Top

अलकायदा आतंकियों की मौजूदगी के मायने

अलकायदा आतंकियों की मौजूदगी के मायने

sanjay sharma

सवाल यह है कि चीन से बढ़ते तनाव के बीच आतंकी तेजी से क्यों सक्रिय हो गए हैं? क्या चीन, पाकिस्तान के जरिए भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की साजिश रच रहा है? क्या चीन आतंकियों के जरिए भारत के खिलाफ दो मोर्चा खोलने की तैयारी कर रहा है? बंगाल और केरल में अलकायदा के आतंकियों का पकड़ा जाना किस ओर इशारा कर रहा है?

राष्टï्रीय जांच एजेंसी ने बंगाल और केरल से अलकायदा के नौ आतंकियों को गिरफ्तार किया है। ये सभी न केवल सोशल मीडिया के जरिए अपने पाकिस्तानी आकाओं के संपर्क में थे बल्कि देश के कई शहरों में एक साथ हमला करने की फिराक में भी थे। इसके कुछ दिन पहले सेना ने जम्मू-कश्मीर से पचास किलोग्राम विस्फोटक बरामद किया था। सवाल यह है कि चीन से बढ़ते तनाव के बीच आतंकी तेजी से क्यों सक्रिय हो गए हैं? क्या चीन, पाकिस्तान के जरिए भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की साजिश रच रहा है? क्या चीन आतंकियों के जरिए भारत के खिलाफ दो मोर्चा खोलने की तैयारी कर रहा है? बंगाल और केरल में अलकायदा के आतंकियों का पकड़ा जाना किस ओर इशारा कर रहा है? बंगाल और केरल में आतंकियों को धन और हथियार कौन मुहैया करा रहा है? क्या कश्मीर के बाद अब ये दोनों राज्य आतंकियों के नए ठिकाने बनने लगे हैं? अलकायदा के माड्यूल का पर्दाफाश होना क्या किसी बड़े साजिश की ओर इशारा कर रही है?
भारत के कई राज्यों में अचानक बढ़ी आतंकियों की सक्रियता से साफ है कि इसके पीछे चीन की साजिश है। वह अपने पिछलग्गू पाकिस्तान से मिलकर भारत के खिलाफ आतंकियों का इस्तेमाल कर रहा है। वह न केवल भारतीय सेना की गतिविधियों की विभिन्न माध्यमों से जासूसी करा रहा है बल्कि देश के अंदर आतंकी हमलों के जरिए हिंसा भी फैलाना चाहता है। चीन को पता है कि यदि पाकिस्तानी आतंकियों के जरिए उसने हिंसा फैलायी तो भारत इसका जवाब जरूर देगा। पाकिस्तान में बैठे आतंकियों के खिलाफ भारत सर्जिकल या एयर स्ट्राइक कर सकता है। ऐसी स्थिति में पाकिस्तान को भारत के खिलाफ जंग छेडऩे में आसानी होगी। इससे भारत को दो मोर्चों पर लडऩा पड़ेगा। वहीं चीन एलएसी पर भारतीय सेना की मजबूत स्थिति से घबरा गया है। भारतीय सैनिकों का दवाब कम करने के लिए वह आतंकियों और पाकिस्तान का सहारा ले रहा है। दूसरी ओर पाकिस्तान भारतीय सेना की मुस्तैदी के कारण जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ नहीं करा पाने से परेशान है और सोशल मीडिया के जरिए स्थानीय युवकों को बरगलाकर आतंकी बनाने में जुटा है। बंगाल और केरल में अलकायदा के आतंकियों के पकड़े जाने से साफ है कि यह सबकुछ एक दो महीने में नहीं हुआ है। आतंकियों ने पूरी रणनीति बनाकर इन राज्यों का चयन किया है और वे यहां के लोगों में आतंकवाद का जहर घोल रहे हैं। सरकार को चीन और पाकिस्तान की इस चाल को न केवल नाकाम करना होगा बल्कि देश में तेजी से फैल रहे आतंकवाद को जड़ से मिटाना होगा।

https://www.youtube.com/watch?v=umeI8x-hUFw

Next Story
Share it