MLC चुनाव में जमकर हुई क्रॉस वोटिंग, सभी दलों की बढ़ीं धडक़नें

  • कड़ी सुरक्षा के बीच विधान भवन में मतदान जारी
  • सुबह 9 बजे से चार बजे तक होगा मतदान, नतीजों की घोषणा होगी कल
  • सपा के आठ, बसपा के तीन, भाजपा के दो और कांग्रेस का एक प्रत्याशी है मैदान में

10 JUNE PAGE1REV14पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानपरिषद की रिक्त हो रही 13 सीटों के लिए आज विधान भवन के तिलक हॉल में मतदान सुबह 9 बजे से शुरू हो गया। मतदान शुरु होने के बाद क्रॉस वोटिंग को लेकर विधान भवन में चर्चा जोरो पर रही। सपा के बागी विधायक गुड्डू पंडित और मुकेश शर्मा ने भाजपा को और बसपा के निष्कासित विधायक राजेश त्रिपाठी ने सपा के पक्ष में वोटिंग की। इतना ही नहीं द्वितीय वरीयता के वोट में ज्यादातर क्रॉस वोट पड़े। क्रॉस वोटिंग से जहां भाजपा खेमे में उत्साह का माहौल था तो वहीं इससे सपा को बहुत ज्यादा नुकसान होने की आशंका है।
एमएलसी के 13 सीटों के लिए 14 प्रत्याशी मैदान में हैं। मतदान के मद्देनजर विधान भवन के आसपास पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की गई है। आज सुबह विधान भवन का नजारा बदला हुआ था। पूरे सूबे के विधायक, नेता मौजूद थे। हर तरफ क्रॉस वोटिंग की सुगबुगाहट थी। सूबे में पिछले दो दिनों से जोड़-तोड़ की राजनीति चल रही थी। आज विधान भवन में भी ऐसा ही नजारा देखने को मिला। सपा के कई विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की।

सपा विधायकों के क्रॉस वोटिंग से भाजपा खेमे में उत्साह का माहौल था। विधानपरिषद चुनाव में भाजपा की तरफ से एक अतिरिक्त प्रत्याशी दयाशंकर सिंह को मैदान में उतार दिए जाने की वजह से चुनाव कराया जा रहा है। राज्य विधानपरिषद चुनाव के लिए सपा ने आठ, बसपा ने तीन और भाजपा ने दो और कांग्रेस ने एक उम्मीदवार को मैदान में उतारा है। इसके लिए सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक मतदान प्रक्रिया जारी रहेगी। नतीजों का ऐलान कल होगा। विधान परिषद के लिए सपा से यशवंत सिंह बुक्कल नवाब, रामसुंदर दास निषाद, बलराम यादव, जगजीवन प्रसाद, शतरूद्र प्रकाश, कमलेश पाठक और रणविजय मैदान में हैं। जबकि बसपा के अतर सिंह राव, दिनेश चन्द्र और सुरेश कश्यप प्रत्याशी हैं। भाजपा के भूपेन्द्र चौधरी और दयाशंकर सिंह तथा कांग्रेस के दीपक सिंह प्रत्याशी हैं। सपा को अपने सभी आठ उम्मीदवारों को विधान परिषद के चुनाव में जिताने के लिए 232 मतदाताओं की जरुरत है। जबकि सपा सदस्यों की संख्या 229 है। 

पीस पार्टी ने किया कांग्रेस का समर्थन
पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सदर अध्यक्ष डा. अयूब खान ने कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान किया। हालांकि कल तक सपा पीस पार्टी के चार विधायकों में से तीन के समर्थन की बात कह रही थी। सपा विधायक अनीसुर्रहमान व कमाल युसूफ मलिक को टिकट भी दे चुकी है। तीसरे विधायक अखिलेश सिंह ने बुधवार को समर्थन देने का ऐलान किया था। हालांकि डा. अय्यूब ने इससे इनकार किया था। समर्थन को लेकर पीस पार्टी में मची रार से पूर्व भी राज्यसभा की निर्दल प्रीती महापात्र का प्रस्तावक बनने के मुद्दे पर भी डा.अय्यूब की काफी किरकिरी हो चुकी है। लेकिन आज पीस पार्टी ने कांग्रेस को समर्थन का ऐलान कर दिया।

अपराधी विधायक गुड्डू पंडित भाजपा की शरण में

एमएलसी चुनाव में जिस क्रॉस वोटिंग का डर राजनीतिक दलों को था, वह डर आज हकीकत में बदल गया। सपा विधायक गुड्डू पंडित और मुकेश शर्मा ने क्रॉस वोटिंग किया। इन दोनों ने भाजपा के संगीत सोम के साथ वोट डाला। इन दोनों ने सपा पर उपेक्षा का आरोप लगाया और अपनी जान का भी खतरा बताया। बुलंदशहर के डिबाई विधानसभा सीट से एसपी एमएलए भगवान शर्मा उर्फ गुड्डू पंडित का रिकॉर्ड आपराधिक छवि वाला रहा है। नोएडा के एक तिराहे पर साईकिल पंचर की दुकान लगाने वाला गुड्डू पंडित साइकिल चोरी के मामले में जेल क्या गया उसकी किस्मत ही बदल गई। इस दौरान अमरमणि त्रिपाठी से मुलाकात होने के बाद वे उनके ड्राइवर बने और फिर मधुमिता हत्याकांड के चश्मदीद बनकर मधुमणि की आड़ में जमकर संपत्ति की। गुड्डू पंडित पर रेप, अपहरण, मारपीट और बलात्कार जैसे संगीन मामले दर्ज हैं। पीएचडी की छात्रा को धोखे में रखकर शादी करने और जबरन रेप का भी आरोप लग चुका है। हालांकि अदालत ने गुड्डू पंडित को बरी कर दिया है। इसके पहले मायावती के शासनकाल में भी उसके चर्चें थे। बसपा के विधायक बनते ही गुड्डू पंडित को एक्स श्रेणी की सुरक्षा बसपा सरकार ने दे दी और तीन माह बीतते ही सुरक्षा श्रेणी बढ़ाकर वाई-श्रेणी की सुरक्षा कर दी गई थी।

Pin It