Top

कानपुर अपहरण केस: बर्रा थाना प्रभारी रणजीत राय लाइन हाजिर

कानपुर अपहरण केस: बर्रा थाना प्रभारी रणजीत राय लाइन हाजिर

24 दिन में भी नहीं लगा सके अपहरणकर्ताओं का पता
पुलिस के सामने से फिरौती की रकम लेकर फरार हो गए थे बदमाश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
कानपुर। प्रदेश के कानपुर में पिछले 24 दिनों से एक युवक के अपहरण की गुत्थी सुलझ नहीं सकी है। अपहरण मामले में थाना प्रभारी, बर्रा पर गाज गिरी है। थाना प्रभारी रणजीत राय को एसएसपी ने लाइन हाजिर कर दिया है। वहीं उनकी जगह हरमीत सिंह को बर्रा थाने का प्रभारी निरीक्षक बनाया गया है।
इस घटना के संबंध में कई ऑडियो वायरल हुए हैं, जिसमें पता चलता है कि अपहरणकर्ता लगातार युवक के परिजनों से लंबी बातचीत करता रहा लेकिन सर्विलांस सेल उसे ट्रेस नहीं कर सकी। दरअसल, कानपुर के बर्रा 5 के रहने वाले चमन यादव का बेटा संजीत लैब टेक्नीशियन है जो 22 जून को बाइक समेत लापता हो गया था। पीडि़त परिवार ने बर्रा थाने में घटना की जानकारी दी लेकिन पुलिस उसे नहीं तलाश पाई। तीन दिन बाद संजीत के पिता के मोबाइल पर बदमाशों ने फोन करके संजीत को छोडऩे के लिए 30 लाख की फिरौती मांगी। जिसके बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की।
परिजनों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने बदमाशों को पकडऩे के लिए प्लान बनाया और परिवार से कहा कि 30 लाख रुपये का इंतजाम कीजिए। पुलिस का प्लान था कि जब बदमाश फिरौती की रकम लेने आएंगे तब उन्हें दबोच लिया जाएगा। बदमाशों ने गुजैनी फ्लाईओवर पर फिरौती की रकम मंगवाई थी। फ्लाईओवर के आसपास सादे कपड़ों में पुलिस तैनात हो गई थी, लेकिन शायद बदमाशों को पुलिस के प्लान की भनक लग गई थी, लिहाजा ऐन वक्त पर बदमाशों ने प्लान बदला और फिरौती की रकम का बैग फ्लाईओवर के नीचे फेंकने को कहा। बदमाशों की धमकी के चलते परिवार ने फिरौती की रकम फ्लाईओवर के नीचे फेंकी। इसके बाद पुलिस जब तक दौड़ कर उनको पकड़ती, बदमाश बैग लेकर चंपत हो गए।

पचास हजार का इनामी दीपक सिद्धू ढेर

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
मेरठ। पुलिस व बदमाशों की सीधी मुठभेड़ में पचास हजार का इनामी दीपक सिद्धू ढेर हो गया जबकि उसका साथी अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गया। हालांकि कांबिग के बाद दूसरे बदमाश को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दीपक सरधना के अंकुर भारद्वाज हत्याकांड में फरार चल रहा था। मारे गए गैंगस्टर बदमाश पर दर्जनों हत्या व लूट के मुकदमे पहले से दर्ज थे।
रोहटा थाना प्रभारी उपेंद्र सिंह ने बताया कि बुधवार की देर शाम सरूरपुर-लाहौर गढ़ रजवाहे के पटरी पर सरूरपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत रासना के पास बाइक सवार दो बदमाश कुछ राहगीरों से लूटपाट कर रहे थे। सूचना पाकर सरूरपुर,सरधना व रोहटा पुलिस बदमाशों की तलाश में लग गई। इसी दौरान देर रात लगभग लाहौरगढ रजवाहे की पटरी पर पुलिया के पास बदमाश सरूरपुर की ओर से आते हुए दिखाई दिये। जिन्हे पुलिस ने रुकने का इशारा किया। इस पर बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी और खेतों में घुस गए। मुठभेड़ में एक बदमाश की मौके पर मौत हो गई जबकि दूसरा अंधेरे का फायदा उठाकर मौके से भागने में कामयाब रहा। हालांकि बाद में सूचना पाकर मौके पर पहुंचे सीओ सरधना जितेंद्र सरगम व सरूरपुर,जानी व रोहटा थानों की पुलिस ने बदमाश को कांबिंग के बाद तलाश लिया। सीओ ने बताया कि मुठभेड़ में मारा गया बदमाश दीपक थाना सरधना के गांव का छबडिय़ा का रहने वाला था और उस पर पचास हजार रूपये का इनाम था। पकड़े गए बदमाश से पुलिस पूछताछ कर रही है।

https://www.youtube.com/watch?v=L5UBL-Y72Tk

Next Story
Share it