Top

अपराधियों के आगे भाजपा सरकार नतमस्तक: अखिलेश

अपराधियों के आगे भाजपा सरकार नतमस्तक: अखिलेश

प्रदेश में भय और आतंक का माहौल, कानून व्यवस्था बेलगाम
किसानों को नहीं मिल रहा उचित मुआवजा बेरोजगारी बढ़ी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश में अपराधी रोज एक नया अध्याय गढ़ रहे हैं। तमाम वारदातों का पुलिंदा लेकर भाजपा सरकार मौन बैठी हुई है। कानून व्यवस्था बेलगाम है। चारों तरफ भय और आतंक है। मुख्यमंत्री के सभी दावे झूठे साबित हुए हैं। अपराधियों के बुलन्द हौसलों के आगे सरकार नतमस्तक है। आखिर कब रूकेगा उत्तर प्रदेश में खूनी खेल? प्रदेश में महिला अपराधों पर क्यों चुप्पी साधे बैठे है मुख्यमंत्री जी?
उन्होंने कहा कि भाजपा राज में रोज वही कहानी दुहराई जाती है। हत्या, बलात्कार, लूट की खबरों के साथ दिन की शुरूआत, शाम तक और ज्यादा गहराती अपराध की घटनाएं। राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो की 2019 की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में अनुसूचित जाति और जनजाति उत्पीडऩ संबंधी कुल मामलों में 12 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। उत्तर प्रदेश में महिलाओं के विरूद्ध अपराध के सर्वाधिक 59,853 मामले दर्ज हुए जिसमें 18 वर्ष से कम आयु की बच्चियों के साथ दुष्कर्म की प्रदेश में 272 घटनाएं पुलिस रिकार्ड का हिस्सा बनीं। 2019 में बलात्कार के 3,065 मामले दर्ज हुए। भाजपा राज में भाजपाई नेता भी असुरक्षित है। गाजियाबाद के मुरादनगर क्षेत्र से भाजपा विधायक के मामा की निर्ममता से हत्या कर दी गईं। आजमगढ़ में बीडीएस सदस्य को गोलीमारी गई। दुष्कर्म की घटनाओं को भाजपा राज में अपेक्षित गंभीरता के साथ नहीं लिया जाता है। फतेहपुर के गाजीपुर थाना क्षेत्र में किशोरी से बलात्कार हुआ।
उन्होंने कहा कि अयोध्या में एयरपोर्ट के लिए गरीबों-किसानों की भूमि के अनुचित मुआवजे के अन्याय के खिलाफ, परिवारवालों का अपने परिवार के भविष्य की चिंता को लेकर महिलाओं के नेतृत्व में कटोरा-चम्मच लेकर विरोध प्रदर्शन दुर्भाग्यपूर्ण है। भाजपा सरकार को पुण्य के कार्य में तो ईमानदारी बरतनी चाहिए। नौजवानों को रोजगार नहीं मिल रहा है।

रिटायर्ड फौजी की पत्नी को जिंदा जलाने वाले दंपति गिरफ्तार

तनाव को देखते हुए पुलिस फोर्स तैनात

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
आगरा। ताजगंज के नगला कली स्थित पुष्पांजलि ईको सिटी कालोनी में सेवानिवृत फौजी की पत्नी 38 वर्षीय संगीता को एससी एसटी एक्ट का मुकदमा खत्म कराने को हुई पंचायत के बाद जिंदा जलाया गया था। फौजी की तहरीर पर मंगलवार को ताजगंज थाने में पड़ोसी दंपति व उनके रिश्तेदारों के खिलाफ हत्या, चौथ मांगने, बलवा व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया। इसमें दो अन्य नामजद व 12 अज्ञात शामिल हैं। आरोपी दंपती को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। तनाव को देखते हुए कालोनी में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है।
पुष्पांजलि ईको सिटी कॉलोनी निवासी अनिल कुमार सेना से सेवानिवृत्त होने के बाद टोरंट कंपनी में कार्यरत हैं। छह दिन पहले उनके बेटे आयुष का पड़ोसी भरत खरे के बेटे बिट्टू से झगड़ा हो गया था। इस मामले में विवाद के बाद भरत खरे ने सात अक्टूबर को ताजगंज थाने में अनिल और संगीता के खिलाफ मारपीट और एससी-एसटी एक्ट में मुकदमा दर्ज करा दिया। एकता चौकी पुलिस ने 2 दिन पहले अनिल और उसकी पत्नी संगीता को चौकी पर बुलाया था। बाद में पुलिस ने अनिल को छोड़ दिया था। अनिल ने बताया गया कि पंचायत में उन्हें बेइज्जत किया गया। समझौते के एवज में 10 लाख की मांग की गई। पत्नी संगीता से पैर छूकर माफी मांगने को कहा गया। पत्नी घर चली गई थी। तभी भरत खरे, उसकी पत्नी सुनीता, दीपक और सोनू सहित 10-12 लोग उसके पीछे चले गए। उन्होंने पकड़ कर संगीता पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी। संगीता को अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसकी मौत हो गई।

https://www.youtube.com/watch?v=kFM-slVlE_M

Next Story
Share it