश से राज्यसभा में रह जाएगा।

https://www.youtube.com/watch?v=9E9M2dLsNvQ

Next Story
Share it