MLA गजाला का बेटा हूं, मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता

  • विधायक के बेटे ने असलहों के दम पर करोड़ों की जमीन पर किया कब्जा
  • कन्हैया अवस्थी जिलाधिकारी कार्यालय के चक्कर पर चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
GB1लखनऊ। पड़ोस में चौकी, सरकारी लेखपाल और सैकड़ों लोगों के सामने विधायक का बेटा खुलेआम जमीन पर कब्जा करता है और सिस्टम तमाशा बनकर बस उसे देखता रह जाता है। माननीयों के मनमानेपन का यह पहला मामला नहीं है और न ही आखिरी इससे पहले भी जनप्रतिनिधियों ने जनता को अपने पैरों तले रौंदा है और आगे भी रौंदते रहेंगे लेकिन बड़ा सवाल यही है कि आखिर कब तक….
मामला कानपुर-उन्नाव के बीच स्थित जाजमऊ इलाके का हैं। यहां माननीय गजाला लारी का एक पेट्रोल पम्प है। उस पेट्रोल पम्प को देखते है उनके सुपुत्र मंजऱ लारी। पेट्रोल पम्प के पीछे लगभग आठ बीघा बेशकीमती जमीन है दिव्या अवस्थी की। इनके पति का नाम है कन्हैया अवस्थी और यह भी खुद को सपा का नेता मानते हैं। इनका काम लोगों की जमीन खरीद कर उसको बेचना है। मंजऱ लारी की निगाहें इस जमीन पर काफी समय से थी। उन्होंने जमीन पर खनन का कार्य भी करवाया। पिछले दिनों वह अपनी गाड़ी में असलहे भर कर पहुंच गये और जमीन पर बाउंड्री वॉल बनवाने लगे। यह बात जब कन्हैया अवस्थी को पता चली तो वह भी अपने दर्जनों साथियों के साथ मौके पर पहुंच गये। विधायक गजाला लारी के बेटे मंजिल लारी ने सभी के सामने कन्हैया अवस्थी को डांटा, गालियां दी और उस जमीन को अपना बताया। कन्हैया अवस्थी अपने साथ जमीन के कागजात भी लेकर गये थे पर उन कागजों को रददी की टोकरी में फेंक दिया गया। यह हाल तब हुआ जब नायब तहसीलदार रेणुका अवस्थी मौके पर थी।
क्या है स्थिति
स्थिति बिगड़ी तो आलाधिकारी भी अपने एयरकंडीशनर रूम छोडक़र मौके पर पहुंचे। हंगामे के बीच तय यह तय पाया गया कि जो जमीन के कागज दिखा देगा जमीन उसकी मानी जाएगी। कन्हैया अवस्थी ने अपने कागज दिखा दिये लेकिन गाजाला लारी की ओर से जमीन के कागज नहीं दिखाए गये। शुरू में तो प्रशासन ने न्याय की बात कही लेकिन धीरे-धीरे वह विधायक के अर्दब में आ गया और मौन धारण कर लिया। खबर लिखे जाने तक करोड़ों की जमीन पर विधायक के बेटे का कब्जा है लेकन उसने अभी तक जमीन के कागज नहीं दिखाए है। जमीन पर कब्जे की जंग जारी है। कन्हैया अवस्थी जिलाधिकारी कार्यालय के चक्कर पर चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिला है। सपा विधायक के बेटे की गुंडई के चर्चे आम जनता में खूब हो रहे हैं।
स्थिति पर हम नजर बनाए हुए हैं, कहीं कोई कब्जा नहीं हुआ है। जो जमीन के कागज दिखा देगा जमीन उसकी होगी। स्थिति नियंत्रण में है
नायब तहसीलदार, रेणूका अवस्थी
यह जमीन हमारी है और इससे पूर्व में भी विधायक के बेटे ने जमीन पर कब्जा करने की कोशिश की थी। एक बार फिर बुलडोजर लेकर जमीन को हथियाने का प्रयास किया जा रहा है।
कन्हैया अवस्थी, पीडि़त

मुसलमान बेहतर नहीं मानते मोदी को

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार का एक साल पूरा होने पर भले ही खुद की पीठ थपथपा रहे हों मगर देश की एक बड़ी आबादी अभी भी मायूस है क्योंकि उसके उत्थान के लिए सरकार ने कुछ नहीं किया। 4पीएम संवाददाता मुजाहिद जैदी ने जब लखनऊ में लगभग 100 चुनिंदा लोगों से बात की तो उसका भाव यही निकला। पेज 8 पर इन चुनिंदा मुस्लिमों के विचार आपके लिए हैं। हम इस बातचीत के सिलसिले को लगातार जारी रखेंगे और
देखेंगे कि देश की सरकार आपका कितना ध्यान रख रही है।

छपेंगे 10 करोड़ रिपोर्ट कार्ड

सरकार का यह रिपोर्ट कार्ड एक बुकलेट के रूप में सामने आएगा, जिसके कवर पेज पर ‘साल एक-शुरुआत अनेक’ वाला नारा होगा। बुकलेट की करीब 25 करोड़ प्रतियां होंगी जिन्हें पंचायतों और सरकारी विभागों में बंटवाया जाएगा। माना जा रहा है कि बुकलेट में 300 उपलब्धियों का जिक्र होगा जिनमें विदेश मंत्रालय के ‘ऑपरेशन राहत’ का भी उल्लेख किया जाएगा। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मोदी सरकार को ‘सूट-बूट वाली सरकार’ बताकर घेरने की कोशिश कर रहे हैं। इस रिपोर्ट कार्ड में किसानों और ग्रामीण विकास पर सरकार की योजनाओं का जिक्र प्रमुखता से किया जाएगा। स्वच्छ भारत अभियान को बुकलेट में अहम स्थान मिलेगा।
शेष पेज 8 पर

Pin It