Top

अमेठी में दलित प्रधानपति को जिंदा जलाया, गांव पुलिस छावनी में तब्दील

अमेठी में दलित प्रधानपति को जिंदा जलाया, गांव पुलिस छावनी में तब्दील

गुंडों ने पहले पीटा फिर लगायी आग, इलाज के दौरान मौत
देर रात घर नहीं लौटने पर परिजनों ने पुलिस को दी थी जानकारी
चुनावी रंजिश को बताया जा रहा कारण, गांव में तनाव

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश में अपराध थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। अमेठी में दलित प्रधान के पति को गुंडों ने पहले पीटा फिर उसको जिंदा जला दिया। इलाज के दौरान प्रधानपति की मौत हो गई। इस मामले में पांच के खिलाफ केस दर्ज किया गया है, जिसमें तीन को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि दो फरार हैं। वहीं तनाव को देखते हुए गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। चुनावी रंजिश को कारण बताया जा रहा है।
गुरुवार देर रात बंदोईया गांव के एक घर की चारदीवारी के अंदर किसी के कराहने की आवाज आ रही थी। घर के लोगों ने जब देखा तो उसके पांव के नीचे से जमीन खिसक गई। एक व्यक्ति चारदीवारी के अंदर जिंदा जल रहा था। लोगों के इसकी सूचना तत्काल मुशीगंज पुलिस को दी। ग्रामीणों व घर के लोगों ने इसकी पहचान ग्राम प्रधान के पति बंदोईया अर्जुन के रूप में की। सीएचसी में प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें जिला अस्पताल सुल्तानपुर ले जाया गया। हालत बिगडऩे पर लखनऊ रेफर कर दिया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। आज सुबह प्रधानपति का शव गांव पहुंचा। ग्रामप्रधान पति अर्जुन (50 वर्ष) के परिवार में पत्नी छोटका (ग्राम प्रधान बंदोईया), तीन बेटे सुरेंद्र, गोविंद, रविन्द्र और दो बेटियां पुनीता व बैजंती हैं। परिजनों ने बताया कि गुरुवार शाम किसी काम से अर्जुन मुसवापुर चौराहा गए थे जब वे देर रात तक नहीं लौटे तो इसकी सूचना मुंशीगंज पुलिस को दी गई। इसी दौरान उन्हें सूचना मिली कि बंदोईया गांव के ही एक घर की चारदीवारी के अंदर अर्जुन जल रहे हैं। पुलिस व फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंची। प्रधान पक्ष ने कुछ लोगों पर जिंदा जलाकर मारने का आरोप लगाया है।

शाहजहांपुर में मासूम से दरिंदगी

शाहजहांपुर के खुदागंज थाना क्षेत्र के एक गांव में सात वर्ष की बच्ची से दुष्कर्म के बाद निर्भया जैसी हैवानियत को अंजाम दिया गया। यहां पर एक नाबालिग लडक़े ने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद मासूम के मदद को चीखने पर मुंह में गन्ने की पत्तियां ठूंस दी। इतना ही नहीं उसने गन्ने से वार कर बच्ची के प्राइवेट पार्ट को भी काफी नुकसान पहुंचाया। गांव के ही 15 वर्ष किशोर ने मासूम को बहाने से गन्ने के खेत में ले जाकर दुष्कर्म किया। ग्रामीणों का कहना है कि बेसुध बच्ची खेत से बाहर निकल रही थी, तभी उस पर निगाह पड़ी। आरोपित ने उसके प्राइवेट पार्ट पर गन्ने से वार कर चोट पहुंचाई। उसकी हालत देख तुरंत स्वजन को बुलाया गया। बच्ची का मेडिकल कराया गया। जिसमें दुष्कर्म व प्राइवेट पार्ट को चोट पहुंचाने की पुष्टि हुई है। एसपी शाहजहांपुर, एस आनंद ने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पूरे प्रकरण की जांच एएसपी ग्रामीण करेंगी।

आदित्यनाथ जी के राज में मिशन शक्ति चलाया जा रहा है। निर्भया जैसी हैवानियत, दिव्यांग से दुष्कर्म, दो लड़कियों के शव बोरे में मिले, आप इन खबरों को पढक़र भयभीत हो सकते हैं आपकी रूह कांप जायेगी लेकिन आदित्यनाथ जी चिंतामुक्त होकर बिहार प्रचार में जुटे हैं।
संजय सिंह, आप सांसद

घटना अमानवीय है। गुंडों के खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी।
स्मृति ईरानी
केंद्रीय मंत्री

पांच नामजद

डीएम अरुण कुमार ने बताया कि प्रधानपति मामले में पांच लोगों को नामजद किया गया है। तीन गिरफ्तार किए गए हैं जबकि दो की तलाश हो रही है।

अब सहारनपुर में पटाखा फैक्ट्री में आग, छह मजदूर झुलसे

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
सहारनपुर। मेरठ के सरधना के बाद आज सहारनपुर के थाना बिहारीगढ़ क्षेत्र के ग्राम सतपुरा में स्थित एक पटाखा फैक्ट्री में अचानक आग लग गई। उस समय वहां कई मजदूर काम कर रहे थे। आग लगते ही पटाखे फटने लगे और वहां भगदड़ मच गई। छह मजदूर पटाखे फटने के कारण आग की चपेट में आकर बुरी तरह झुलस गए। दो की हालत गंभीर बताई जा रही है।
सूचना मिलते ही थाना पुलिस के साथ ही एसडीएम व सीओ भी मौके पर पहुंच गए। दमकल की दो गाडिय़ां मौके पर पहुंच कर आग पर काबू पाने में जुट गई। काफी देर तक फैक्ट्री में पटाखे फटने की आवाज आती रही। घायलों में मांगी व पूनम नाम की महिला मजदूर की हालत चिंताजनक बताई जा रही थी। सभी घायत मजदूरों को जिला अस्पताल के लिए रवाना कर दिया गया था। यह फैक्ट्री देहरादून निवासी अमित कुमार की है। प्रशासन का कहना है कि इसके पास निर्माण एवं भंडारण का लाइसेंस है।

डीआईजी अनिल कुमार सहित चार के खिलाफ एफआईआर

  • महानगर थाने में धोखाधड़ी और धमकी देने संबंधित धाराओं में दर्ज किया गया मुकदमा

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। पुलिस वायरलेस विभाग के डीआईजी अनिल कुमार, उनकी पत्नी पुष्पा अनिल, चंद्रपाल सिंह तथा दरोगा बृजेश कुमार सिंह पर थाना महानगर लखनऊ में धोखाधड़ी और धमकी देने समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।
कल्याणपुर, गुडंबा निवासी व्यवसायी रमेश कुमार गुप्ता ने एफआईआर में आरोप लगाया है कि अनिल कुमार और उनकी पत्नी ने इंदिरा दर्शन रेजीडेंसी, महानगर स्थित अपना फ्लैट उनको 60 लाख में बेचने का वादा किया था। उन्होंने इसके लिए पांच लाख एडवांस देने को कहा और शेष धनराशि किश्तों में देने की बात कही। एफआईआर के अनुसार रमेश कुमार गुप्ता ने तत्काल एडवांस दे दिया, जिसके बाद अनिल कुमार ने उन्हें फ्लैट का कब्जा दिया। उन्होंने उस पर रंगाई-पुताई शुरू करा दी। इसके बाद अनिल अपने वादे से पलट गए और उन्होंने बेईमानी के इरादे से उन्हें उनको जबरदस्ती फ्लैट से बेदखल कर दिया। इस दौरान रमेश गुप्ता, अनिल कुमार को 6,40,000 दे चुके थे तथा उनका रंगाई-पुताई पर 62,000 खर्च हो चुका था। जब रमेश कुमार गुप्ता ने अपना पैसा वापस मांगा तो अनिल कुमार ने अपने स्टाफ के माध्यम से उन्हें धमकी दी और अपनी पत्नी द्वारा उनके खिलाफ छेड़छाड़ का फर्जी मुकदमा भी महिला थाना, हजरतगंज में लिखवा दिया। रमेश कुमार गुप्ता ने कहा कि वे पिछले एक साल से एफआईआर के लिए दौड़ रहे थे किन्तु किसी भी स्तर पर उनकी सुनवाई नहीं हो रही थी। बाध्य हो कर उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट की शरण ली तथा हाईकोर्ट द्वारा डीजीपी को नोटिस जारी करने के बाद ही उनका मुकदमा दर्ज हो सका है। उनके इस न्याय की लड़ाई में आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर तथा उनकी पत्नी नूतन ठाकुर का भी सहयोग रहा।

https://www.youtube.com/watch?v=DWlE3pjdvOs

Next Story
Share it